Submit your post

Follow Us

हर्षवर्धन WHO के किस ग्रुप के अध्यक्ष बनने वाले हैं? एक साल तक निभाएंगे ये बड़ी जिम्मेदारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हैं डॉक्टर हर्षवर्धन. देश को कोरोना की चपेट से निकालने की सबसे ज्यादा ज़िम्मेदारी उन्हीं की बनती है. इस ज़िम्मेदारी के अलावा अब एक और बड़ा काम उन्हें मिलने वाला है. वो वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइज़ेशन (WHO) के एक्जीक्यूटिव बोर्ड के चेयरमैन बनने वाले हैं. समाचार एजेंसी PTI के मुताबिक, 22 मई को हर्षवर्धन ये पद संभालेंगे, क्योंकि इसी दिन एक्जीक्यूटिव बोर्ड के मेंबर्स की मीटिंग है.

क्या होता है एक्जीक्यूटिव बोर्ड?

WHO की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक, वर्ल्ड हेल्थ असेंबली (WHA) अपने 194 सदस्य देशों में से 34 देश चुनती है. फिर ये सभी देश अपने यहां से ऐसे एक व्यक्ति को नॉमिनेट करते हैं, जिसे हेल्थ के क्षेत्र की काफी जानकारी हो. यानी कुल 34 देशों से 34 लोगों को प्रतिनिधि बनाया जाता है. यही लोग मिलकर एक्जीक्यूटिव बोर्ड बनाते हैं. बोर्ड में हर देश तीन साल के लिए सदस्य होता है. और इन्हीं सदस्य देशों के प्रतिनिधियों में से किसी एक व्यक्ति को चेयरमैन बनाया जाता है. चेयरमैन का कार्यकाल एक साल का होता है, और ये पद सभी 34 सदस्य देशों के बीच रोटेट होता रहता है.

अभी जैसे जापान के डॉ हिरोकी नाकातानी एक्जीक्यूटिव बोर्ड के अध्यक्ष हैं. 22 मई को डॉ हर्षवर्धन ये पद संभाल लेंगे.

क्या काम होता है इस बोर्ड का?

WHA जो फैसले लेती है, जो नीतियां बनाती है, उन्हें प्रभाव में लाने का काम बोर्ड का होता है. इसके अलावा ये बोर्ड स्वास्थ्य  नीतियों के संबंध में WHA को सलाह भी देता है.

साल में दो बार एक्जीक्यूटिव बोर्ड के मेंबर्स की मीटिंग होती है. एक जनवरी में, दूसरी मई में. मई वाली मीटिंग WHA की मीटिंग के तुरंत बाद होती है. इस बार 18-19 मई को WHA की मीटिंग हुई. इसी दौरान WHO ने बोर्ड के दस नए सदस्यों के नामों का फाइनल ऐलान किया.

पिछले साल ही भारत की सदस्यता पर फैसला हुआ था

PTI की रिपोर्ट के मुताबिक, 2019 में ही WHO के साउथ-ईस्ट एशिया ग्रुप ने तय कर लिया था कि भारत तीन साल के लिए एक्जीक्यूटिव बोर्ड का मेंबर बनेगा. एक अधिकारी ने जानकारी दी कि ये फुल टाइम असाइंमेंट नहीं है, हर्षवर्धन को केवल मीटिंग्स क अध्यक्षता करनी होंगी.

हाल ही में हुई WHA को संबोधित करते हुए हर्षवर्धन ने कहा था कि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए भारत ने सही वक्त पर सभी ज़रूरी कदम उठाए हैं. ये भी कहा कि देश ने इस महामारी से लड़ने में काफी अच्छा किया है और आगे भी करते रहेंगे.


वीडियो देखें: चीन के विरोध के बावजूद ताइवान को WHO की मीटिंग में लाने के लिए जुटे भारत समेत कई देश

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

प्रियंका गांधी ने जो गाड़ियां यूपी भेजी हैं, उनमें कितनी बसें हैं, कितने ऑटो?

छह सूचियों में कुल 1049 गाड़ियों की डिटेल्स भेजी गई है.

देशभर में 200 और ट्रेनें चलने की तारीख़ आ गई है

इस बार ख़ुद रेल मंत्री ने बताया है.

लॉकडाउन 4: दफ़्तरों के लिए क्या गाइडलाइंस हैं?

इस लॉकडाउन में तमाम तरह की छूट दी गई हैं.

प्रियंका गांधी वाड्रा की 1000 बसों में कुछ नंबर ऑटो और कार के कैसे निकल गए?

हालांकि संबित पात्रा ने भी जिस बस को स्कूटर बताया, वहां एक पेच है.

मज़दूरों की लाश की ऐसी बेक़द्री पर झारखंड के सीएम कसके गुस्साए हैं

घायल मज़दूरों के साथ अमानवीय व्यवहार करने का आरोप.

कोरोना की वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, जल्द ही आखिरी स्टेज का टेस्ट होने की उम्मीद

जुलाई के महीने को लेकर अहम बात भी कह डाली है.

केजरीवाल ने लॉकडाउन 4 में बहुत सारी छूट दे दी हैं

ऑड-ईवन आ गया, लेकिन ट्रांसपोर्ट में नहीं.

लॉकडाउन 4: पर्सनल गाड़ी से शहर या राज्य के बाहर जाने के क्या नियम हैं?

केंद्र सरकार ने इस पर क्या कहा है?

कोरोना संक्रमण के बीच स्विगी ने बहुत बुरी खबर दी है

दो दिन पहले जोमैटो ने भी ऐसा ही ऐलान किया था.

ममता बनर्जी ने लॉकडाउन के नियमों में बहुत बड़ा बदलाव किया है

केंद्र सरकार की नई बात मानने से मना कर दिया!