Submit your post

Follow Us

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे गिरफ्तार किए गए, CM उद्धव ठाकरे को थप्पड़ मारने की बात कही थी

महाराष्ट्र की राजनीति में ‘थप्पड़ प्रकरण’ ने हलचल मचा रखी है. इस पूरे हंगामे के केंद्र में हैं केंद्रीय मंत्री नारायण राणे, जिन्हें महाराष्ट्र पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पहले उन्हें हिरासत में लिया गया था. नाराणय राणे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को थप्पड़ मारने की बात कही थी, जिस पर राज्य में जबर्दस्त हंगामा मचा हुआ है. शिवसैनिक इस बयान पर भड़क गए हैं. बीजेपी दफ्तरों पर हमला कर रहे हैं. इंडिया टुडे के मुताबिक, नारायण राणे के खिलाफ 4 FIR हो चुकी हैं. वहीं राणे ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि वे भी कानून जानते हैं. हालांकि बॉम्बे हाई कोर्ट ने उनकी याचिका पर तत्काल सुनवाई करने से इनकार कर दिया. इसके बाद पुलिस ने पहले राणे को हिरासत में लिया, बाद में उन्हें अरेस्ट कर लिया गया.

क्या है पूरा मामला

बीजेपी की जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान नारायण राणे ने सीएम उद्धव को थप्पड़ मारने की बात कही थी. उन्होंने कहा था कि सीएम को ये भी नहीं पता देश कब आजाद हुआ था. केंद्रीय मंत्री यहां तक बोल गए कि अगर वे सीएम के भाषण के वक्त वहां होते तो उन्हें थप्पड़ मारते. आजतक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, राणे ने ये भी दावा किया था आजादी का साल भूलने के बाद उद्धव ने अपने सहयोगी से इस बारे में पूछा था. राणे ने कहा-

ये शर्मनाक है कि मुख्यमंत्री को ये नहीं पता कि हमें आजाद हुए कितने साल हो गए. अपने भाषण के दौरान उन्होंने पीछे मुड़कर अपने सहयोगी से पूछा था. अगर मैं वहां होता तो उन्हें जोरदार थप्पड़ मारता.

राणे के खिलाफ FIR

राणे के इसी बयान पर अब बवाल हो रहा है. उनके खिलाफ शिवसेना से जुड़े लोगों ने नासिक, पुणे और महाड़ में FIR दर्ज कराई हैं. बताया गया है कि नासिक से पुलिस की एक टीम राणे को गिरफ्तार करने के लिए रवाना हुई थी.

समाचार एजेंसी ANI की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पुणे के चतुरशृंगी पुलिस स्टेशन में भी युवा सेना की शिकायत के बाद केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के ख़िलाफ़ FIR दर्ज़ की गई. वहीं, नासिक के कमिश्नर दीपक पांजे ने कहा कि इलाके के शिवसेना प्रमुख ने केंद्रीय मंत्री के बयान को लेकर शिकायत दर्ज कराई है. दीपक पांजे ने इसे गंभीर मामला बताया है और राणे के खिलाफ कार्रवाई के लिए एक टीम भेजने की बात कही है. पुलिस अधिकारी ने वे और उनकी टीम कोर्ट के फैसले का पालन करेंगे.

बयानबाजी भी जारी

इस पूरे मामले में बयानबाजी भी जमकर हो रही है. शिवसेना के सांसद विनायक राउत ने कहा कि राणे अपना मानसिक संतुलन खो बैठे हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी लीडरशिप को इम्प्रेस करने के लिए राणे शिवसेना और उसके नेताओं पर हमला कर रहे हैं. राउत ने कहा,

मोदी कैबिनेट में शामिल होने के बाद उन्होंने अपना मानसिक संतुलन खो दिया है. पीएम मोदी को उन्हें बाहर का रास्ता दिखाना चाहिए.

वहीं, महाराष्ट्र के मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा,

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे मुख्यमंत्री के प्रति जिस तरह की भाषा का प्रयोग कर रहे हैं, वो कान के नीचे थप्पड़ मारने की बात कर रहे हैं. ये पूरे महाराष्ट्र का अपमान है. कानून से बड़ा कोई नहीं और निश्चित रूप से क़ानूनी कार्रवाई होगी.

बीजेपी का क्या कहना है?

वहीं, इस पूरे मामले में बीजेपी ने हाथ खींच लिए हैं. महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि उनकी पार्टी केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की मुख्यमंत्री पर की गई टिप्पणी का समर्थन नहीं करती. हालांकि फडणवीस ने ये भी कहा,

मुख्यमंत्री को भारत की स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव वर्ष याद नहीं रहा, इसके लिए किसी व्यक्ति को गुस्सा आ सकता है, ये स्वा​भाविक है. लेकिन भाजपा वक्तव्य का समर्थन नहीं करेगी.

इसके बाद राज्य के पूर्व सीएम ने कहा कि पुलिस बल का इस्तेमाल कर नारायण राणे की यात्रा को रोकने का प्रयास किया जा रहा है.

राणे ने क्या कहा

इस बीच मामले पर नारायण राणे का भी बयान सामने आया. मंगलवार 24 अगस्त को नारायण राणे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा,

“मुझे इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि मेरे ख़िलाफ़ FIR दर्ज़ की गई है. मैंने कोई अपराध नहीं किया है. 15 अगस्त के बारे में कोई नहीं जानता तो क्या ये अपराध नहीं है? मैंने कहा था कि मैं थप्पड़ मार देता और ये अपराध नहीं है. मैं कोई छोटा-मोटा आदमी नहीं हूं. केंद्रीय मंत्री हूं. मैं किसी के लिए भी जवाबदेह नहीं हूं. मीडिया का आदर कर रहा हूं इसलिए जवाब दे रहा हूं. मैंने कोई गुनाह नहीं किया है. मेरे खिलाफ आदेश निकालने वाले ये कोई राष्ट्रपति हैं क्या? मैं किसी आक्रामकता से नहीं डरता. हम उनसे दोगुनी आक्रामकता दिखा सकते हैं. मैंने इतने साल राजनीति में बिताए हैं. मुझे सारे कानून पता हैं. हमारी भी केंद्र में सरकार है. देखते हैं राज्य सरकार कितनी छलांग लगा सकती है.

नारायण राणे ने कहा कि 15 अगस्त के बारे में सीएम को नहीं पता. सचिव से पूछ रहे हैं. देश का अमृत महोत्सव सीएम को नहीं पता. ये देश का अपमान है. राणे ने कहा कि वे शिवसैनिकों से नहीं डरते और मामले में पुलिस की तत्परता सरकारी आदेश पर है.


वीडियो- महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने डेढ़ सौ करोड़ रुपये अपने विज्ञापन पर ख़र्च कर दिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

राहुल गांधी के लिए Twitter के विरोध में बटेर तलने वाले कांग्रेस वर्कर का अंजाम ये हुआ

ट्विटर द्वारा राहुल गांधी को ब्लॉक करने का विरोध कर रहे थे.

अब Whatsapp से कराएं कोरोना वैक्सीन की स्लॉट बुकिंग, ये है तरीका

स्टेप बाई स्टेप जानकारी.

हिंदू रक्षा दल के पिंकी चौधरी की जमानत याचिका खारिज करते हुए कोर्ट ने तालिबान का जिक्र क्यों किया?

जंतर-मंतर भड़काऊ नारेबाजी मामले में पिंकी चौधरी अग्रिम जमानत लेना चाह रहे थे.

मध्य प्रदेशः पीड़ित चूड़ीवाला गिरफ्तार, छेड़छाड़ और फर्जी दस्तावेज रखने का आरोप

एक छात्रा ने तस्लीम पर छेड़छाड़ के आरोप लगाए हैं.

धंधेबाजों ने अफगानिस्तान की त्रासदी को भी नहीं छोड़ा, 'Kabul Skydiving Club' नाम से टीशर्ट बेच रहे!

लोगों ने देखा तो वेबसाइट की जमकर खबर ली.

टीम इंडिया से डरकर इंग्लैंड ने बदली रणनीति!

पंगा लेना ही नहीं है.

जब कोहली ने कहा- 'ऐसा शोर मचाएंगे कि लॉर्ड्स में सालों तक गूंजेगी हमारी आवाज़'

कप्तान का प्लान तो कामयाब हो गया!

'उमर खालिद को उन खबरों के आधार पर गिरफ्तार किया जिनका सोर्स BJP नेता का ट्वीट था'

जानिए कोर्ट में क्या कुछ हुआ.

थप्पड़ मारने वाली प्रियदर्शिनी से राखी बंधवाने की बात पर कैब ड्राइवर ने क्या जवाब दिया?

30 जुलाई को प्रियदर्शिनी ने कैब ड्राइवर को पीटकर गाड़ी में तोड़फोड़ की थी.

फवाद आलम ने चेतेश्वर पुजारा का कौन सा रिकॉर्ड तोड़ दिया?

गांगुली और गावस्कर तो पहले ही पीछे थे.