Submit your post

Follow Us

गोरखपुर: सपा भले जीत रही हो, लेकिन कैंडिडेट ने गिनती शुरू होते ही हार मान ली थी

यूपी के उपचुनाव की काउंटिंग शुरू होने के डेढ़ घंटे के भीतर समाजवादी पार्टी के कैंडिडेट प्रवीण निषाद ने बयान दिया कि वो EVM की वजह से पिछड़ रहे हैं. पर दोपहर होते-होते उनके नेता अखिलेश यादव की पार्टी करीब 12,000 वोटों से आगे हो गई. अब सपा भले योगी आदित्यनाथ की होम-टर्फ पर उनके प्रत्याशी उपेंद्र शुक्ला से जीत रही है, लेकिन निषाद के बयान ने जता दिया कि वो काउंटिंग खत्म होने से पहले ही हार मान चुके थे.

राजनीति सब्र वालों का खेल है. आपके पास पैसा न हो, तब भी आप 25 साल तक मुख्यमंत्री बने रह सकते हैं. आपके पास जनसमर्थन न हो, तो आप लोकसभा नहीं तो राज्यसभा के सांसद हो सकते हैं. आपके पास विज़न हो, तो लंतरानी करके आपकी नैय्या पार लग सकती है. लेकिन गुरू अगर सब्र नहीं है, तो जल्दी चौपट हो जाएंगे.

सब्र पर ये मोनोलॉग इसलिए, क्योंकि गोरखपुर लोकसभा से सपा कैंडिडेट प्रवीण निषाद ने बड़ी हास्यास्पद बेसब्री दिखाई है. 14 मार्च 2018 को यूपी की दो लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव की काउंटिंग हो रही है. गोरखपुर और फूलपुर की इन सीटों पर 11 मार्च को वोटिंग हुई थी. तो गोरखपुर सीट पर वोटों की शुरुआती गिनती में बीजेपी आगे चल रही थी.

गोरखपुर के सपा कैंडिडेट प्रवीण निषाद (माला पहने)
गोरखपुर के सपा कैंडिडेट प्रवीण निषाद (माला पहने)

सुबह सवा 9 बजे तक की काउंटिंग में बीजेपी कैंडिडेट उपेंद्र शुक्ला सपा के निषाद से करीब 3,500 वोटों से आगे चल रहे थे. इसी समय प्रवीण निषाद ने बयान दिया कि उनके ऑब्ज़र्वर को काउंटिंग हॉल से निकाल दिया गया और उनके पिछड़ने के लिए EVM ज़म्मेदार है.

EVM यानी वो मशीन, जिससे वोटिंग होती है. 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव के बाद से बीजेपी पर EVM से छेड़छाड़ के आरोप लगातार लगते रहे हैं. निषाद भी यही सिलसिला आगे बढ़ा रहे थे, जबकि यूपी की दूसरी सीट फूलपुर पर उनकी पार्टी करीब 1,500 वोटों से आगे थी.

फूलपुर से सपा प्रत्याशी नागेंद्र पटेल (चश्मा और लाल टोपी लगाए)
फूलपुर से सपा प्रत्याशी नागेंद्र पटेल (चश्मा और लाल टोपी लगाए)

यहीं उन्होंने जल्दबाजी कर दी. वोटों की गिनती तीन राउंड भी पूरे नहीं हुए थे और उनके EVM वाले बयान से लगने लगा, जैसे वो खुद ही हार मान चुके हों. वो पहले ही धांधली के आरोप लगाने लगे. इसे बेसब्री इसलिए कहेंगे, क्योंकि दोपहर होते-होते गोरखपुर के हालात बदलने लगे. पीछे चल रही सपा ने ज़ोरदार वापसी की और दोपहर के 1 बजे तक प्रवीण निषाद करीब 12,000 वोटों से आगे हो गए.

लोकसभा के एक उपचुनाव में दोपहर तक इतनी बड़ी लीड निर्णायक हो सकती है. जीत-हार तो वोटों की गिनती पूरी होने के बाद ही पता चलेगी, लेकिन दोपहर 1 बजे तक के आंकड़े सपा को मज़बूत स्थिति में दिखा रहे हैं.

गोरखपुर से बीजेपी कैंडिडेट उपेंद्र शुक्ला
गोरखपुर से बीजेपी कैंडिडेट उपेंद्र शुक्ला

इस आरोप को सिरे से खारिज नहीं किया जा सकता कि EVM से छेड़छाड़ नहीं की जा सकती. पर जब सपा गोरखपुर और फूलपुर में मज़बूती से चुनाव लड़ने का दावा करती है, जब उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव वोटिंग से पहले छाती चौड़ी करके दावा करते हैं कि उनकी पार्टी दोनों सीटों पर जीतेगी, तब निषाद को अपनी और अपनी पार्टी की मेहनत पर भरोसा रखना चाहिए. जनता जो फैसला सुना रही है, उसका सम्मान करना चाहिए. और ऐसा बयान देने से पहले कम से कम नतीजे आने का इंतज़ार करना चाहिए.

लोकतंत्र है. किसी को भी किसी के बारे में भी कुछ भी कहने का अधिकार है.


ये भी पढ़ें:

फूलपुर उप-चुनाव: क्या बीजेपी फिर से कमल खिला पाएगी?

कहानी उस लोकसभा सीट की, जहां से तीन बार सांसद रहा शख्स साढ़े पांच साल जेल में रहा

बिहार से कांग्रेस का एक सदस्य कैसे पहुंचेगा राज्यसभा?

राज्यसभा चुनाव: कौन है ये बीजेपी नेता, जिसे पार्टी के अंदर से बाहर तक, सब हराने में जुटे हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

तौकीर रजा कांग्रेस पर आरोप लगा चुके हैं कि उसने मुसलमानों पर आतंकी का टैग लगाया.

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

जानिए UPA के समय हुई इस डील ने कैसे देश को शर्मसार किया.

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

बीबीसी का आरोप, टीम के साथ नरसिंहानंद के समर्थकों ने गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की.

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

मुख्य आरोपी के साथ उसके दोस्तों को पुलिस ने पकड़ लिया है.

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

पार्टी के इस कदम से आहत हरक सिंह रावत मीडिया के सामने भावुक हो गए.

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

Bull Run कांड में सेबी का फैसला, एक ही परिवार के 6 लोगों पर लगा बैन.

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

कांग्रेस की पहली लिस्ट में 50 महिला उम्मीदवार शामिल हैं

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

तस्वीर गौर से देखेंगे तो समझ आ जाएगा, हम तो बता ही देंगे.

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

बीते 24 घंटों के भीतर यूपी के दो कैबिनेट मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है.

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस ने असल में क्या कहा है?