Submit your post

Follow Us

पतंजलि की कोरोनिल को लेकर रामदेव ने एक और बड़ा ऐलान कर दिया है

बाबा रामदेव ने 23 जून को कोरोनिल लॉन्च किया. दावा किया कि इससे कोरोना पूरी तरह ठीक हो जाता है. सवाल उठे तो सरकार ने जांच के आदेश दिए. और जब तक जांच पूरी नहीं होती तब तक सरकार ने इस दवा के विज्ञापन पर रोक लगा दी है.

अब रामदेव ने कोरोनिल को लेकर एक और बड़ा ऐलान कर दिया है. उन्होंने कहा कि वो आज से यानी 1 जुलाई से इस दवा को बाज़ार में भेज रहे हैं. प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने कहा,

“आयुष मंत्रालय ने हमारे प्रयासों को सराहा है. दवा से जुड़ी पूरी रिसर्च आयुष मंत्रालय को दी है. जो भी देखना चाहें, देख सकते हैं. हमने क्लीनिकल ट्रायल और रजिस्ट्रेशन दोनों प्रक्रिया में नियमों का पालन किया है. हमने मॉडर्न साइंस के प्रोटोकॉल के तहत रिसर्च की है. हमारी रिसर्च से ड्रग माफियाओं को दिक्कत हो रही है.”

पतंजलि आयुर्वेद का यह ट्वीट देखिए.

रामदेव ने कोरोनिल मार्केट में भेजने का ऐलान कर दिया जबकि आयुष मंत्रालय की जांच अभी चल ही रही है. फिलहाल इस पर आयुष मंत्रालय की तरफ से कुछ कहा नहीं गया है.

30 जून को पतंजलि के बालकृष्ण ने कोरोनिल पर अपने, रामदेव के और पतंजलि के दावे पर यू-टर्न मारते हुए कहा था-

हमने तो कभी कहा ही नहीं कि ये दवा (कोरोनिल) कोरोना को कंट्रोल कर सकती है या ठीक कर सकती है. हमने तो कहा था कि हमने एक दवा बनाई है, इसका क्लीनिकल ट्रायल किया है और इससे कोरोना के मरीज़ ठीक हुए हैं. इसमें कोई भ्रम नहीं होना चाहिए.

23 जून को लॉन्च किया था कोरोनिल

23 जून को उत्तराखंड में रामदेव ने कोरोनिल को लॉन्च किया. दावा किया कि ये कोरोना वायरस की दुनिया की पहली आयुर्वेदिक दवा है. बताया था है कि इस दवाई को बनाने में मुलैठी-काढ़ा सहित गिलोय, अश्वगंधा, तुलसी, श्वासारि का इस्तेमाल किया गया है. पतंजलि ने कहा था कि इस दवा से रेस्पेरेटरी सिस्टम, इम्यून सिस्टम से लेकर पूरे शरीर की ऊर्जा संतुलित होती है और ये रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है. पतंजलि ने ये भी दावा किया था कि कोरोनिल का रिकवरी रेट सौ फीसद और डेथ रेट जीरो है. पतंजलि के इन दावों पर आयुष मंत्रालय ने सवाल उठाते हुए जांच के आदेश दिए थे.


विडियो- पतंजलि आयुर्वेद के ‘कोरोनिल’ के क्लीनिकल ट्रायल पर उठे गंभीर सवाल

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?

लगभग 16 मिनट के राष्ट्र के नाम संदेश में नरेंद्र मोदी ने क्या काम की बात की?

संदेश का सार यहां पढ़िए.

भारत सरकार के चाइनीज़ ऐप बंद करने के स्टेप पर TikTok ने चिट्ठी में क्या लिखा?

अपने यूज़र्स के बारे में भी कुछ कहा है.

PM CARES के तहत बने देसी वेंटिलेटर इस हाल में मिले कि लौटाने की नौबत आ गई

और ख़राब वेंटिलेटर बनाने वालों ने क्या सफ़ाई दी?

भारत में चीन के 59 मोबाइल ऐप बैन, टिकटॉक, यूसी, वीचैट भी लपेटे में

कहा कि देश की सुरक्षा की ख़ातिर इन्हें बैन किया जा रहा है.

गैंगस्टर आनंदपाल एनकाउंटर के बाद हुई हिंसा के लिए CBI ने चार्जशीट में किस-किस का नाम जोड़ा है?

एनकाउंटर की सीबीआई जांच की मांग को लेकर हिंसा हुई थी.

क्या अरुणाचल में चीन भारतीय सीमा में 50 किलोमीटर तक घुस गया है?

बीजेपी सांसद ने यह दावा किया है.

पतंजलि का कोरोनिल लॉन्च करने वाले डॉक्टर ने दवा की सबसे बड़ी गड़बड़ी बता दी!

मरीज़ों को केवल कोरोनिल नहीं दी गई थी.