Submit your post

Follow Us

'उड़ान' फेम एक्टर ने सुशांत मामले पर पूछा, '10 सालों में कितने लोगों ने मेरी पर्सनल ग्रोथ की परवाह की?'

सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून को सुसाइड कर लिया था. 15 जून, सोमवार को उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया. सुशांत की मौत पर कई लोगों के बयान आए. ट्विटर पर उन्हें लेकर लोग लगातार लिख रहे हैं. बॉलीवुड स्टार्स भी उनसे जुड़ी हुई बातें बता रहे हैं. अब 2010 मेें आई फिल्म ‘उड़ान’ में मुख्य अभिनेता रहे रजत बरमेचा ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो पोस्ट किया है.

इंस्टाग्राम पोस्ट देखें- 

 रजत ने सुशांत के मौत के बाद लोगों के लिखने पर अपनी बात कही है. रजत ने कहा,

मैंने अभी अपना सोशल मीडिया एकाउंट देखा. लोग सुशांत सिंह राजपूत के बारे में अच्छी चीजें लिख रहे हैं. लोग कह रहे हैं कैसे इंडस्ट्री ने एक इतने शानदार अभिनेता को खो दिया. वो बहुत प्यारा इंसान था… वगैरह..वगैरह. लेकिन मेरी समस्या ये है कि अभी क्यों? तब क्यों नहीं जब वह इंसान इस स्थिति से गुजर रहा था. आपने कुछ नहीं किया. क्योंकि यह फिल्म इंडस्ट्री है. यहां हर शुक्रवार एक्टर की लाइफ चेंज होती है. क्यों? हमारे पास शुक्रवार ही क्यों है किसी को आंकने के लिये. इतने सारे इंडस्ट्री के लोग और मीडिया के लोग लिख रहे हैं. वो अभी क्यों लिख रहे हैं? जब नेटफ्लिक्स पर ‘ड्राइव’ आयी थी, लोगों के पास उसे कहने को कितनी सारी चीजें थीं.

बॉलीवुड में सफलता को लेकर बनाये गए पैमानों पर रजत ने कहा कि लोगों को एक मिनट नहीं लगता यह कहने में कि फिल्म नहीं चली तो करियर खत्म हो गया. उन्होंने कहा,

एक अभिनेता अपना करियर शुरु करता है और कुछ चीजें खराब हो जाती हैं तो लोगों कहने में एक मिनट भी नहीं लगता कि अरे! करियर खत्म हो गया. अब कुछ नहीं कर सकते. मैं आज नहीं जानता कि क्या चीजें थी जिसने सुशांत को ऐसा कदम उठाने के लिए मजबूर किया लेकिन हो सकता है कि एक प्रतिशत भी यह बात उनके मन में हो. लोग क्या क्या कहते होंगे उनकी फिल्म के न चलने पर.

इसके बाद रजत ने अपनी स्थिति को साझा करते हुए कहा,

मैं खुद पिछले दस सालों से इन सवालों के जवाब दे रहा हूं, कि उड़ान के बाद अब अगली बड़ी फिल्म कौन सी है. कब आएगी. मैं हर किसी से पूछना चाहता हूं कि किसी ने यह नहीं जानना चाहा कि मैं दस सालों में पर्सनली कितना ग्रो किया. आप में से कितनों ने मेरे पिछले दस सालों के पर्सनल ग्रोथ के बारे में परवाह की है? फिल्मों को भूल जाइये. भूल जाइये कि मैंने कोई फिल्म की है. क्योंकि यह मेरा जीवन नहीं है. यह मेरा काम है. काम, सुशांत सिंह राजपूत के जीवन का एक हिस्सा था. वो उनका पूरा जीवन नहीं था.

रजत ने अपने इर्द-गिर्द के लोगों के प्रति धन्यवाद प्रकट किया कि वो हमेशा उनके साथ रहे हैं. रजत ने कहा,

मैं पर्सनली अपना और अपने आस-पास के लोगों का धन्यवाद करना चाहता हूं कि उन्होंने मुझे सुपर स्ट्रांग बनाया. इसलिए मुझे बहुत फर्क नहीं पड़ता लेकिन यह बहुत सारे लोगों को प्रभावित कर सकता है. लोगों के पास हमेशा कुछ न कुछ कहने को होता है. कि यार साल में एक भी मूवी नही है. फिर आपके पास एक फिल्म होगी तो कहेंगे, अरे! उसके पास दो फिल्में हैं. इन चीजों का फर्क नहीं पड़ना चाहिए. लोगों को तय मत करने दें.

रजत ने लोगों के साथ रहने और उनका भरोसा जीतने की बात कही. रजत ने आखिरी में कहा कि लोगों का भरोसा बनाइये कि आप सच में उनकी परवाह करते हैं.


वीडियो देखें: सुशांत सिंह राजपूत ने सुसाइड से पहले किस दोस्त को कॉल किया था, जिससे उनकी बात नहीं हो पाई?

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लद्दाख: गलवान घाटी में भारत-चीन झड़प पर विपक्ष के नेता क्या बोले?

सेना के एक अधिकारी समेत तीन जवान शहीद हुए हैं.

क्या परवीन बाबी की राह पर चल पड़े थे सुशांत?

मुकेश भट्ट ने एक इंटरव्यू में कहा.

सुशांत के पिता और उनके विधायक भाई ने डिप्रेशन को लेकर क्या कहा?

फाइनेंशियल दिक्कत की ख़बरों पर भी बोले.

मुंबई में सुशांत सिंह राजपूत को दी गई अंतिम विदाई, ये हस्तियां हुईं शामिल

मुंबई में तेज बारिश के बीच अंतिम संस्कार.

सुशांत ने किस दोस्त को आख़िरी कॉल किया था?

दोस्त फोन रिसीव न कर सका. जब तक कॉल बैक किया, देर हो चुकी थी.

सुशांत के साथ काम कर चुके मनोज बाजपेयी, राजकुमार राव और अनुष्का शर्मा ने क्या कहा?

सुशांत ने 11 फिल्मों में काम किया था.

सुशांत के सुसाइड से जुड़ी शुरुआती डिटेल्स आ गई हैं, सुबह 10 बजे तक सब ठीक था

किसे कॉल किया था? घर में कितने लोग थे? वगैरह.

कभी फिल्मी सितारों के पीछे नाचते थे सुशांत, फिर एकता कपूर ने कहा- मैं तुझे स्टार बनाऊंगी

सुशांत सिंह राजपूत ने फिल्मों से पहले छोटे पर्दे पर काम किया था.

मुम्बई से लेकर सुशांत के पटना वाले घर तक हर तरफ भयानक सदमा है

सुशांत के पिता पटना में रहते हैं. सदमे में चले गए हैं.

13 जून की रात सुशांत के दोस्त उनके साथ उनके घर पर रुके थे

14 जून की सुबह जब कई बार बुलाने पर भी दरवाज़ा नहीं खुला, तो शक हुआ.