Submit your post

Follow Us

यूपीः रेप के बाद बच्ची की मौत पर परिवार इंसाफ मांगने पहुंचा तो एसपी ने थप्पड़ जड़ दिए!

एक बार फिर यूपी पुलिस का असंवेदनशील चेहरा सामने आया है. कुछ दिन पहले ही गोरखपुर में मनीष गुप्ता हत्याकांड और फिर लखीमपुर में हुई हिंसा को लेकर यूपी पुलिस की किरकिरी हुई थी. अब आजमगढ़ (Azamgarh) में एक पुलिस अधिकारी का वीडियो वायरल हो रहा है. इसमें एसपी साहब न्याय की गुहार लगा रहे लोगों पर ही गुस्सा निकालते नजर आ रहे हैं. वायरल वीडियो में दिख रहा है कि एसपी एक शख्स को पकड़ पकड़कर खींच रहे हैं, चांटे लगा रहे हैं.

कॉलर पकड़कर खींचा, लगाए थप्पड़

मामला यूपी के आजमगढ़ जिले के रौनापार थाने का है. आजतक की खबर के मुताबिक, कुछ गांववाले अपनी शिकायत लेकर एसपी के पास पहुंचे थे. उनका आरोप है कि उनके परिवार की 8 साल की लड़की का रेप कर उसे सड़क पर फेंक दिया गया था. अस्पताल में इलाज के दौरान लड़की की मौत हो गई. इसके बाद पीड़ित परिवार और कुछ गांववाले शिकायत दर्ज कराने के लिए थाने पहुंचे. उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई. बार-बार थाने के चक्कर काटकर थक चुके पीड़ित न्याय की आस में एसपी ऑफिस पहुंचे.

एसपी के यहां शिकायत करके जैसे ही वो लोग बाहर आए तो कुछ लोगों ने विरोध जताना शुरू कर दिया. इसके बाद आजमगढ़ के एसपी पीड़ित पक्ष के एक युवक को हड़काने लगे. उसे पकड़कर खींचते हुए ले गए. कई थप्पड़ भी जड़ दिए. परिवार के बाकी लोग छोड़ देने की गुहार लगाते रहे. लेकिन एसपी साहब नहीं रुके. वीडियो में एसपी कहते सुनाई दे रहे हैं कि –

“इतनी मार मारूंगा कि तुम्हें ठीक कर दूंगा.”

इतना ही नहीं, एसपी उस युवक को कॉलर पकड़कर बीच सड़क से होते हुए पुलिस अधीक्षक कार्यालय में ले गए. (मामला रेप का है, इसलिए हम आपको वीडियो नहीं दिखा रहे हैं.) इस वीडियो पर सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रिया हुई. लोगों के अलावा विपक्ष भी हमलावर हो गया. समाजवादी पार्टी ने वीडियो ट्वीट करते हुए घटना की आलोचना की. दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की.

पुलिस ने सफाई में क्या कहा?

जब मामले के वीडियो वायरल हुए और हंगामा शुरू हुआ तो आजमगढ़ पुलिस की तरफ से स्पष्टीकरण दिया गया. दावा किया गया कि वो युवक एसपी की कार के आगे लेट गया था. कुछ लोग पत्थर मारने आ गए थे. इस वजह से उसे पकड़कर ले गए थे. आज़मगढ़ पुलिस ने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए लिखा,

“दिनांक 13/10/21 को जनसुनवाई के दौरान थाना रौनापार के कुछ लोगों द्वारा दिए गए प्रार्थना पत्र पर तत्काल एसपी आजमगढ़ के द्वारा मुकदमा पंजीकृत कराने हेतु आदेश दिया गया. इसके बावजूद उन लोगों द्वारा एसपी के वाहन के आगे लेट जाना व पथराव करने के प्रयास के संबंध में एसपी का आधिकारिक वक्तव्य.”

आजमगढ़ के एसपी सुधीर कुमार सिंह ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि,

“बुधवार को रौनापार थाना क्षेत्र के कुछ पुरुष और महिलाएं जन सुनवाई के दौरान मुझसे मिले थे. उनकी जो एप्लीकेशन थी, उस पर मुकदमा पंजीकृत करने का आदेश तत्काल कर दिया गया था. जन सुनवाई के उपरांत जब मैं बाहर निकला तो मेरी गाड़ी के आगे एक कम उम्र का लड़का लेट गया. जिसके बाद कुछ लोग पत्थर मारने के लिए सामने आ गए. उसी पर मेरे द्वारा गाड़ी से उतरकर उसको गाड़ी के सामने से हटाकर उसे ऑफिस में लाकर पूछताछ करके कुछ देर बाद छोड़ दिया गया. इसमें कुछ लोगों ने राजनैतिक लाभ लेने के लिए इस तरह का ट्वीट किया है. सोशल मीडिया पर इसमें कोई सत्यता नहीं है.”

पीड़ितों का कहना है कि स्थानीय थाने पर लड़की के साथ दुष्कर्म की घटना की सूचना दी गई. मौत के बारे में भी बताया गया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई. इसी के बाद वो एसपी ऑफिस पहुंचे थे. बहरहाल पीड़ित परिजनों के साथ आजमगढ़ पुलिस के व्यवहार से एक बार फिर यूपी पुलिस को सवालों के कटघरे में आ गई है.

हालांकि गुरुवार 14 अक्टूबर की दोपहर आज़मगढ़ पुलिस ने ट्विटर पर जानकारी दी कि मामले में आरोपी दीपक को गिरफ्तार कर लिया गया है और इसमें कोई भी कार्यवाही शेष नहीं है.

 


वीडियो – मनीष गुप्ता की पत्नी मीनाक्षी ने नए सवाल उठाए, कहा- आरोपी गोरखपुर पुलिस को ही क्यों मिले?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

किसी ने लोन लेकर परिवार को नया घर दिया था तो कोई दिवंगत पिता के शोक में जाने वाला था.

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

पुलिस ने संदिग्ध आतंकी के पास से एके-47, हैंड ग्रेनेड और कई कारतूस मिलने का दावा किया है.

Urban Company की महिला 'पार्टनर्स' ने इसके खिलाफ मोर्चा क्यों खोल दिया है?

Urban Company की महिला 'पार्टनर्स' ने इसके खिलाफ मोर्चा क्यों खोल दिया है?

ये महिलाएं अर्बन कंपनी के लिए ब्यूटिशियन या स्पा वर्कर का काम करती हैं.

लखीमपुर केस में आशीष मिश्रा 12 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार

लखीमपुर केस में आशीष मिश्रा 12 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार

जांच में सहयोग नहीं करने का आरोप.

नवाब मलिक ने कहा-NCB ने 11 को हिरासत में लिया था फिर 3 को छोड़ क्यों दिया?

नवाब मलिक ने कहा-NCB ने 11 को हिरासत में लिया था फिर 3 को छोड़ क्यों दिया?

NCB की रेड को फर्जी बताया, ज़ोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े की कॉल डिटेल की जांच की मांग की

आशीष मिश्रा लखीमपुर में हैं या नहीं? पिता अजय मिश्रा और रिश्तेदारों के जवाबों ने सिर घुमा दिया

आशीष मिश्रा लखीमपुर में हैं या नहीं? पिता अजय मिश्रा और रिश्तेदारों के जवाबों ने सिर घुमा दिया

अजय मिश्रा कुछ और कह रहे, परिवारवाले कुछ और कह रहे.

RBI ने ऑनलाइन पैसा ट्रांसफर करने वालों को बड़ी खुशखबरी दी है

RBI ने ऑनलाइन पैसा ट्रांसफर करने वालों को बड़ी खुशखबरी दी है

RBI की मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी (MPC) की बैठक आज खत्म हो गई.

लखीमपुर: SC ने यूपी सरकार से रिपोर्ट मांगते हुए ऐसी बात पूछी है कि जवाब देना मुश्किल हो सकता है

लखीमपुर: SC ने यूपी सरकार से रिपोर्ट मांगते हुए ऐसी बात पूछी है कि जवाब देना मुश्किल हो सकता है

विस्तृत रिपोर्ट दाखिल करने के लिए यूपी सरकार को एक दिन का वक्त दिया है.

छत्तीसगढ़: कवर्धा में किस बात पर ऐसी हिंसा हुई कि इंटरनेट बंद करना पड़ गया?

छत्तीसगढ़: कवर्धा में किस बात पर ऐसी हिंसा हुई कि इंटरनेट बंद करना पड़ गया?

रविवार 3 अक्टूबर की शाम से यहां कर्फ्यू लगा है.

पैंडोरा पेपर्स: लक्ष्मी निवास मित्तल के भाई प्रमोद मित्तल पर बड़ी टैक्स चोरी और धोखाधड़ी का आरोप

पैंडोरा पेपर्स: लक्ष्मी निवास मित्तल के भाई प्रमोद मित्तल पर बड़ी टैक्स चोरी और धोखाधड़ी का आरोप

ब्रिटेन की अदालतों में इन दोनों ने अपनी आय शून्य बताई थी.