Submit your post

Follow Us

घरवालों से लड़ी, भागी और फिर जीत गई, उसके जज़्बे को हमारा सलाम

12 साल की एक लड़की. खुले आसमान जैसे असीम सपने. ख्वाब ये कि बड़े होकर पुलिस अधिकारी बनेगी. देश और समाज की सेवा करेगी. कुछ कर गुजरने का जज़्बा लिए जुटी रही अपनी पढ़ाई-लिखाई में. उम्र 18 की हुई तो उसके ख़्वाब परवान चढ़ने लगे. अचानक एक दिन उसे अपने घर में चहल-पहल दिखी. पता चला कि उसके गौने की तैयारी हो रही है. घरवालों को कुरेदा तो पता चला कि 2010 में 12 साल की उम्र में ही उसकी शादी हो चुकी है और अब उसे गौना करवाकर पति के घर जाना है. अपने ख्वाब पूरे करने के लिए उसने इस शादी से इनकार कर दिया, घर छोड़ दिया और लंबी कानूनी लड़ाई के बाद अपनी मंज़िल पाने में कामयाब रही.

कहानी पूरी फिल्मी है

जिस रात सुशीला ने घर छोड़ा, डॉ भारती उसे अपनी गाड़ी में ले गईं. उस दौरान वो उनकी गोद में सो गई.
जिस रात सुशीला ने घर छोड़ा, डॉ भारती उसे अपनी गाड़ी में ले गईं. उस दौरान वो उनकी गोद में सो गई.

पूरी कहानी फिल्मी है. लड़की का नाम है सुशीला, जो बाड़मेर जिले के पचपदरा तहसील के भांडियावास गांव की है. 2010 में सुशीला की शादी जोधपुर जिले के बिसलपुर गांव में रहने वाले नरेश के साथ कर दी गई. 12 साल की बच्ची को पता भी नहीं था कि शादी क्या होती है. उसे लगा कि कोई रस्म है. शादी हुई और वो अपने घर में ही आगे की पढ़ाई-लिखाई करने लगी. 2016 में एक दिन उसे पता चला कि उसकी शादी हो गई है और अब उसे गौना करवाकर अपने पति के घर जाना है. सुशीला अड़ गई और शादी कैंसिल करने की ज़िद करने लगी. घर वाले नहीं माने तो 27 अप्रैल 2016 को उसने घर छोड़ दिया. सुशीला की मदद सारथी ट्रस्ट की मैनेजिंग ट्रस्टी और पुनर्वास मनोवैज्ञानिक डॉ. भारती ने की. घर छोड़ने के बाद रात में ही बाड़मेर हाइवे से डॉ. भारती ने सुशीला को रेस्क्यू किया और बाड़मेर बाल कल्याण समिति के सामने पेशकर उसकी कस्टडी ले ली.

कोर्ट ने कैंसिल की शादी

Sushila 3
सुशीला (बाएं) अभी 12वीं की पढ़ाई कर रही है.

सुशीला ने डॉ. भारती के साथ पारिवारिक न्यायालय संख्या एक में शादी को निरस्त करने के लिए अर्जी दी. कोर्ट में सुशीला के पति नरेश ने माना कि सगाई हुई है, शादी नहीं. इससे कोर्ट के सामने भी चैलेंज खड़ा हो गया. फिर शुरू हुआ सुबूत जुटाने का सिलसिला. डॉ. भारती और सुशीला ने नरेश की फेसबुक आईडी को खंगाला. वहां उन्हें शादी के दौरान लिए हुए फोटो मिल गए. कुछ लोग भी गवाही के लिए तैयार हो गए. कोर्ट के सामने उम्र का भी सुबूत पेश किया गया. सारी चीजों को देखने के बाद कोर्ट ने इसे बाल विवाह मानते हुए नौ अक्टूबर को शादी निरस्त करने का फैसला सुनाया.

गवाही के लिए राजी नहीं हो रहे थे लोग

Sushila 4
कोर्ट ने जब शादी कैंसिल करने का आदेश दिया तो सुशीला को अपनी मंजिल नज़र आने लगी.

डॉ भारती ने बातचीत में बताया कि सुशीला का केस उनके लिए बेहद मुश्किल था. सुशीला का पिता हत्या के आरोप में जेल की सजा काट चुका था. वो जमानत पर जेल के बाहर था. इसके अलावा उस पर और भी गैरकानूनी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप समय-समय पर लगते रहे थे. इस वजह से इलाके में लोग उससे डरते थे. इसके अलावा सुशीला के पिता ने शादी में फोटो खींचने से भी मना किया था, जिससे मुश्किलें और भी बढ़ गई थीं. बाद में फेसबुक की मदद से जब सुबूत जुटाए गए तो कुछ लोग भी गवाही देने के लिए राजी हो गए.

तलाक के लिए ज़ोर देते हैं वकील

Child marriage
सांकेतिक तस्वीर

डॉ भारती बताती हैं कि उनकी संस्था अब तक 33 बाल विवाह को खत्म करवा चुकी है. वो बताती हैं कि बाल विवाह जैसे मामलों के निपटारे के लिए भी पारिवारिक न्यायालय का ही सहारा लेना पड़ता है. वहां पर वकील कहते हैं कि शादी खत्म करने के बजाय तलाक करवाकर दोनों को अलग कर सकते हैं लेकिन डॉ भारती कहती हैं कि बाल विवाह जब वैध ही नहीं है तो शादी वैध कैसे हो सकती है. जब शादी वैध नहीं हो सकती तो तलाक का तो सवाल ही नहीं पैदा होता है. ऐसे में हमारा पूरा ज़ोर शादी कैंसिल करवाने पर ही होता है और इस मामले में भी हमें कामयाबी मिली है.

अब अपना सपना पूरा करेगी सुशीला

Sushila 5
बाल विवाह के दंश से छूटी सुशीला ने कहा कि उसके ऊपर जो बंधन था, वो अब दूर हो गया है. अब वो फिर से एक बार पढ़ाई-लिखाई में जुटेगी और पुलिस अधिकारी बनकर समाज की सेवा करेगी. वहीं डॉ. भारती ने कहा कि सुशीला अब पढ़ाई पर ध्यान दे सकेगी. वो कोशिश कर रही हैं कि सुशीला अपने माता-पिता के घर चली जाए और आगे की पढ़ाई उन्हीं लोगों की देख-रेख में पूरी करे.


लल्लनटॉप शो में जायरा वसीम की लल्लनटॉप बातें

ये भी पढ़ें:

भारतीय टीवी का सबसे घिनहा सीरियल अब नहीं दिखेगा

इन देशों में शादियों को लेकर बने कानून जानकर चकरा जाओगे

क्या ‘पहरेदार पिया की’ चोरी का माल है?

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.

दूसरे राज्य इन शर्तों पर यूपी के मजदूरों को अपने यहां काम करने के लिए ले जा सकते हैं

प्रवासी मजदूरों को लेकर सीएम योगी ने बड़ा फैसला किया है.

ऑनलाइन क्लास में Noun समझाने के चक्कर में पाकिस्तान की तारीफ, टीचर सस्पेंड

टीचर शादाब खनम ने माफी भी मांगी, लेकिन पैरेंट्स ने शिकायत कर दी.