Submit your post

Follow Us

2 दिन पहले यूपी बार काउंसिल की पहली महिला अध्यक्ष बनीं, गोलियों से भूनकर मार डाला

यूपी बार काउंसिल की अध्यक्ष दरवेश यादव को आगरा कचहरी परिसर में गोली मार दी गई. गोली उनके पूर्व सहयोगी वकील मनीष शर्मा ने मारी. मनीष ने अपनी लाइसेंसी रिवाल्वर से दरवेश को ताबड़तोड़ तीन गोलियां मारीं. और फिर खुद को भी गोली मार ली. दरवेश को आनन-फानन में पुष्पांजलि अस्पताल ले जाया गया जहां, डॉक्टरों ने उनको मृत घोषित कर दिया. आरोपी मनीष शर्मा को सिकंदरा हाइवे के किनारे रेंबो हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है. उसे दिल्ली रेफर कर दिया गया है. वो कोमा में बताया जा रहा है.

क्या हुआ?
दरवेश यादव को 9 जून, 2019 को बार काउंसिल ऑफ उत्तर प्रदेश का अध्यक्ष चुना गया था. इसी खुशी में आगरा दीवानी कोर्ट परिसर में उनका सम्मान समारोह था. समारोह में ज्यादातर वकील शामिल थे. मगर इन वकीलों में एक वकील मनीष शर्मा नहीं था. वो दरवेश से रंजिश मानता था. दरवेश और मनीष पहले एक साथ ही एक चैंबर में बैठते थे. बाद में दोनों के बीच मतभेद हो गए. कुछ अधिवक्ताओं ने मनीष को फोन किया. और मौके पर बुलाया. कहा कि गिले-शिके अपनी जगह हैं. इस मौके पर तुमको आना चाहिए. कुछ ही देर में मनीष भी वहां आ गया. वो आया तो सही, लेकिन गुस्से से लबरेज होकर. वो अपनी लाइसेंसी पिस्टल में गोलियां भरकर आया था.

मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि मनीष गुस्से में था. वो आते ही तेज-तेज बोलने लगा. इस पर दरवेश ने उसे समझाने की कोशिश की. बात तब बिगड़ गई, जब दरवेश के एक रिश्तेदार मनोज यादव बीच में बोल पड़े. मनोज का बोलना था कि मनीष ने पिस्टल निकली. और ये बोलते हुए फायर कर दिया कि तुझे तो मैं छोडूंगा नहीं. मगर, मनोज झुक गए और वो बाल-बाल बच गए. मनोज पर गोली चलाने पर दरवेश ने मनीष पर चिल्लाना शुरू कर दिया. इसके बाद मनीष ने एक के बाद एक तीन गोलियां चला दीं. एक गोली दरवेश के सिर में लगी. और दो गोलियां सीने के पार उतर गईं. दरवेश गिर पड़ीं. दरवेश को तीन गोलियां मारने के बाद मनीष ने पांचवीं गोली खुद की कनपटी से सटाकर मार ली. ये गोली मनीष की कनपटी के पार निकल गई.
भरी कचहरी में गोलीबारी होने से हड़कंप मच गया. लोग इधर-उधर भागने लगे. खून से लथपथ दरवेश यादव को पास के ही पुष्पांजलि अस्पताल से जाया गया. अस्पताल में डॉक्टरों ने उनको मृत घोषित कर दिया. इस घटना से पूरे अधिवक्ता समाज में गुस्सा फैल गया. लोग गुस्से में हंगामा करने लगे. घटना की जानकारी मिलने पर एडीजी अजय आनंद और एडीजे अजय श्रीवास्तव पुष्पांजलि हॉस्पिटल पहुंचे.

दरवेश यादव. फेसबुक फोटो.
दरवेश यादव. फेसबुक फोटो.

कौन थीं दरवेश यादव?
दरवेश यादव बार काउंसिल की राजनीति में सक्रिय थीं. वे मूल रूप से एटा की रहने वाली थीं. साल 2016 में उन्हें उत्तर प्रदेश बार काउंसिल का उपाध्यक्ष चुना गया. फिर 2017 में वे कार्यकारी अध्यक्ष रहीं. साल 2012 में दरवेश को पहली बार बार काउंसिल का सदस्य चुना गया था. दरवेश ने आगरा कॉलेज से लॉ की डिग्री हासिल की थी. उन्होंने साल 2004 में वकालत शुरू की थी. रविवार 9 जून के दिन प्रयागराज में हुए चुनाव में दरवेश यादव और वाराणसी के हरिशंकर सिंह को यूपी बार काउंसिल का संयुक्त रूप से अध्यक्ष चुना गया था. अध्यक्ष पद के लिए दरवेश यादव और हरिशंकर सिंह को बराबर 12-12 वोट मिले थे. वोट बराबर होने की वजह से दोनों को 6-6 महीने के लिए अध्यक्ष चुन लिया गया. सहमति के आधार पर दरवेश यादव को पहले 6 महीने के लिए और हरिशंकर सिंह को बाद के 6 महीने के लिए अध्यक्ष रहना था. दरवेश यूपी बार काउंसिल की पहली महिला अध्यक्ष थीं.


 वीडियोः यूपी पुलिस ने पत्रकार को पीटा, चेहरे पर पेशाब करने का आरोप

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लद्दाख में तकरार बढ़ी, तीन जगह चीनी सेना ने मोर्चा लगाया, तंबू गाड़े

दोनों ओर के सैनिकों ने मोर्चा संभाला.

पाताल लोक वेब सीरीज में फोटो से छेड़छाड़ पर BJP विधायक ने की अनुष्का से माफी की मांग

प्रोड्यूसर अनुष्का शर्मा पर रासुका के तहत कार्रवाई की मांग की.

कानपुर स्टेशन पर ट्रेन रुकी और खाने को लेकर आपस में भिड़ गए प्रवासी मज़दूर

दो कोचों के मज़दूर आपस में झगड़ पड़े. कुछ को खाना मिला, बाकी जमीन पर गिर गया.

दुनिया का सबसे तेज़ इंटरनेट, एक सेकेंड में 1000 एचडी मूवी डाउनलोड का दावा

ऑस्ट्रेलिया की तीन यूनिवर्सिटी के टेक रिसर्चर्स ने मिलकर ये कनेक्शन तैयार किया है.

केंद्र से अक्सर लड़ने वाली ममता बनर्जी की पीएम मोदी ने किस बात पर तारीफ की?

पश्चिम बंगाल दौरे पर पीएम मोदी ने 'अमपन' को लेकर एक हज़ार करोड़ रुपए की मदद का ऐलान किया.

रिज़र्व बैंक ने एक बार फिर रेपो रेट घटाया, EMI से तीन महीने और छुटकारा

मार्च और अप्रैल महीने में रिज़र्व बैंक ने रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट घटाया था.

प्लेन और ट्रेन से जाने के लिए टिकट और किराए के नियम सरकार ने बताए हैं

जानिए, रेलवे के ऑफलाइन टिकट कहां से मिल सकते हैं.

क्या गुजरात में खराब वेंटीलेटर की वजह से 300 कोरोना मरीज़ों की मौत हो गई?

कांग्रेस ने विजय रूपाणी सरकार पर वेंटीलेटर घोटाले का आरोप लगाया है.

अब इस तारीख से देश के अंदर फ्लाइट्स से यात्रा कर सकेंगे

इससे पहले 200 नॉन एसी ट्रेन चलने की सूचना दी गई थी.

'अम्फान' आ चुका है, पश्चिम बंगाल में दो की मौत, कई घरों को नुकसान

ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में अपना असर दिखा रहा है.