Submit your post

Follow Us

क्या होता है फ्लावर सुपरमून? भारत में इसे कब देखा जा सकता है

सुपर फ्लावर मून या फ्लावर सुपरमून. एक ही बात है. इसे देखने के लिए लोग बेहद एक्साइटेड हैं. क्योंकि 7 मई को साल 2020 का चौथा और आखिरी सुपरमून दिखने वाला है. पिछले महीने लोगों ने पिंक सुपरमून देखा था, अब फ्लावर सुपरमून की बारी है.

ये सुपरमून क्या होता है? क्या ये फूल जैसा दिखेगा? कब और कहां-कहां दिखेगा? कई सवाल हैं. इनके जवाब एक-एक करके जानते हैं.

सुपरमून क्या होता है?

चांद धरती के चक्कर लगाता है. एक चक्कर 27 से 29 दिन में पूरा होता है. अब ये जो चक्कर है, वो गोल आकार का नहीं होता. अंडाकार में होता है. तो एक चक्कर में एक वक्त ऐसा होता है जिसमें चांद पृथ्वी के सबसे करीब होता है, और एक वक्त में ऐसा होता जब वो पृथ्वी से सबसे ज्यादा दूर होता है.

सुपरमून वाले केस में करीब होने का फंडा काम करता है. जब चांद और पृथ्वी की दूरी सबसे कम हो, और धरती से पूरा चांद (फुल मून/पूर्णिमा) दिखे, तो वो होता है सुपरमून. यानी चांद, पृथ्वी और सूरज तीनों सीधी लाइन में इसी क्रम के मुताबिक मौजूद रहे. क्योंकि फुल मून तभी दिखता है, जब चांद और सूरज के बीच पृथ्वी आती है. सुपरमून की कंडिशन में चांद आम फुल मून के मुकाबले कहीं ज्यादा बड़ा और चमकदार दिखता है.

Supermoon
इस तस्वीर में जैसी कंडिशन दिख रही है, बिल्कुल ऐसी ही कंडिशन में फुल मून बनता है. (फोटो- वीडियो स्क्रीनशॉट Lowell Observatory)

फिल ये फ्लावर कैसे आ गया?

दरअसल, मई के महीने के आस-पास दुनिया के कई हिस्सों में अच्छे खासे फूल खिलते हैं. इसलिए मई के फुल मून को फ्लावर मून कहा जाता है. अब इस बार मई में जो फुल मून पड़ा है, वो सुपरमून भी है. इसलिए इसे फ्लावर सुपरमून कहा जा रहा है. यानी सिर्फ नाम फूल वाला है, चांद फूल जैसा नहीं दिखेगा.

भारत में कब दिखेगा?

शाम 4 बजकर 15 मिनट पर. लेकिन तब तो दिन होता है यहां पर. इसलिए भारत के लोग इसे नहीं देख सकेंगे. लेकिन दुनिया के कई हिस्सों में लोग इसका नज़ारा एन्जॉय ज़रूर करेंगे. नासा की प्रेस रिलीज़ के मुताबिक, फुल मून तो 5 मई की शाम से ही दिखना शुरू हो गया था, लेकिन वो सुपरमून 32 घंटे बाद यानी 7 मई की शाम 4.15 बजे बनेगा. अगली सुबह तक दुनिया के कुछ हिस्सों में लोग इसे देख पाएंगे.

चलते चलते सुपरमून का टेक्निकल नाम भी जान लीजिए

बोलने में बहुत लंबा और जटिल है- perigee syzygy of of the Earth–Moon–Sun system. यानी पृथ्वी-चांद और सूरज के सिस्टम की पैरेजी-सिजेजी.

जब पृथ्वी, चांद और सूरज एक लाइन में होते हैं, तो उसे सिजेजी कहते हैं. पैरेजी- जब चांद और पृथ्वी एक-दूसरे के सबसे करीब होते हैं, उस वक्त उनके बीच की जो दूरी होती है, वो पैरेजी कहलाती है.


वीडियो देखें: मून पर 12 लोग पहुंचाने वाले नासा के अपोलो मिशन 1972 में क्यों बंद हो गए?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

अभी ये सुविधा कुछ ही बैंको तक सीमित है.

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

2013 की बात है जब चहल मुंबई इंडियन्स की तरफ से खेलते थे.

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

कोर्ट ने आकार पटेल को बड़ी राहत दी है.

भारत में कोरोना के XE Variant का पहला केस मिलने के दावे पर सरकार ने क्या कहा?

भारत में कोरोना के XE Variant का पहला केस मिलने के दावे पर सरकार ने क्या कहा?

ये वेरिएंट कितना खतरनाक है, ये भी जान लें.

लल्लनटॉप अड्डा: 9 अप्रैल को मचने वाले धमाल का पूरा शेड्यूल पढ़ लो!

लल्लनटॉप अड्डा: 9 अप्रैल को मचने वाले धमाल का पूरा शेड्यूल पढ़ लो!

हंसी होगी, संगीत होगा और होंगे सौरभ द्विवेदी!

ED ने किन मामलों में सत्येंद्र जैन और संजय राउत के परिवारों की करोड़ों की संपत्ति कुर्क की है?

ED ने किन मामलों में सत्येंद्र जैन और संजय राउत के परिवारों की करोड़ों की संपत्ति कुर्क की है?

कार्रवाई पर संजय राउत भड़क गए हैं.

यूपी सरकार के लिए गोरखनाथ मंदिर हमला 'आतंकी घटना', हमलावर के पिता ने क्या बताया?

यूपी सरकार के लिए गोरखनाथ मंदिर हमला 'आतंकी घटना', हमलावर के पिता ने क्या बताया?

यूपी सरकार ने आरोपी के खिलाफ तगड़ी जांच के आदेश दे दिए हैं.

1 अप्रैल से E-Invoicing अनिवार्य, फर्जी बिल बनाने वालों की नींद उड़ी

1 अप्रैल से E-Invoicing अनिवार्य, फर्जी बिल बनाने वालों की नींद उड़ी

20 करोड़ सालाना बिक्री पर ई-इनवॉइसिंग जरूरी, टैक्स चोरी थमेगी.

रुचि सोया के FPO के 'चमत्कार' को नमस्कार करने के बजाय SEBI ने क्यों दिखाई सख्ती?

रुचि सोया के FPO के 'चमत्कार' को नमस्कार करने के बजाय SEBI ने क्यों दिखाई सख्ती?

वजह पतंजलि समूह का एक कथित संदेश बताया गया है?

योगी सरकार 2.0 में राज्यमंत्री बने नेताओं के बारे में ये बातें जानते हैं आप?

योगी सरकार 2.0 में राज्यमंत्री बने नेताओं के बारे में ये बातें जानते हैं आप?

कई पुराने तो कुछ नए चेहरों को मंत्रीमंडल में जगह मिली है.