Submit your post

Follow Us

काशी में रातोंरात मस्जिद को गेरुए रंग में रंगे जाने पर मुस्लिम समुदाय ने क्या कहा?

काशी (Varanasi) में विश्वनाथ मंदिर कॉरिडर का काम लगभग पूरा हो चुका है. 13 दिसंबर को पीएम इसका लोकार्पण भी करने वाले हैं. इसी बीच एक अजीबो-गरोब मामला सामने आया है. यहां के बुलानाला इलाके में स्थित एक मस्जिद को वाराणसी विकास प्राधिकरण (VDA) ने हल्के ‘गेरुआ’ रंग से रंगवा दिया है. यही नहीं, इलाके की दुकानों और घरों को भी इसी रंग से पोत दिया गया है. VDA की इस हरकत से मुस्लिम समुदाय नाराज है, उसने VDA पर तानाशाही का आरोप लगाया है.

रातोंरात बदल दिया गया रंग

आजतक के रिपोर्टर रोशन जायसवाल के मुताबिक मस्जिद की देखरेख करने वाली अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी के मोहम्मद एजाज इस्लाही ने बताया कि उनकी मस्जिद का रंग रातोंरात बदल दिया गया. अगर प्रशासन को इस तरह का कुछ करना भी था, तो पहले एक बार उनसे बात कर लेनी चाहिए थी.

मोहम्मद एजाज ने कहा,

“इस हरकत से मुस्लिम समुदाय में बहुत नाराजगी है, लेकिन अब माहौल ही कुछ ऐसा है कि बोला नहीं जा सकता. पीएम मोदी कॉरिडोर का उद्घाटन करने आ रहे हैं और ये संदेश देने की कोशिश की जा रही है कि इलाके के सारे लोग उनके साथ हैं, लेकिन ऐसा है नहीं.”

मोहम्मद एजाज के अनुसार उन्होंने इसे लेकर आपत्ति दर्ज कराई है और वाराणसी के डीएम से मिलने की कोशिश भी की है, लेकिन मुलाकात नहीं हुई. इसके अलावा काशी विश्वनाथ मंदिर कार्यालय में भी उन्होंने यह मामला उठाया है.

इमारतों पर पुताई करता कारीगर (आजतक)
                                              इमारतों पर पुताई करता कारीगर (आजतक)

मस्जिद का रंग साजिश के तहत बदला गया

अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी के जॉइंट सेक्रेटरी सैयद मोहम्मद यासीन ने आरोप लगाया है कि मस्जिद का रंग साजिश के तहत बदला गया है. आजतक से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा,

“इस इलाके में दो मस्जिदें, एक मज़ार और एक कब्र है. अगर उन्हें भी रंगा जाता तो काफी भयावह स्थिति पैदा हो जाती. यहाँ इसी रास्ते पर एक गुरुद्वारा भी पड़ता है, उसे तो नहीं रंगा गया, हम खुश हैं कि गुरुद्वारे को नहीं रंगा गया. हमारी मस्जिदों का रंग ज्यादातर सफेद और हरा होता है…लेकिन फिर भी इसको जोगिया रंग से मिलते-जुलते रंग से रंग दिया गया. हमने इसके खिलाफ आवाज उठाई है और हमारी आवाज सुनी भी गई है. हमें ये आश्वासन दिया गया है कि मस्जिद को वापस सफेद रंग से रंग दिया जाएगा.”

आसपास के लोग भी नाराज

आजतक ने मस्जिद के पास ही स्थित एक दुकान के मालिक धीरज अग्रवाल से भी बात की. धीरज भी VDA द्वारा की गई पुताई को लेकर नाराज दिखे. वे कहते हैं,

“हमारी दुकान को भी मनमाने ढंग से रंग दिया गया. प्रदेश की हालत वैसी ही है, जैसे जिसकी लाठी उसकी भैंस. जानबूझकर बनारस के माहौल को खराब करने की कोशिश की जा रही है, यहाँ की गंगा-जमुनी तहजीब को खराब करने की कोशिश हो रही है. मस्जिद पर भी रंग रोगन कर दिया गया.” 

गेरुए रंग में रंगी काशी की सड़के
                                              गेरुए रंग में रंगा काशी का बाजार (आजतक)

बस एकरूपता लाने की कोशिश की: VDA

रंग रोगन की जिम्मेदारी निभाने वाले वाराणसी विकास प्राधिकरण के सचिव और काशी विश्वनाथ मंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनील वर्मा ने आजतक को बताया कि रंग रोगन सिर्फ इसलिए किया जा रहा है जिससे एकरूपता आ सके. सुनील वर्मा ने बताया,

“काशी विश्वनाथ कॉरिडोर की तैयारियों के अलावा ये भी कोशिश की जा रही है कि विभिन्न मार्गों का सौंदर्यीकरण भी हो जाए…हमने पहले कई इमारतों को रंगा था और हमारा ये प्रयोग काफी अच्छा रहा. अब हम इसी तर्ज पर मैदागिन इलाके से लेकर गोदौलिया इलाके तक ऐसा करवा रहे हैं.”

इस दौरान गेरुए रंग से रंगाई कराने को लेकर भी VDA सचिव सुनील कुमार ने जवाब दिया. उन्होंने कहा,

“बनारस की ज़्यादातर इमारतें चुनार के लाल बलुआ पत्थर से बनी हैं. इसका रंग हलका पिंक जैसा है. बस हम भी इसी को ध्यान में रखकर इमारतों पर ये रंग करवा रहे हैं, ताकि पूरे इलाके में एकरूपता और सुंदरता आ सके.”

मस्जिद को गेरुआ से रंगवाने को लेकर सुनीकुमार का कहना है कि अभी उनके पास इसे लेकर कोई आपत्ति नहीं आई है. उनके मुताबिक काशी सहिष्णुता और सर्वधर्म का भी संदेश देती आई है और कोई रंग किसी धर्म से नहीं जुड़ा हुआ है.


वीडियो: क्या सोशल मीडिया पर वायरल हो रही ये तस्वीरें राम मंदिर के निर्माण कार्य की हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.