Submit your post

Follow Us

सलीम के शहर वलसाड के मुसलमानों की ये तस्वीरें ख़बरों में क्यों हैं!

नीचे आप जो तस्वीरें देखेंगे, वो इस हेडिंग के साथ भी जा सकती थीं.

मुसलमानों का आतंक को मुंहतोड़ जवाब’.

या फिर‘आतंक का कोई धर्म नहीं होता’.

या‘मुसलमानों ने साबित किया कि वो आतंक के खिलाफ़ खड़े हैं’.

लेकिन मुझे लगता है कि इसको इतना फ़िल्मी बनाने की जगह इसके निहितार्थ तलाश लेने चाहिए. एक सेक्युलर मुल्क में ये ‘ख़बर’ है, इसकी कहीं न कहीं मेरे दिल में टीस ज़रूर है. मुल्क के मौजूदा माहौल के लिए ज़िम्मेदार तत्व और आपसी विश्वास को खोते समाज, दोनों को ही सोचना चाहिए कि एक नॉर्मल और जायज़ प्रतिक्रिया ‘ख़बर’ क्यों है?

 

सलीम शेख के शहर वलसाड में इकट्ठा हुआ मुस्लिम समुदाय.
सलीम शेख के शहर वलसाड में इकट्ठा हुआ मुस्लिम समुदाय.

 

बहरहाल, टिप्पणियां नहीं करते हैं. सीधे बताते हैं आपको कि 12 जुलाई को ‘वलसाड’ शहर में हुआ क्या. ये वही शहर है जहां से वो फेमस बस अमरनाथ गई थी. ये वही शहर है, जहां अमरनाथ यात्रा से 7 लाशें, 19 घायल और 2 हीरो लौट कर आए.

बस सलीम चला रहे थे या हर्ष, ये मसला अब सुलझ चुका है. ड्राइविंग सीट पर सलीम थे और हर्ष उनके बराबर में. दोनों की मिली-जुली बहादुरी और सूझ-बूझ का ही नतीजा था कि उस घातक आतंकी हमले से कई जानें बच पाईं.

 

salim
“आतंकवाद को संदेश है कि हिंदुस्तान का हर हिंदुस्तानी सलीम है.”

 

12 जुलाई की रात वलसाड की जामा मस्जिद में इशा की नमाज़ के बाद कुछ लोग इकट्ठा हुए. इशा की नमाज़ यानी रात की नमाज़. वलसाड नगर पालिका के हॉस्पिटल कमिटी के चेयरमैन सोहेल भाई क़ादरी से हमने बात की. वो इस मीटिंग में मौजूद थे. उन्होंने कहा,

“नमाज़ के बाद तय हुआ कि इस घटना की एक रैली निकालकर निंदा होनी चाहिए. वलसाड के तमाम मुसलमान इस रैली में शरीक हों. ये स्टेटमेंट देने के लिए कि हम आतंकवाद के खिलाफ़ हैं. इस्लाम किसी को मारने की इजाज़त नहीं देता. तकरीबन ढाई से तीन हज़ार लोगों ने इसमें शिरकत की.”

 

20046203_1259151287546492_375780634_n

 

13 जुलाई को शाम चार बजे के करीब वलसाड के बस डिपो के पास वाली फातिमा मस्जिद में सब लोग जमा हुए. वहां से शहर के आज़ाद चौक तक जुलूस निकाला गया. सलीम शेख वहां मौजूद थे. मस्जिद से लेकर आज़ाद चौक तक, वो भी लोगों के साथ चलते रहे. आज़ाद चौक पहुंच कर मृत लोगों के लिए दुआ की गई. एक मिनट का मौन रखा गया.

 

मारे गए लोगों के लिए मौन रखते लोग.
मारे गए लोगों के लिए मौन रखते लोग.

 

एक्स कॉर्पोरेटर इम्तियाज़ुद्दीन क़ाज़ी भी इस रैली को ऑर्गनाइज़ करने वालों में शामिल थे. उन्होंने हमसे फोन पर कहा,

“ये रैली निकालने की मेन वजह ये थी कि हर वक़्त मुसलमानों को शक़ की नज़र से देखा जाता है. जबकि हम भी इसी मुल्क के रहने वाले हैं. हमें भी आतंकवादियों से नफरत है. हम किसी भी तरह के आतंकवाद के फेवर में नहीं हैं. जैसे हर आम भारतीय सोचता है, हम भी वैसे ही सोचते हैं. हम इस रैली के माध्यम से भारत सरकार से अपील करना चाहते थे कि वो इस घटना के दोषियों को कड़ी सी कड़ी सज़ा दे.”

 

इम्तियाज़ुद्दीन काज़ी और सोहेल भाई क़ादरी.
इम्तियाज़ुद्दीन काज़ी और सोहेल भाई क़ादरी.

 

इम्तियाज़ुद्दीन काज़ी साहब ने आगे बताया कि वलसाड का मुस्लिम समाज एक अलग समारोह आयोजित करके सलीम शेख का ग्रैंड सम्मान करेगा. उन्हें किसी इनाम से नवाज़ेगा. हर्ष देसाई के बारे पूछने पर उन्होंने बताया कि वो अस्पताल में हैं. उनका ट्रीटमेंट चल रहा है. उन्होंने इस प्रोपगेंडा पर नाखुशी ज़ाहिर की, जिसमें सलीम की जगह हर्ष के बस चलाने की बातें उड़ाई जा रही हैं.

 

इम्तियाज़ुद्दीन काज़ी और सोहेल भाई क़ादरी.

 

एक ख़ास बात काज़ी जी ने बताई. हमने उनसे पूछा कि इंटरनेट पर तरह-तरह के वर्जन आने के बाद माहौल ख़राब हुआ जा रहा है. क्या वलसाड में भी कोई कम्युनल टेंशन है? इस पर उनका कहना था कि ऐसी कोशिशें हुई तो थीं, लेकिन कामयाब न हो सकीं. कुछ तो ड्राइवर के ‘सलीम’ होने ने और कुछ मुसलमानों द्वारा निकाले गए इस जुलूस ने, ऐसी किसी भी मंशा का डंक निकाल दिया.

 

20046244_1259151404213147_541907159_n

 

वलसाड के मुसलमानों का ये क़दम ज़रूरी था भी और नहीं भी. आदर्श भारत में ऐसे किसी कदम की ज़रूरत नहीं होती. लेकिन हम उस भारत से कोसों दूर आ गए हैं. इसलिए इन तस्वीरों की एकदम से अहमियत बन गई है. इन तस्वीरों को देखिए और किसी भी समुदाय की लेबलिंग करने से पहले थम कर सोचिए. बेसिकली हर आम आदमी खूंरेज़ी के, हिंसा के खिलाफ़ ही होता है. चाहे पैदा किसी भी मज़हब में हुआ है. यकीन कीजिएगा.

 

जुलूस के साथ सलीम शेख.
जुलूस के साथ सलीम शेख.

ये भी पढ़ें:

अमरनाथ यात्रा हमले के वक्त बस सलीम चला रहे थे या हर्ष, सच्चाई यहां जानिए

अमरनाथ श्रद्धालुओं पर हुए हमले का सारा ब्योरा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पेगासस मामले पर SC ने बिठाई कमेटी, जानिए किस किस पहलू से होगी जासूसी की जांच

पेगासस मामले पर SC ने बिठाई कमेटी, जानिए किस किस पहलू से होगी जासूसी की जांच

केंद्र के जवाब से असहमत कोर्ट ने कहा, लोगों की विवेकहीन जासूसी मंजूर नहीं.

आर्यन खान केस: किरण गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा, 18 करोड़ में डील होने की बात सुनी थी

आर्यन खान केस: किरण गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा, 18 करोड़ में डील होने की बात सुनी थी

गवाह प्रभाकर सेल का दावा-8 करोड़ समीर वानखेड़े को देने की बात हुई थी.

LIC पॉलिसी से PAN नंबर लिंक नहीं है, ये बड़ा नुकसान होगा!

LIC पॉलिसी से PAN नंबर लिंक नहीं है, ये बड़ा नुकसान होगा!

लिंक करने का पूरा प्रोसेस बता रहे हैं, जान लीजिए.

यूपी चुनाव: सपा-सुभासपा गठबंधन का ऐलान, राजभर बोले- एक भी सीट नहीं देंगे तो भी समर्थन रहेगा

यूपी चुनाव: सपा-सुभासपा गठबंधन का ऐलान, राजभर बोले- एक भी सीट नहीं देंगे तो भी समर्थन रहेगा

सपा ने ट्वीट कर कहा- 2022 में मिलकर करेंगे बीजेपी को साफ़!

आगरा में पुलिस कस्टडी में सफाईकर्मी की मौत, बवाल के बाद पुलिसकर्मियों पर FIR, 6 सस्पेंड

आगरा में पुलिस कस्टडी में सफाईकर्मी की मौत, बवाल के बाद पुलिसकर्मियों पर FIR, 6 सस्पेंड

थाने के मालखाने से 25 लाख चोरी के आरोप में पुलिस ने पकड़ा था सफाईकर्मी को.

लखीमपुर की जांच से हाथ खींच रही यूपी सरकार? SC ने तगड़ी फटकार लगाते हुए और क्या सवाल दागे?

लखीमपुर की जांच से हाथ खींच रही यूपी सरकार? SC ने तगड़ी फटकार लगाते हुए और क्या सवाल दागे?

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, कभी खत्म न होने वाली कहानी न बन जाए ये जांच.

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल में भारी बारिश के कारण हुई मौतों की संख्या 35 तक पहुंची.

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

इंसाफ दिलाने के लिए धमकियों और खतरों की परवाह नहीं की.

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

पुलिस और सुरक्षा बलों ने इलाके को घेरा.

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री से की बात.