Submit your post

Follow Us

UP: योगी कैबिनेट में नए-नए मंत्री बने इन 7 चेहरों के बारे में जानिए

उत्तर प्रदेश में रविवार, 26 सितंबर को योगी सरकार के कैबिनेट विस्तार का शपथ ग्रहण समारोह हुआ. उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के गुजरात से लखनऊ लौटने के बाद उन्हें कैबिनेट विस्तार के बारे में जानकारी दी गई. लंबे समय से योगी सरकार के कैबिनेट विस्तार के बारे में कयास लगाए जा रहे थे, जिस पर आज विराम लग गया. कैबिनेट विस्तार में सात मंत्रियों ने शपथ ली. शपथ लेने वाले मंत्रियों के बारे में जानते हैं.

जितिन प्रसाद खांटी कांग्रेसी, जो इसी साल कांग्रेस छोड़ भाजपा में आए.जितिन प्रसाद ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा दून पब्लिक स्कूल (उत्तराखंड) से हासिल की. दिल्ली विश्विवद्यालय से बी.कॉम और अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन संस्थान (दिल्ली) से MBA किया. जितिन प्रसाद 2001 में भारतीय युवा कांग्रेस में सचिव बने. 2004 और 2009 में लोकसभा चुनाव जीते. पहली बार जितिन प्रसाद  2008 में  केंद्रीय राज्य इस्पात मंत्री बने. 2014 में लोकसभा हारे. 2017 में विधानसभा लड़े, वो भी हारे. 2019 में फिर लोकसभा हारे. भाजपा में आने के बाद से इन्हें सूबे के ब्राह्मण फेस के तौर पर आगे करने की खुसपुसाहट चल रही है. कैबिनेट में लाने की भी शायद यही वजह रही.

Jitin
जितिन प्रसाद. (फोटो- ANI)

संगीता बिंद बलवंत – डॉ. संगीता बिंद बलवंत गाजीपुर सदर सीट से भाजपा विधायक हैं. 2014 के लोकसभा चुनावों के दौरान भाजपा में आई थीं. मनोज सिन्हा की करीबी मानी जाने वाली संगीता बलवंत को 2017 में टिकट मिला और जीत भी मिली. क्षेत्र की लोकप्रिय नेता हैं. ये बिंद (OBC) जाति से आती हैं और पूर्वांचल में ये वोट बैंक अच्छी-ख़ासी संख्या में है. डॉ संगीता का जन्म गाज़ीपुर शहर में हुआ. इनके पिता पोस्टमैन थे. छात्र जीवन से ही राजनीति का भी शौक रहा है. स्थानीय पीजी कॉलेज, गाज़ीपुर छात्रसंघ की उपाध्यक्ष भी रही हैं. पति डॉ. अवधेश होम्योपैथिक चिकित्सक हैं. संगीता ज़मानियां क्षेत्र से निर्दल जिला पंचायत सदस्य रही हैं.

Sangita
संगीता बलवंत. (फोटो- ANI)

छत्रपाल गंगवार – बरेली की बहेड़ी विधानसभा सीट से भाजपा विधायक हैं. कुर्मी जाति से आने वाले गंगवार इसी सीट से दो बार के विधायक हैं. दमखोदा के रहने वाले छत्रपाल सिंह गंगवार पहली बार 2007 के चुनाव में बहेड़ी सीट से जीते. 2007 में सपा के अताउर्रहमान को कम वोटों के अंतर से हराया था. 2012 में हार गए थे. 2017 में बसपा प्रत्याशी नसीम अहमद को हराकर दूसरी बार विधानसभा पहुंचे. माना जा रहा है कि गंगवार को मंत्रिमंडल में शामिल करके भाजपा संतोष गंगवार की केंद्रीय मंत्रिमंडल से हुई छुट्टी की भरपाई करने के मूड में है. ताकि कुर्मी वोटबैंक बना रहे.

Chatrapal
छत्रपाल गंगवार. (फोटो- ANI)

दिनेश खटीक – मेरठ की हस्तिनापुर विधानसभा सीट से भाजपा विधायक दिनेश खटीक ने भी 2017 में पहली बार भाजपा की ओर से चुनाव लड़ा था. लंबे समय RSS के साथ रहे हैं, फिर भाजपा में. इनके पिता भी संघ के कार्यकर्ता रहे हैं. इनके भाई नितिन खटीक जिला पंचायत सदस्य रह चुके हैं.वर्तमान में वह मेरठ के गंगानगर में रहते हैं. विधायक दिनेश खटीक द्वारा हस्तिनापुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली प्राचीन ऐतिहासिक नगरी में कई बड़े विकास कार्य कराए गए.विधायक दिनेश खटीक के मंत्री बनाए जाने की खबर से क्षेत्र व पार्टी पदाधिकारियों में खुशी का माहौल है.

Dinesh Khatik
दिनेश खटिक को शपथ दिलातीं राज्यपाल आनंदीबेन पटेल. (फोटो- ANI)

संजीव कुमार उर्फ संजय गोंड – सोनभद्र के ओबरा से विधायक हैं. ये भी पहली बार के ही विधायक हैं. 2017 के चुनाव में संजय गोंड ने दिग्गज आदिवासी नेता और पूर्व मंत्री विजय सिंह गोंड के पुत्र वीरेंद्र को हराया था. संजय अनुसूचित जनजाति से आते हैं. इस बिरादरी के लोगों की आस-पास के जिलों में अच्छी तादाद है. संजय की पत्नी लीला देवी जिले के चोपन से ब्लॉक प्रमुख हैं. माना जा रहा है कि इसी को ध्यान में रखते हुए कैबिनेट में जगह दी गई है. 2017 के विधानसभा चुनाव में संजीव ने दिग्गज आदिवासी नेता व पूर्व मंत्री विजय सिंह गोंड़ के पुत्र वीरेंद्र को हराकर विधायक बने थे. संजीव की पत्नी लीला देवी भी जिले के चोपन से ब्लाक प्रमुख हैं.

Sanjay Gond
संजय गोंड को शपथ दिलातीं राज्यपाल आनंदीबेन पटेल. (फोटो- ANI)

धर्मवीर प्रजापति – धर्मवीर प्रजापति आगरा के MLC हैं. मूल रूप से हाथरस के रहने वाले हैं. माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष भी हैं. लंबे समय तक RSS के स्वयंसेवक रहे हैं. संगठन से जुड़े हुए व्यक्ति हैं. धर्मवीर प्रजापति ने आरएसएस के स्वयंसेवक के रूप में काम किया है. वर्ष 2002 मे पहली बार उन्हें प्रदेश का दायित्व मिला. तत्कालीन पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ में वह प्रदेश के महामंत्री बने. इसके बाद दो बार प्रदेश संगठन में मंत्री का दायित्व संभाला.अयोध्या में श्रीराम के दीपोत्सव कार्यक्रम के लिए उन्होंने आगरा, एटा, कन्नौज सहित दूसरे जिलों से डिजाइनर दिए की व्यवस्था कराई थी. यूपी विधान परिषद के द्विवार्षिक चुनाव में भाजपा ने धर्मवीर प्रजापति को उम्मीदवार बनाया था.

Dharamvir
धर्मवीर को शपथ दिलातीं राज्यपाल आनंदीबेन पटेल. (फोटो- ANI)

पलटू राम बलरामपुर से भाजपा विधायक पलटूराम गोंडा जिले के रहने वाले हैं. 2017 में पहली बार विधायक बने. इनकी पत्नी ज्ञानमती भी गोंडा जिला पंचायत अध्यक्ष रह चुकी हैं. 2017 के चुनाव में कांग्रेस-सपा गठबंधन प्रत्याशी शिवलाल को 25 हज़ार वोट से हराया था. पलटूराम 51 वर्ष के हैं. छात्र राजनीति से अपना सफर शुरू किया था. प्रखर वक्ता के रूप में जाने जाते हैं और आम लोगों के बीच का काफी लोकप्रिय है. ज़मीनी नेता की छवि है.

Paltu Ram
पलटू राम. (फोटो- ANI)

अगले साल की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले यह योगी सरकार का अंतिम कैबिनेट विस्तार माना जा रहा है.


UP चुनाव: रंगशाला में डांस करने वाली लड़कियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी कौन लेता है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

जम्मू-कश्मीर: BJP नेता वसीम बारी की हत्या में शामिल आतंकी को सुरक्षाबलों ने मार गिराया

जम्मू-कश्मीर: BJP नेता वसीम बारी की हत्या में शामिल आतंकी को सुरक्षाबलों ने मार गिराया

पिछले साल जुलाई में भाई और पिता के साथ कर दी गई थी वसीम की हत्या.

पंजाब के नए कैबिनेट में सिद्धू और अमरिंदर खेमे से किनको एंट्री मिली?

पंजाब के नए कैबिनेट में सिद्धू और अमरिंदर खेमे से किनको एंट्री मिली?

15 मंत्रियों ने शपथ ली.

चुनाव से पहले CM योगी ने किया गन्ने का समर्थन मूल्य बढ़ाने का ऐलान

चुनाव से पहले CM योगी ने किया गन्ने का समर्थन मूल्य बढ़ाने का ऐलान

जितनी बढ़ोतरी का ऐलान किया है, वो बीजेपी के 2017 के वादे से कम है.

ऑस्ट्रेलिया को हराने के बाद मिताली राज ने बताया जीत के पीछे का राज!

ऑस्ट्रेलिया को हराने के बाद मिताली राज ने बताया जीत के पीछे का राज!

'ऑस्ट्रेलिया को तो हमें ही हराना था'

बल्ले से गेंद लगी, धोनी ने कैच पकड़ा, जश्न हुआ लेकिन अंपायर ने मना कर दिया

बल्ले से गेंद लगी, धोनी ने कैच पकड़ा, जश्न हुआ लेकिन अंपायर ने मना कर दिया

बेहतरीन कैच पर अंपायर ने मना किया तो धोनी ने क्या किया?

भारतीय महिला टीम ने ऑस्ट्रेलिया में क्या इतिहास रच दिया?

भारतीय महिला टीम ने ऑस्ट्रेलिया में क्या इतिहास रच दिया?

रुक गया 26 वनडे मैचों का विजयरथ.

कोलकाता के खिलाफ धोनी ने अपने चैम्पियन प्लेयर को क्यों बिठा दिया?

कोलकाता के खिलाफ धोनी ने अपने चैम्पियन प्लेयर को क्यों बिठा दिया?

बिना किसी बदलाव के उतरा कोलकाता.

गरीबी के कारण स्कूल के दिनों में चाय-पकौड़े बेचे, अब दूसरी बार UPSC निकाला

गरीबी के कारण स्कूल के दिनों में चाय-पकौड़े बेचे, अब दूसरी बार UPSC निकाला

अल्ताफ शेख की सफलता की कहानी.

मैनपुरी के स्कूल पर आरोप- दलित बच्चों के बर्तन अलग रखे जाते थे, उनसे ही धुलवाए जाते थे

मैनपुरी के स्कूल पर आरोप- दलित बच्चों के बर्तन अलग रखे जाते थे, उनसे ही धुलवाए जाते थे

रसोइयों ने कहा- इनके बर्तन नहीं धुलेंगे.

पिता खैनी की दुकान लगाते थे, बेटे ने दूसरी बार UPSC में पाई सफलता

पिता खैनी की दुकान लगाते थे, बेटे ने दूसरी बार UPSC में पाई सफलता

बिहार के निरंजन कुमार की कहानी.