Submit your post

Follow Us

ममता बनर्जी के भतीजे को मंच पर थप्पड़ मारने वाले की मौत, परिवार का आरोप- हत्या हुई

पश्चिम बंगाल में बीजेपी कार्यकर्ता देबाशीष आचार्य (Debashish Acharya) की गुरुवार 17 जून को संदिग्ध हालात में मौत हो गई. ये वही देबाशीष आचार्य हैं, जिन्होंने 2015 में एक भरी जनसभा में मंच के ऊपर अभिषेक बनर्जी (Abhishek Banerjee) को थप्पड़ मार दिया था. अभिषेक TMC के वरिष्ठ नेता हैं और सीएम ममता बनर्जी के भतीजे हैं. देबाशीष के परिजनों का आरोप है कि उनकी हत्या हुई है.

अस्पताल लाने वाले कौन थे?

देबाशीष आचार्य को 17 जून की सुबह कुछ लोगों ने गंभीर हालत में मिदनापुर में तोमलुक जिला अस्पताल में भर्ती करवाया. इसके कुछ घंटों बाद ही उन्होंने दम तोड़ दिया. आजतक के संवाददाता अनुपम मिश्रा ने अस्पताल के रिकॉर्ड के हवाले से बताया कि तड़के सुबह 4:10 कुछ लोग देबाशीष को लेकर अस्पताल आए थे. उन्हें भर्ती कराने के बाद वो लोग चले गए. घायल देबाशीष ने अस्पताल में दोपहर को दम तोड़ दिया. देबाशीष के परिजनों को जैसे ही घटना का पता चला तो वह आनन-फानन अस्पताल पहुंचे. पुलिस को इत्तला की गई. पुलिस के अधिकारी भी अस्पताल पहुंच गए.

पुलिस की शुरुआती छानबीन में पता चला कि 16 जून की रात देबाशीष अपने दो दोस्तों के साथ मोटरसाइकिल पर घूमने निकले थे. सोनापेटा टोल प्लाजा के पास एक चाय की दुकान पर सभी ने चाय पी. इसी दौरान देबाशीष के मोबाइल पर किसी का फोन आया. वह दोनों दोस्तों को छोड़कर वहां से निकल गए. इसके कुछ घंटे बाद जख्मी हालत में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. पुलिस यह पता लगाने में भी जुटी है कि देबाशीष को अस्पताल में भर्ती कराने वाले आखिर कौन थे.

थप्पड़ के बाद TMC वर्करों ने की थी पिटाई

देबाशीष आचार्य का नाम 2015 में तब सुर्खियों में आया था, जब पूर्वी मिदनापुर के चंडीपुर में जनसभा के दौरान उन्होंने अभिषेक बनर्जी को थप्पड़ मारा था. इसके बाद देबाशीष की TMC कार्यकर्ताओं ने पिटाई कर दी थी और पुलिस को सौंप दिया था. तब घरवालों ने दावा किया था कि देबाशीष की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है. इस घटना के बाद टीएमसी नेता अभिषेक बनर्जी ने तो देबाशीष को माफ करने की बात कही थी. लेकिन कुछ नेता काफी तैश में नजर आए थे. टीएमसी नेता सुब्रत मुखर्जी ने तो थप्पड़ मारने की इस घटना की तुलना पीएम इंदिरा गांधी की 1984 में हुई हत्या से कर दी थी. सुब्रत मुखर्जी ने कहा था कि

“जब इंदिरा गांधी की हत्या हुई थी तो बहुत से लोग मरे थे. यहां पर ऐसा कुछ नहीं हुआ है. युवक अब भी जिंदा है.”

सुब्रत मुखर्जी ने देबाशीष की पिटाई को भी सही ठहराया था. उन्होंने कहा था कि ये पिटाई थप्पड़ मारने की घटना का रिएक्शन थी. इससे भी बुरा हो सकता था. सभी लोग राजनीति में भारत सेवाश्रम संघ या रामकृष्ण मिशन से नहीं आते. कुछ बड़ा नहीं हुआ और युवक जिंदा है. जो हुआ, वो कुछ भी नहीं था.

अभिषेक के कहने पर रफा-दफा हुआ था केस

जब देबाशीष को बंगाल पुलिस के हवाले किया गया तो पुलिस ने भी उन पर गंभीर धाराओं में मामला दर्ज किया. देबाशीष पर आईपीसी की धारा 307 (हत्या का प्रयास), 447 (आपराधिक घुसपैठ), 323 (चोट पहुंचाना) और 506 (आपराधिक धमकी) के तहत आरोप लगाए गए. वहीं, पिटाई करने वाले टीएमसी कार्यकर्ताओं पर भी धारा 308 (गैर इरादतन हत्या का प्रयास) के तहत केस दर्ज किया गया. हालांकि कुछ दिनों बाद ही अभिषेक बनर्जी के कहने पर मामले को रफा-दफा कर दिया गया. इस घटना के बाद साल 2020 में देबाशीष ने बीजेपी जॉइन कर ली. हालिया विधानसभा चुनाव में बीजेपी के लिए प्रचार भी किया था.

बंगाल में चल रहा है सियासी घमासान

ये घटना ऐसे समय सामने आई है, जब बंगाल में बीजेपी और टीएमसी के बीच तनातनी जोरों पर है. हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों में TMC ने बीजेपी को बुरी तरह हराया है. चुनाव खत्म होने के बाद भी सियासी माहौल गरमाया हुआ है. कुछ दिन पहले ही बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय बीजेपी को छोड़कर फिर से TMC में शामिल हो गए हैं. अब बीजेपी के नेता प्रतिपक्ष सुवेंदु अधिकारी ने शुक्रवार को विधानसभा स्पीकर को एक अर्जी दी है और मुकुल रॉय को विधायक के रूप में अयोग्य ठहराने की मांग की है. और भी कई बीजेपी नेताओं के TMC में आने के कयास लगाए जा रहे हैं. सीएम ममता बनर्जी और गवर्नर जगदीप धनखड़ के बीच विवाद चल ही रहा है. ममता बनर्जी लगातार गवर्नर पर बीजेपी का पक्ष लेने का आरोप लगा रही हैं. केंद्र से धनखड़ को वापस बुलाए जाने की मांग भी कर दी है.


वीडियो – पश्चिम बंगाल: बीजेपी के जगन्नाथ सरकार और निशीथ प्रमाणिक ने विधायकी से इस्तीफा दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

चिराग पासवान के चचेरे भाई सांसद प्रिंस राज पर लगे रेप के आरोप का पूरा मामला है क्या?

चिराग पासवान के चचेरे भाई सांसद प्रिंस राज पर लगे रेप के आरोप का पूरा मामला है क्या?

आरोप लगाने वाली महिला के खिलाफ प्रिंस ने भी फरवरी में दर्ज कराई थी FIR.

किसान आंदोलन में शामिल लोगों पर आरोप- पहले ग्रामीण को शराब पिलाई, फिर जिंदा जला दिया!

किसान आंदोलन में शामिल लोगों पर आरोप- पहले ग्रामीण को शराब पिलाई, फिर जिंदा जला दिया!

बहादुरगढ़ की घटना, पुलिस ने दो लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है.

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में बताया, 12वीं के मार्क्स देने का 30:30:40 फॉर्मूला क्या है

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में बताया, 12वीं के मार्क्स देने का 30:30:40 फॉर्मूला क्या है

31 जुलाई से पहले फाइनल रिजल्ट जारी करने की जानकारी भी दी है.

योगी सरकार के संपत्ति रजिस्ट्री को लेकर लगने वाले स्टाम्प शुल्क के नए नियम में क्या है?

योगी सरकार के संपत्ति रजिस्ट्री को लेकर लगने वाले स्टाम्प शुल्क के नए नियम में क्या है?

नए नियम के बाद विवादों में कमी आएगी?

हरिद्वार कुंभ के दौरान बांटी गयी 1 लाख फ़र्ज़ी कोरोना रिपोर्ट? जानिए क्या है कहानी

हरिद्वार कुंभ के दौरान बांटी गयी 1 लाख फ़र्ज़ी कोरोना रिपोर्ट? जानिए क्या है कहानी

अख़बार का दावा, सरकारी जांच में हुआ ख़ुलासा

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

जानिए क्या है पूरा मामला?

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सेना के इतिहास से जुड़ी जानकारियां सार्वजनिक करने की पॉलिसी को मंजूरी

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब के अलावा बाकी चुनाव भी साथ लड़ने की घोषणा.

TMC में घर वापसी करने वाले मुकुल रॉय ने 4 साल बाद बीजेपी छोड़ने का फैसला क्यों लिया?

TMC में घर वापसी करने वाले मुकुल रॉय ने 4 साल बाद बीजेपी छोड़ने का फैसला क्यों लिया?

मुकुल रॉय को बराबर में बिठाकर ममता बनर्जी किन गद्दारों पर भड़कीं?

लक्षद्वीप: किस एक बयान के बाद फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का केस हो गया?

लक्षद्वीप: किस एक बयान के बाद फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का केस हो गया?

पहले TV डिबेट में बोला, फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखा.