Submit your post

Follow Us

मशहूर बंगाली फिल्म अभिनेता सौमित्र चटर्जी का कोलकाता में निधन

बंगाली फिल्मों के मशहूर अभिनेता सौमित्र चटर्जी का 85 साल की उम्र में निधन हो गया. उनका निधन कोलकाता के एक निजी अस्पताल में हुआ. 6 अक्टूबर को उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. उसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया था. कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें अलग वार्ड में शिफ्ट किया गया था.

न्यूरोलॉजी, नेफ्रोलॉजी, कार्डियोलॉजी, क्रिटिकल केयर मेडिसिन के विशेषज्ञों की एक बड़ी टीम पिछले 40 दिनों में सौमित्र चटर्जी के स्वास्थ्य को फिर पटरी पर लाने का प्रयास कर रही थी. लेकिन कोई भी कोशिश सफल नहीं हो पा रही थी. कोरोना रिकवरी के बाद होने वाले प्रभाव के कारण उनके शरीर में इंफेक्शन लगातार बना हुआ था. उन्हें वेंटिलेटर स्पोर्ट पर रखा गया था. उन्होंने 15 नवंबर को दोपहर 12:15 बजे अंतिम सांस ली.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सौमित्र चटर्जी के निधन पर ट्वीट कर उन्हें श्रद्धांजलि दी है-

“श्री सौमित्र चटर्जी का निधन विश्व सिनेमा के साथ-साथ पश्चिम बंगाल और पूरे देश के सांस्कृतिक जीवन के लिए बहुत बड़ी क्षति है। उनके निधन से अत्यंत दुख हुआ है। परिजनों और प्रशंसकों के लिए मेरी संवेदनाएं। ओम शांति!”

 

सौमित्र के निधन से उनके फैन्स भी दुखी हैं और उन्हें सोशल मीडिया पर श्रद्धांजलि दे रहे हैं.

 

कौन थे सौमित्र चटर्जी?

सौमित्र चटर्जी को बंगाली सिनेमा का लेजेंड कहा जाता है. 1959 में ‘अपुर संसार’ फ़िल्म से करियर की शुरुआत करने वाले सौमित्र ने ऑस्कर विजेता फ़िल्म डायरेक्टर सत्यजीत रे के साथ 14 फिल्मों में काम किया था. चारुलता, अभिजान, झिंदर बंदी और आकाश कुसुम जैसी फिल्मों में उन्होंने अपने अभिनय का लोहा मनवाया. उनके एक्सप्रेसन और उनकी दमदार एक्टिंग के कारण वो फ़िल्म निर्माताओं और दर्शकों के प्रिय थे. सौमित्र फ़िल्मी दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से भी सम्मानित थे. उन्हें तीन बार नेशनल अवॉर्ड भी मिला. इसके अलावा उन्हें संगीत नाटक एकेडमी अवॉर्ड और 7 फ़िल्म फेयर अवॉर्ड  मिला. 2004 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मनित किया गया था.


दी लल्लनटॉप शो: कुणाल कामरा पर अवमानना का मामला चल सकता है लेकिन कॉन्टेंप्ट ऑफ कोर्ट की परिभाषा क्या है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.