Submit your post

Follow Us

विकास दुबे की गिरफ्तारी तो हो गई, अब आगे क्या होगा? UP ADG ने बताया

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे. मध्य प्रदेश के उज्जैन में गिरफ्तार हो गया है. विकास के ऊपर कानपुर में आठ पुलिसवालों की हत्या करने का आरोप लगा है. वारदात वाली रात से ही यूपी पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (STF) विकास की तलाश कर रही थी. वो फरार था. वारदात के सातवें दिन उज्जैन पुलिस ने महाकाल मंदिर से उसे गिरफ्तार किया. अब इस मुद्दे पर यूपी ADG (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार ने ‘इंडिया टुडे’ से बात की. उनसे पूछा गया कि क्या विकास की गिरफ्तारी हुई है, या उसने सरेंडर किया है? यूपी पुलिस के पास क्या जानकारी है. जवाब में ADG ने कहा,

“थाना महाकाल में विकास दुबे की गिरफ्तारी होने की जानकारी मिली है. अब ये गिरफ्तारी कैसे हुई है? किन परिस्थितियों में हुई है, इसके संबंध में मध्य प्रदेश की पुलिस द्वारा स्टेटमेंट जारी किया जाएगा.”

ADG से पूछा गया कि विकास को कब और कैसे यूपी लाया जाएगा. उन्होंने जवाब दिया,

“जहां तक हमारे केस की बात है, सब जानते हैं कि 2 और 3 जुलाई की रात उसने जघन्य घटना को अंजाम दिया था. उसके ऊपर राज्य सरकार ने पांच लाख रुपए का इनाम भी रखा था. उसको न्यायिक तरीके से लाने की जो भी कानूनी प्रक्रिया होगी, हम उसे अमल में लाएंगे. और उसे कानून के हवाले करेंगे. हम जल्द से जल्द सभी अभियुक्तों को अपने केस में रिमांड पर लेकर या गिरफ्तार करके आगे की कार्रवाई करेंगे.”

ADG से पूछा गया कि विकास ने थाने के सामने चिल्ला-चिल्लाकर अपना परिचय दिया, क्या यूपी पुलिस के दबाव की वजह से ऐसा किया? जवाब में ADG ने कहा,

“इस बारे में यहां से बिना पूरे तथ्यों को जाने कुछ भी कहना सही नहीं होगा. हमारी टीम एक प्रोसेस के तहत वहां जाएगी. और कानूनी तरीके हम उसको लाएंगे और आगे की कार्रवाई की जाएगी.”

जब ADG प्रशांत कुमार से पूछा गया कि क्या यूपी पुलिस को विकास के मध्य प्रदेश में होने की जानकारी थी? इस पर उन्होंने कहा,

“इस तरह की कोई बात की सूचना हम लोगों को नहीं थी. फिर भी हम लोग अलर्ट थे. अब वो किन परिस्थितियों में कैसे वहा गया, ये सारी चीज़ें जांच/पड़ताल होने के बाद पता चलेंगी.”

कानपुर घटना में शामिल बाकी लोगों पर क्या कार्रवाई?

प्रशांत कुमार ने कहा कि कानपुर की घटना को अंजाम देने में जो भी शामिल है, उनके खिलाफ उत्तर प्रदेश पुलिस का अभियान जारी रहेगा. आगे कहा कि ये अभियान तब तक जारी रहेगा, जब तक उन्हें गिरफ्तार नहीं कर लिया जाता, कोर्ट में पेश नहीं कर दिया जाता, जब तक उन्हें सज़ा नहीं दे दी जाती.

क्या कोई मलाल है?

यूपी पुलिस छह दिनों से विकास को खोज रही थी, लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली थी. मध्य प्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार किया. इस पर जब ADG से पूछा गया कि क्या उन्हें इस बात का मलाल है कि वो उसे (विकास) को नहीं पकड़ पाए. इसके जबाव में ADG ने कहा,

“सभी जगह की पुलिस एक ही है. बहुत सारे अपराधी जो दूसरे प्रदेशों के होते हैं, हम उन्हें भी पकड़ते हैं. मलाल की कोई बात नहीं है. जल्द से जल्द वो गिरफ्तार हो गया, कानून के शिकंजे में आ गया. अब हम न्यायिक तरीके से कार्रवाई करेंगे.”

फिर ADG से पूछा गया कि पांच लाख की इनामी राशि किसे दी जाएगी. इस पर उन्होंने कहा कि ये सारी चीज़ें आगे होंगी.


वीडियो देखें: छह दिन बाद उज्जैन से पकड़ा गया गैंगस्टर विकास दुबे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कानपुर कांड : आरोपी की गिरफ़्तारी में सच कौन बोल रहा? यूपी पुलिस या आरोपी के घरवाले?

वीडियो में क्या कहा कानपुर कांड के आरोपी ने?

विकास दुबे को बचाने के लिए अपने ही साथियों को धोखा देने वाले दो पुलिसवाले धर लिए गए हैं

घटना में आठ पुलिसवाले शहीद हुए थे.

PM Cares के पैसों से बने वेंटिलेटर पर सवाल उठे तो बनाने वाले ने राहुल गांधी को घेर लिया

कहा कि राहुल गांधी के सामने डेमो दिखा सकता हूं.

क्या गलवान में पीछे हटकर चीन 1962 वाली चाल दोहरा रहा है?

58 साल पहले भी ऐसा ही हुआ था. पहले चीन गलवान में पीछे हटा और कुछ दिन बाद भारत पर हमला कर दिया.

सरकार ने वो आदेश दिया है कि कंपनियां मास्क और सैनिटाइज़र के दाम में मनचाहा बदलाव कर सकती हैं

राज्यों ने शिकायत नहीं की, तो सरकार ने आदेश निकाल दिया

बुरी खबर! 'मेरे जीवनसाथी', 'काला सोना' जैसी फ़िल्में बनाने वाले प्रड्यूसर हरीश शाह नहीं रहे

कैंसर से जारी जंग आखिरकार हार गए.

दिल्ली की जेल में सजा काट रहे सिख दंगे के दोषी नेता की कोरोना से मौत हो गई

विधायक रह चुके इस नेता की कोरोना रिपोर्ट 26 जून को पॉज़िटिव आई थी.

श्रीलंका का ये क्रिकेटर हत्या के आरोप में गिरफ्तार

44 टेस्ट, 76 वनडे और 26 टी20 खेल चुका है.

लेह में दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने चीन का नाम लिए बिना क्या-क्या कहा?

जवानों पर, बॉर्डर के विकास पर, दुनिया की सोच पर बहुत कुछ बोला है.

ICMR ने एक महीने में कोरोना की वैक्सीन लॉन्च करने का झूठा दावा किया है!

क्या वैक्सीन के ट्रायल में घपला हो रहा है?