Submit your post

Follow Us

ममता बनर्जी ने लॉकडाउन के नियमों में बहुत बड़ा बदलाव किया है

केंद्र सरकार ने 18 मई से 31 मई तक चलने वाले लॉकडाउन के लिए जो गाइडलाइंस जारी की हैं, उसमें सबसे नई बात थी- नाइट कर्फ्यू. लेकिन गाइडलाइंस आने के एक दिन बाद ही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने साफ कह दिया है कि राज्य में नाइट कर्फ्यू लागू नहीं होगा.

गाइडलाइंस में नाइट कर्फ्यू को लेकर कहा गया था–

शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक लोगों की किसी भी तरह की गतिविधि पर पूरी तरह रोक रहेगी. ज़रूरी सामान को छोड़कर बाकी दुकानें भी बंद रहेंगी. नाइट कर्फ्यू. इसे लेकर लोकल प्रशासन दिशा-निर्देश जारी करेगा. धारा-144 का कड़ाई के साथ पालन कराया जाएगा.

साथ ही ममता ने ऐलान किया है कि 21 मई के बाद कंटेनमेंट ज़ोन को छोड़कर अन्य सभी जगहों पर बड़े स्टोर खोल दिए जाएंगे. हालांकि राज्य में लॉकडाउन 31 मई तक जारी रहेगा.

केंद्र की ओर से जारी गाइडलाइंस में कहा गया था कि अभी मॉल और बड़े स्टोर बंद रहेंगे.

105 ट्रेनें चलवाएगा बंगाल

पश्चिम बंगाल के जो मजदूर देश के अलग-अलग हिस्से में फंसे हुए हैं, उन्हें वापस लाने के लिए राज्य सरकार की ओर से 105 अतिरिक्त स्पेशल ट्रेनें चलवाने की कोशिश की जा रही है. मज़दूरों का किराया राज्य सरकार देगी.


गृह मंत्रालय की तरफ से लॉकडाउन 4.0 के लिए जारी की गई गाइडलाइन्स क्या हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

ग्रेटर नोएडा: इस कंपनी के छह कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए गए, तो काम रोक देना पड़ा

अब तीन हज़ार कर्मचारियों की जांच होगी.

लॉकडाउन 4ः स्कूलों में तो छुुट्टी है, पर कॉलेज और कोचिंग सेंटर में पढ़ने वालों का क्या होगा?

सरकार ने मामले को लेकर गाइडलाइन जारी है.

लॉकडाउन बढ़ाने के बाद रेड जोन और आरोग्य सेतु ऐप पर सरकार ने क्या कहा?

लॉकडाउन 31 मई तक जारी रहेगा.

क्या है 'अम्फान', जो अगले 12 घंटे में ओडिशा में भयंकर तबाही मचा सकता है

पश्चिम बंगाल और सिक्किम में भी बड़ी आफत आने वाली है.

लॉकडाउन में मिली छूट, क्या अब प्रैक्टिस पर लौटेगी टीम इंडिया?

टीम इंडिया की मैदान पर वापसी से जुड़ी अपडेट

ग्वालियर: तीनमंजिला इमारत में आग लगी, अब तक सात लोगों की मौत

कुछ लोगों के फंसे होने की आशंका है.

लॉकडाउन 4.0 : दफ्तर जाने वाले लोगों के लिए क्या नियम हैं? किन बातों का रखना होगा ध्यान

क्या ऑफिस के लिए भी अलग से पास बनवाना पड़ेगा?

स्टेडियम तो खुल गए हैं, क्या अब IPL हो पाएगा?

जानें BCCI की प्लानिंग.

इस शख्स ने चुपके से चार लोगों का लोन चुका दिया, अपना नाम तक नहीं बताया

10 लाख रुपए बड़ी रकम होती है.

कोरोना से बचना ही नहीं, दूसरों को बचाना भी है जरूरी, डॉक्टर ने बताया कैसे

इन चार बातों का ध्यान रखेंगे तो आपके आसपास के लोग सुरक्षित रहेंगे.