Submit your post

Follow Us

बुलंदशहर: पुलिस अधिकारी की हत्या के केस के मुख्य आरोपी ने जीता यूपी पंचायत चुनाव

UP Panchayat Chunav Result: उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के नतीजे आ गए हैं. 2018 में हुई बुलंदशहर हिंसा के आरोपी योगेश राज ने भी चुनाव लड़ा और जीत हासिल की. योगेश एक पूर्व बजरंग दल कार्यकर्ता है जिसपर 2018 में भीड़ को उकसाने का आरोप है. भीड़ द्वारा की गई हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या हो गई थी. योगेश ने बुलंदशहर के वार्ड नंबर 5 से जिला पंचायत सदस्य के लिए निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ा और अपने निकटम प्रतिद्वंदी निर्दोष चौधरी (निर्दलीय) को 2,150 वोटों के अंतर से हरा दिया.

न्यूज़ एजेंसी ANI के मुताबिक योगेश ने अपनी जीत के बाद कहा,

मैं पहले कई संस्थाओं से जुड़ा हुआ था. लेकिन किसानों के मुद्दे और विधवाओं की पेंशन जैसे मुद्दों के लिए आपको पॉलिटिक्स में आना ही पड़ेगा. आप राजनीति के बिना ये काम नहीं कर सकते.

बता दें कि 03 दिसम्बर, 2018 को बुलंदशहर जिले के स्याना (Siyana) में हिंसा हुई थी. इलाके में गौ हत्या की बात फैला दी गई थी. जिसके बाद बेकाबू भीड़ ने चिंगरावठी पुलिस पोस्ट के साथ-साथ दर्जनों वाहनों को आग लगा दी. इस हिंसा में स्याना पुलिस स्टेशन के प्रभारी इंस्पेक्टर सुबोध सिंह और एक अन्य युवक सुमित ( 20 साल) मारे गए थे. इस घटना के बाद जनवरी 2019 में पुलिस ने योगेश को हिंसा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया था. पुलिस ने करीब 44 लोगों को जेल भेजा था. जिनमें से 6 लोगों को घटना के आठ महीने के अंदर जमानत मिल गई. योगेश भी 2019 से ही जमानत पर बाहर है.

Yogesh Raj Arrested
03 दिसम्बर 2018 को हुई हिंसा मामले में पुलिस ने जनवरी 2019 में योगेश को अरेस्ट किया था. फोटो – इंडिया टुडे फाइल

स्याना में हुई हिंसा पर योगेश ने कहा,

स्याना में हुई हिंसा में दो लोग मारे गए थे और उनके परिवार के साथ मेरी पूरी संवेदनाएं हैं. हालांकि मुझपर हिंसा भड़काने का आरोप है, न कि किसी की हत्या करवाने का.

आगे योगेश ने बताया कि वो एक साल पहले तक बजरंग दल के साथ था. लेकिन अब किसी संस्था का हिस्सा नहीं है. साथ ही कहा कि अगर लोग चाहेंगे तो वो आगे जाकर विधानसभा चुनाव भी लड़ेगा. मार्च 2019 में हिंसा की जांच हेतु SIT ने 3000 पन्नों की चार्जशीट दायर की थी. चार्जशीट के मुताबिक हिंसा से पहले योगेश की अन्य आरोपियों के साथ लगातार फोन पर बात हो रही थी. दंगों के वक्त योगेश बजरंग दल कार्यकर्ता था. हालांकि, घटना के बाद बजरंग दल ने बताया कि उनका उससे कोई वास्ता नहीं.


वीडियो: ममता बनर्जी के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने TMC की जीत के बाद बड़ा ऐलान किया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से भी मदद की बात कही गई है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

ऑक्सीजन सप्लाई से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा था.

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

भारत सरकार की ओर से इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.