Submit your post

Follow Us

VVS लक्ष्मण ने विराट कोहली को लेकर वो बात कही जो पूरा देश चाह रहा है

भारतीय कप्तान विराट कोहली को नंबर तीन के बेस्ट वनडे बल्लेबाजों में गिना जाता है. करिअर के 243 में से 182 मैचों में कोहली ने इसी नंबर बैटिंग की है. लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मुंबई में हुए पहले वनडे में विराट नंबर चार पर बल्लेबाजी करने उतरे. मामला जमा नहीं. कप्तान साब 16 रन बनाकर आउट हो गए.

विराट के ‘रेयर फेल्योर’ के बाद सवाल उठने लगे हैं. उनकी बल्लेबाजी पर नहीं, बल्कि इस नए गेमप्लान पर. सवाल उठाने वालों में पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण का नाम भी शामिल है. लक्ष्मण का कहना है, ‘विराट कोहली बेस्ट बल्लेबाज हैं और लिमिटेड ओवर क्रिकेट का एक ही नियम है- आपका बेस्ट बल्लेबाज ज्यादा से ज्यादा बॉल खेले. मुझे नहीं लगता कि उनका नंबर चार पर उतरना टीम को ज्यादा फायदा दे पाएगा. यही बात सचिन तेंदुलकर के साथ भी थी. वे यकीनन दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज रहे, लेकिन नंबर चार पर उतरना उन्हें बिल्कुल पसंद नहीं था.’

दरअसल टीम इंडिया के पास इस समय लिमिटेड ओवर में तीन ओपनिंग बल्लेबाज हैं- रोहित शर्मा, शिखर धवन और केएल राहुल. तीनों बेहतरीन फॉर्म में हैं. प्लेइंग-11 चुनने की यही सिरदर्दी है. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे में तीनों को प्लेइंग 11 में शामिल किया गया था. तीनों ओपनिंग स्लॉट के बल्लेबाज हैं. कप्तान कोहली ने टॉप तीन पोजीशन पर इन तीनों को उतारकर खुद नंबर चार पर आने का फैसला लिया. नतीजा उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा. इसी के बाद से विराट के नंबर चार पर आने के फैसले पर सवाल उठ रहे हैं.

गुरुवार को प्रैक्टिस करते विराट। (फोटो- BCCI)
गुरुवार को प्रैक्टिस करते विराट। (फोटो- BCCI)

अभी बैटिंग ऑर्डर में और बदलाव हो सकते हैं

हालांकि मैच के पहले विराट ने जो बात कही थी, उससे तो यही लग रहा है कि आगे के मैचों में बैटिंग ऑर्डर में बदलाव हो सकते हैं. विराट ने कहा था- ‘रोहित, शिखर और राहुल तीनों इस समय बेहतरीन फॉर्म में हैं और प्लेइंग-11 चुनते वक्त हमारी कोशिश यही रहती है कि हमारे जो भी खिलाड़ी सबसे अच्छी फॉर्म में चल रहे हैं, उन्हें जरूर मौका मिले. इसके लिए अगर मुझे नंबर चार पर भी उतरना पड़े तो जरा भी दिक्कत नहीं है. मैं उस किस्म का कप्तान नहीं हूं, जो अपने रन के बारे में सोचे.’

वर्ल्ड कप के वक्त भी विराट के नंबर चार पर उतरने की बात हुई थी

पिछले साल इंग्लैंड में हुए वर्ल्ड कप के दौरान भी कोहली को चार नंबर पर खिलाने पर विचार हुआ था. टूर्नामेंट में टीम सेमीफाइनल से बाहर हो गई थी. इसके बाद कोच रवि शास्त्री ने बताया था कि जब टीम मिडिल ऑर्डर में मजबूत बल्लेबाज की कमी से जूझ रही थी, तो एक बार ये ख्याल भी आया था कि विराट को नंबर तीन के बजाय चार पर उतारा जाए. ऐसे में वे टॉप ऑर्डर और लोअर मिडल ऑर्डर के बीच मजबूत कड़ी का काम कर पाते. लेकिन तब ऐसा किया नहीं गया था. अब जब तीन ओपनर्स को टीम में फिट करने की बात आई तो फिर टीम इंडिया उसी फॉर्मूले पर लौट आई है.

नंबर चार पर विराट का औसत अच्छा, इंपैक्ट नहीं

विराट ने नंबर तीन पर खेलते हुए 182 मैच में 63.39 की औसत से रन बनाए हैं. वहीं नंबर चार पर खेलते हुए कुल 42 मैच में 55.21 की औसत से रन बनाए हैं. यानी औसत के हिसाब से तो विराट इस पोजीशन पर भी हिट हैं. 2011 वर्ल्ड कप में विराट नंबर चार पर ही खेले थे. लेकिन इस पोजीशन की विराट की बल्लेबाजी में वो इंपैक्ट नहीं रहता, जो नंबर तीन पर रहता है. वहीं पिछले पांच साल में विराट ने नंबर चार पर सिर्फ सात मैच खेले हैं. इन सात मैचों में करीब 10 की औसत से कोहली ने 62 रन बनाए हैं.

नंबर-3 पर विराट :
मैच- 182, रन- 9509, औसत- 63.39, शतक- 36

नंबर-4 पर विराट :
मैच- 42, रन- 1767, औसत- 55.21, शतक- 7


 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

प्रशांत के पक्ष में पूर्व जजों का समर्थन गिनाया तो SC ने कहा- प्लीज़, इस पर हमसे कुछ न कहलवाइए

अवमानना मामले में सजा पर सुनवाई के दौरान जस्टिस अरुण मिश्रा और सीनियर एडवोकेट राजीव धवन में कुछ ऐसे हुई तीखी बहस

सुरेश रैना ने धोनी और अपनी दोस्ती पर कमाल की बात कह दी

CSK फैंस तो इस बात से पक्का सहमत होंगे.

जयपुर में मिट्टी खोदने पर गाड़ियां निकल रही हैं, लेकिन ये सरकार की नई स्कीम नहीं है!

सरकार तो इंतज़ार कर रही है ख़रीदार का.

संजय दत्त के लिए इरफान के बेटे ने वो बात कह दी, जो हर फैन कहना चाहता था

संजय दत्त की तबीयत ठीक नहीं है. उन्होंने इलाज के लिए काम से ब्रेक लिया है.

महात्मा गांधी का जिक्र कर प्रशांत भूषण सुप्रीम कोर्ट से बोले- मैं रहम नहीं मांगूंगा

कहा- अदालत ने मुझे गलत समझा, इसका दुख है, लेकिन मैंने अपना कर्तव्य निभाया था.

सोनाक्षी सिन्हा ने कहा, 'ऑनलाइन ट्रोलिंग बढ़ी क्योंकि लॉकडाउन में लोगों के पास करने को कुछ नहीं'

ट्रोलिंग की तगड़ी विक्टिम रह चुकी हैं सोनाक्षी.

एक अवैध हथियार की तलाश में निकली आंध्र प्रदेश पुलिस को ये क्या-क्या मिल गया!

पुलिस को इसकी उम्मीद कतई नहीं थी.

सोनू सूद के पास मदद के लिए रोज़ जितने मैसेज आते हैं, आंकड़ा जानकर आपको चक्कर आने लगेगा

सोनू सूद ने सबकी मदद ना कर पाने के लिए माफी भी मांगी है.

60 दिनों में चार्जशीट दाखिल नहीं हुई, तो यस बैंक घोटाले के आरोपी वधावन ब्रदर्स को जमानत मिल गई

कपिल वधावन और धीरज वधावन को सीबीआई ने अरेस्ट किया था.

गबन केस में फ़रार दरोगा कोर्ट में सरेंडर करने पहुंचा लेकिन कोरोना ने खेल कर दिया

कोर्ट ने ऐसा काग़ज़ मांग लिया कि बिना सरेंडर वापस जाना पड़ा.