Submit your post

Follow Us

'अमपन' के बाद अब ये 'हिका' साइक्लोन क्या है, जो गुजरात के आस-पास मंडरा रहा है?

‘अमपन’ के बाद अब एक और साइक्लोन का ख़तरा मंडरा रहा है. हिका साइक्लोन. ख़तरा गुजरात के आस-पास है. मौसम विभाग के मुताबिक, ‘हिका’ 4-5 जून तक गुजरात के द्वारका ओखा और मोरबी से टकराता हुआ कच्छ की ओर जा सकता है. इस चक्रवात की वजह से कच्छ के कांडला और आसपास के इलाके ख़तरे में हैं. सौराष्ट्र, पोरबंदर, राजकोट, भावनगर भी ख़तरे में हैं. महाराष्ट्र के तटीय इलाकों को भी अलर्ट कर दिया गया है.

जिस तरह ‘अमपन’ बंगाल की खाड़ी में पैदा हुआ चक्रवात था, उसी तरह ‘हिका’ अरब सागर में पनपा है. अरब सागर के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बनते ही गुजरात के मछुआरों को कह दिया गया कि वे कुछ दिन समुद्र किनारे न जाएं.

120 किमी की रफ्तार वाला चक्रवात

मौसम विभाग का अनुमान है कि जमीन से टकराने के वक्त ‘हिका’ चक्रवात की रफ्तार 120 किमी प्रति घंटे तक रह सकती है. इससे पहले सौराष्ट्र के समुद्री तट पर ‘वायु’ चक्रवात भी पैदा हुआ था. लेकिन अच्छी बात ये रही कि ये चक्रवात समुद्र में ही खत्म हो गया. जमीन पर नहीं टकराया.

पिछले साल भी बना था ‘हिका’ चक्रवात

अरब सागर में ही पिछले साल भी ‘हिका’ चक्रवात पैदा हुआ था. उस वक्त गुजरात के साथ-साथ पाकिस्तान के भी कई इलाकों पर इसका ख़तरा था. लेकिन तब चक्रवात के जवाब में अरब सागर में ही एक प्रति चक्रवात यानी एंटी साइक्लोन पैदा हो गया था, जिसने इसे सागर में ही थाम दिया था.

एंटी साइक्लोन क्या होता है?

साइक्लोन में विंड फ्लो यानी हवाओं का डायरेक्शन बाहर से चक्रवात के केंद्र की ओर होता है. जबकि एंटी साइक्लोन में इसका उल्टा होता है. हवा का फ्लो केंद्र से बाहर की ओर होता है. इसलिए जब चक्रवात के जवाब में सागर में एंटी साइक्लोन बन जाता है, तो चक्रवात धीमा पड़ जाता है. क्योंकि एंटी साइक्लोन, साइक्लोन की हवाओं को काटते हुए आगे बढ़ता है.

साइक्लोन में हवाएं Anti Clockwise चलती हैं, जबकि एंटी साइक्लोन में Clockwise. साइक्लोन को मौसम विज्ञान में ख़राब मौसम का इंडिकेटर माना जाता है- तेज़ हवाएं, बेतहाशा बारिश. एंटी-साइक्लोन को अच्छे मौसम का इंडिकेटर माना जाता है- ह्युमिडिटी कम होना, छिटपुट बारिश.


अमपन तूफान: पश्चिम बंगाल की सरकार ने ओडिशा से कुछ नहीं सीखा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.