Submit your post

Follow Us

अखिलेश यादव के आरोपों पर योगी का जवाब, कहा- अब बैलट पेपर से भी दिक्कत है!

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी के लगाए आरोपों को खारिज किया है. उन्होंने कहा कि जिला पंचायत अध्यक्ष पदों के चुनाव बीजेपी कार्यकर्ताओं की मेहनत का परिणाम हैं. इससे पहले समाजवादी पार्टी ने चुनाव में धांधली के आरोप लगाए थे. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा था कि सत्ता का इससे बदरंग चेहरा पहले कभी नहीं देखा गया है.

सीएम योगी ने क्या कहा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 75 में से 67 सीटें जीतने पर बीजेपी कार्यकर्ताओं को बधाई दी और कहा कि 2022 के विधानसभा चुनाव में भी पार्टी भारी बहुमत से जीत हासिल करेगी. उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में बीजेपी 300 से अधिक सीटें हासिल करेगी. उन्होंने कहा,

“भारतीय जनता पार्टी की जिलों की टीम को, क्षेत्र की टीम को, और प्रदेश की टीम का भी मैं अभिनंदन करता हूं जिन्होंने मेहनत करके अच्छी रणनीति ते तहत इस कार्यक्रम को आगे बढ़ाया और प्रशासन को भी धन्यवाद देता हूं कि प्रदेश के अंदर पंचायत चुनावों का ये दौर बहुत शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हुआ है. उत्तर प्रदेश में 2017 के बाद से कानून व्यवस्था और सुरक्षा का जो एक मानक स्थापित किया है, आज पंचायत चुनाव का ये महत्वपूर्ण दौर संपन्न हुआ है, प्रशासन और पुलिस को भी मैं बधाई देता हूं और शुभकामनाएं देता हूं.”

जब उनसे पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आरोपों पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा,

“जब हम लोकसभा चुनाव जीतते हैं, विधानसभा चुनाव जीतते हैं तब दोष ईवीएम पर आता है. तब उन्होंने मांग की थी कि बैलट पेपर से चुनाव होने चाहिए. इस बार बैलट पेपर से चुनाव हुए तो वो प्रशासन पर आरोप लगाने लग गए.”

“इटावा के अंदर भारतीय जनता पार्टी का सांसद, बीजेपी के एमएलए. बलिया में बीजेपी के 4 एमपी हैं. दो लोकसभा के और दो राज्यसभा के, दो मिनिस्टर हैं, 5 एमएलए हैं, अगर प्रशासन का दुरुपयोग करना होता तो सर्वाधिक दुरुपयोग यहां होता. लेकिन भारतीय जनता पार्टी दोनों जगहों पर चुनाव हारी है. वहां पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष बने हैं.”

“अगर भारतीय जनता पार्टी जीते तो कभी ईवीएम पर तो कभी प्रशासन पर आरोप लगाना है. और समाजवादी पार्टी जीते तो उनकी मेहनत हो गई. ये भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं की मेहनत है. उनकी मेहनत का परिणाम हमारे सामने आया है.”

क्या कहा था अखिलेश यादव ने?

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा था कि जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव में बीजेपी ने सभी लोकतांत्रिक मान्यताओं का तिरस्कार करते हुए स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव को एक मजाक बना दिया है. सत्ता का ऐसा बदरंग चेहरा कभी नहीं देखा गया.

उन्होंने कहा कि बीजेपी ने अपनी हार को जीत में बदलने के लिए मतदाताओं के अपहरण, उनको मतदान से रोकने के लिए पुलिस और प्रशासन के सहारे बल प्रयोग किया और जबर्दस्ती हेल्पर देकर अपने पक्ष में मतदान करा लिया. बीजेपी की धांधली का विरोध करने पर समाजवादी कार्यकर्ताओं से दुर्व्यवहार किया गया. ऐसा लग रहा था जैसे जनादेश के अपहरण के किए बीजेपी सरकार नंगा नाच करने पर उतारू है.

अखिलेश ने प्रशासन के अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए कहा कि,

“इसमें प्रशासनिक अधिकारियों की मिली भगत भी सामने आई है. प्रशासनिक अधिकारियों को याद रखना चाहिए कि सेवा नियमावली का उल्लंघन करते हुए सत्ता दल के पक्ष में संदिग्ध गतिविधियों में संलिप्त पाए जाने पर उनके विरूद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी.”

उन्होंने कहा कि बीजेपी ने आज जो धांधली जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में की है उसका जवाब अब सन् 2022 में जनता देने को तैयार बैठी है. समाजवादी पार्टी की सरकार बनने पर ही लोकतंत्र बहाल होगा और तभी जनता के साथ न्याय होगा.

75 में से 67 सीटों पर जीती बीजेपी

यूपी में जिला पंचायत अध्यक्ष पदों के लिए हुए चुनाव में बीजेपी 75 में से 67 सीटों पर जीत गई. सीएम योगी और पीएम मोदी ने जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में जीते उम्मीदवारों को बधाई दी. पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में कहा कि “यूपी जिला पंचायत चुनाव में भाजपा की शानदार विजय विकास, जनसेवा और कानून के राज के लिए जनता जनार्दन का दिया हुआ आशीर्वाद है. इसका श्रेय मुख्यमंत्री योगी जी की नीतियों और पार्टी कार्यकर्ताओं के अथक परिश्रम को जाता है. यूपी सरकार और भाजपा संगठन को इसके लिए हार्दिक बधाई.”


 

वीडियो- UP जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के नतीजे आने के बाद क्या बोले अखिलेश और CM योगी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

नेमावर हत्याकांड: आरोपी सुरेंद्र चौहान की प्रॉपर्टी पर चली जेसीबी, CBI जांच की मांग उठी

नेमावर हत्याकांड: आरोपी सुरेंद्र चौहान की प्रॉपर्टी पर चली जेसीबी, CBI जांच की मांग उठी

कांग्रेस का आरोप है कि भाजपा नेता होने के चलते सुरेंद्र चौहान को इस मामले में संरक्षण मिला.

जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर धमाका, DGP दिलबाग सिंह बोले-ड्रोन से हुआ हमला

जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर धमाका, DGP दिलबाग सिंह बोले-ड्रोन से हुआ हमला

दो संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है.

आंदोलन के सात महीने पूरे, किसानों ने देशभर में राज्यपालों को सौंपे ज्ञापन,कुछ जगहों पर झड़प

आंदोलन के सात महीने पूरे, किसानों ने देशभर में राज्यपालों को सौंपे ज्ञापन,कुछ जगहों पर झड़प

चंडीगढ़ और पंचकुला में बवाल.

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ही नहीं, शशि थरूर का अकाउंट भी लॉक कर दिया था ट्विटर ने

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ही नहीं, शशि थरूर का अकाउंट भी लॉक कर दिया था ट्विटर ने

ट्विटर ने क्या वजह बताई?

एक्ट्रेस पायल रोहतगी को अहमदाबाद पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया

एक्ट्रेस पायल रोहतगी को अहमदाबाद पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया

मामला एक वायरल वीडियो से जुड़ा है.

CBSE और ICSE की परीक्षाएं रद्द करने के खिलाफ याचिकाओं को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज किया

CBSE और ICSE की परीक्षाएं रद्द करने के खिलाफ याचिकाओं को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज किया

नंबर देने के फॉर्मूले से सुप्रीम कोर्ट भी सहमत.

LJP में कलह की वजह बताए जा रहे सौरभ पांडेय के बारे में रामविलास पासवान ने चिट्ठी में क्या लिखा था?

LJP में कलह की वजह बताए जा रहे सौरभ पांडेय के बारे में रामविलास पासवान ने चिट्ठी में क्या लिखा था?

चिराग को राजनीति में आने की सलाह किसने दी थी?

सरकार फिल्मों के सर्टिफिकेशन में क्या बदलाव करने जा रही, जो फ़िल्ममेकर्स की आज़ादी छीन सकता है?

सरकार फिल्मों के सर्टिफिकेशन में क्या बदलाव करने जा रही, जो फ़िल्ममेकर्स की आज़ादी छीन सकता है?

कुछ वक़्त से लगातार हो रहे हैं फ़ेरबदल.

यूनिवर्सिटी-कॉलेजों में लग रहे 'थैंक्यू मोदी' के बैनर पर बवाल क्यों हो रहा है?

यूनिवर्सिटी-कॉलेजों में लग रहे 'थैंक्यू मोदी' के बैनर पर बवाल क्यों हो रहा है?

क्या यूनिवर्सिटीज़ और कॉलेजों को सरकारी प्रचार के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है?

ये किन दो नेताओं को चुनाव से ठीक पहले योगी आदित्यनाथ ने बड़ा काम दे दिया है?

ये किन दो नेताओं को चुनाव से ठीक पहले योगी आदित्यनाथ ने बड़ा काम दे दिया है?

कौन हैं रामबाबू हरित और जसवंत सैनी?