Submit your post

Follow Us

हिमाचल भाजपा अध्यक्ष ने पहले राहुल गांधी को मां की गाली दी, फिर सफाई देने में और घिनापा कर दिया

15 अप्रैल को हिमाचल बीजेपी प्रेजिडेंट सतपाल सिंह सत्ती का एक बयान सोशल मीडिया पर चल रहा था जिसमें वह कांग्रेस प्रेजिडेंट राहुल गांधी को मां की गाली देते देखे जा रहे थे. उन्होंने कहा था कि एक आदमी ने फेसबुक पर लिखा है जो मैं मंच से नहीं बोल सकता. सतपाल ने कहा- राहुल जी के बारे में हम भी नहीं बोल सकते क्योंकि एक पार्टी के राष्ट्रीय नेता हैं और तीन बार के सांसद हैं. मैंने रणधीर शर्मा (प्रदेश बीजेपी प्रवक्ता) से पूछा कि क्या लिखा है तो उन्होंने कहा कि मैं बता नहीं सकता. आप फेसबुक पर पढ़ो, लोगों में हमसे भी ज़्यादा ग़ुस्सा है.

इसके बाद सतपाल ने कहा- “मैं भारी मन से बोल रहा हूं. उसने लिखा है- इस देश का चौकीदार चोर है, अगर तू बोलता है तो तू ***** है. उसने सीधा लिखा है फ़ेसबुक पर.”

जिस मंच से राहुल गांधी को गाली दी थी. (वीडियो स्क्रीनशॉट)
जिस मंच से राहुल गांधी को गाली दी थी. (वीडियो स्क्रीनशॉट)

इसके बाद मामला बढ़ता देख उन्होंने सफाई दी है. बीबीसी हिंदी से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा-

मैंने उसमें ये बोला कि जैसे आजकल राजनीति नीचे स्तर पर चली गई है कि देश की एक पार्टी के नेशनल प्रेजिडेंट हैं, वह खुद आने को भविष्य का पीएम बताते हैं और वह इस देश के प्रधानमंत्री को लेकर कहते हैं कि चौकीदार चोर है. तो ऐसे में मैंने कहा कि हम लोग तो न ऐसा बोल सकते हैं और न ही बोलना चाहिए किसी को सोशल मीडिया पर. लेकिन जब लोग ऐसा बोलते हैं तो हमसे भी कट्टर लोग हैं, जो लोग गुस्से में आ जाते हैं. मुझे तो वह बोलने में भी भारी लग रहा था लेकिन ये देखिए कि लोगों से कैसे लिखा है. जब आदमी दूसरों को ऐसे बोलेगा तो उन्हें सुनना भी पड़ेगा. फिर आम आदमी सुनाता भी है.

सत्ती ने आगे कहा-

मैंने तो खुद ही कहा कि जो भी ऐसा लिखता है गलत है. लेकिन जब एक देश के प्रधानमंत्री को कोई एक पार्टी का लीडर मंच से जोर-जोर से कहेगा चौकीदार और मंच के नीचे से लोग कहेंगे चोर है. फिर मैंने कहा कि लोग ये लिख रहे हैं जो कि सोशल मीडिया का गलत इस्तेमाल है और हमारे कार्यकर्ता ऐसा न करें.

आखिर में सतपाल सत्ती ने कहा- कोई हमारे प्रधानमंत्री को चोर कहे और हम कुछ भी न कहें?

इस मामले पर हिमाचल प्रदेश के कांग्रेस प्रमुख कुलदीप राठौर ने कहा है कि इससे लोगों में बहुत ज्यादा गुस्सा है. देश की संस्कृति की बात करने वाले ये तथाकथित लोग अपनी हार को देखकर बौखला गए हैं. इतनी अश्लील भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं. हम पीएम मोदी और अमित शाह से कह रहे हैं कि अपने प्रदेश अध्यक्ष को तुरंत हटाएं. हम कानूनी राय भी ले रहे हैं.

सतपाल जो सफाई दे रहे हैं उससे तो ऐसा ही लगता है जब वह अपने बच्चों को गालियों के बारे में बताते हुए कहेंगे कि यह बुरी चीज़ है. गलत है ये. हमें ऐसा नहीं करना चाहिए तो क्या वह बच्चों को गाली भी बताएंगे/सुनाएंगे. आखिर में तो उन्होंने कह भी दिया कि कोई हमारे पीएम को चोर कहे और हम कुछ न कहें? आप इसका जो मतलब लगाएं. अब हम इस पर क्या कहें. गाली-वाली से दूर रहें. बच्चों को भी रखें. एक बात और-किसी को गालियों के बारे में बताते हुए कि यह बुरी चीज़ है उसे ही गाली न सुनाना शुरू कर दें.

चुनाव नजदीक है. नेता लोग चुनाव लड़ने के लिए जी-जान से लगे हुए हैं लेकिन इस सबके बीच गालियां कहां से आ जाती हैं, पता नहीं. 15 अप्रैल को ही आजम खान भी गालियों की वजह से ट्रेंड कर रहे थे. 16 अप्रैल को फ़तेहपुर सीकरी से बसपा के कैंडिडेट गुड्डू पंडित गालियों की वजह से चर्चा में रहेंगे.

चुनाव प्रचार के दौरान गलतबयानी के चलते योगी आदित्यनाथ और मायावती के खिलाफ कार्रवाई के बाद चुनाव आयोग ने केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी और समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान को भी चुनाव प्रचार से रोक दिया है. 


वीडियो- “पानी की जगह हम लोग को गंगाजल मिल गया..जय श्रीराम”

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले मनोज तिवारी ‘आउट’

दिल्ली में हार के बाद बीजेपी का पहला बड़ा फैसला.

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.