Submit your post

Follow Us

दिल्ली: चार लोगों को कोरोना की दवा के नाम पर ज़हर पिलाया, वारदात की वजह और भी अजीब है!

नॉर्थ दिल्ली में अलीपुर नाम का एक इलाका है. यहां रहने वाला एक परिवार इस वक्त अस्पताल में ज़िंदगी और मौत के बीच जूझ रहा है. दरअसल, उन्हें कोरोना वायरस की दवा के नाम पर किसी ने ज़हर पिला दिया था. ‘इंडिया टुडे’ से जुड़े तनसीम हैदर ने मामले की ज्यादा जानकारी दी. बताया कि ज़हर पिलाने के आरोप में पुलिस ने दो औरत और एक आदमी को गिरफ्तार कर लिया है.

क्या है पूरा मामला?

होमगार्ड विक्रम अपनी मां, चाचा और एक अन्य रिश्तेदार के साथ अलीपुर में रहता है. 17 मई को उनके घर में दो औरतें आईं. दोनों ने खुद को हेल्थ वर्कर बताया. कहा कि जैसे पोलियो की दवा दी जाती है, उसी तरह सरकार की ओर से कोरोना से बचाव के लिए घर-घर दवा पिलाई जा रही है. ये भी कहा कि वो दोनों उन चारों को वही दवा पिलाने आए हैं. फिर दोनों औरतों ने चारों को दवा पिला दी और वहां से चलते बनीं.

थोड़ी ही देर बाद चारों बेहोश हो गए. पड़ोसियों ने जब उन्हें बेहोश पड़ा देखा, तो अस्पताल ले गए. चारों अभी राजा हरिश्चंद्र अस्पताल में भर्ती हैं. हालत गंभीर है.

इधर मामला पुलिस तक पहुंचा. छानबीन शुरू हुई. दो दिन बाद पुलिस ने महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया. पूछताछ हुई, तो महिलाओं ने बताया कि प्रदीप नाम के आदमी के कहने पर उन्होंने ये काम किया था. दोनों उसकी ही फैक्ट्री में काम करती हैं. प्रदीप रमजानपुर इलाके का रहने वाला था. महिलाओं के बयान पर पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार किया. पूछताछ की, तो उसने ज़हर पिलाने की बात कुबूल कर ली.

ज़हर देने का क्या कारण था?

जांच में सामने आया कि कुछ महीनों पहले तक वो प्रदीप और विक्रम पड़ोसी हुआ करते थे, लेकिन उसी दौरान विक्रम का प्रदीप की पत्नी के साथ रिलेशन बन गया. ये बात जब प्रदीप को पता चली, तो विक्रम से उसका बहुत झगड़ा हुआ. फिर वो अपनी पत्नी को लेकर दूसरी जगह रहने चला गया. उसके बाद भी विक्रम और प्रदीप की पत्नी के बीच मिलना-जुलना होता रहा. उसने दोनों को समझाया, वो नहीं माने. इस पर फिर प्रदीप ने विक्रम और उसके पूरे परिवार को खत्म करने की प्लानिंग कर डाली. आरोप है कि उसने अपनी फैक्ट्री में काम करने वाली दो औरतों को पैसों का लालच दिया और हेल्थ वर्कर बनाकर विक्रम के घर भेज दिया.

फिलहाल, तीनों आरोपी पुलिस की गिरफ्त में है. जांच चल रही है.

देखिये भारत में कोरोना कहां-कहां और कितना फैल गया है.


वीडियो देखें: संभल: सड़क को लेकर विवाद हुआ, तो SP के दलित नेता और उनके बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

प्रियंका गांधी ने जो गाड़ियां यूपी भेजी हैं, उनमें कितनी बसें हैं, कितने ऑटो?

छह सूचियों में कुल 1049 गाड़ियों की डिटेल्स भेजी गई है.

देशभर में 200 और ट्रेनें चलने की तारीख़ आ गई है

इस बार ख़ुद रेल मंत्री ने बताया है.

लॉकडाउन 4: दफ़्तरों के लिए क्या गाइडलाइंस हैं?

इस लॉकडाउन में तमाम तरह की छूट दी गई हैं.

प्रियंका गांधी वाड्रा की 1000 बसों में कुछ नंबर ऑटो और कार के कैसे निकल गए?

हालांकि संबित पात्रा ने भी जिस बस को स्कूटर बताया, वहां एक पेच है.

मज़दूरों की लाश की ऐसी बेक़द्री पर झारखंड के सीएम कसके गुस्साए हैं

घायल मज़दूरों के साथ अमानवीय व्यवहार करने का आरोप.

कोरोना की वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, जल्द ही आखिरी स्टेज का टेस्ट होने की उम्मीद

जुलाई के महीने को लेकर अहम बात भी कह डाली है.

केजरीवाल ने लॉकडाउन 4 में बहुत सारी छूट दे दी हैं

ऑड-ईवन आ गया, लेकिन ट्रांसपोर्ट में नहीं.

लॉकडाउन 4: पर्सनल गाड़ी से शहर या राज्य के बाहर जाने के क्या नियम हैं?

केंद्र सरकार ने इस पर क्या कहा है?

कोरोना संक्रमण के बीच स्विगी ने बहुत बुरी खबर दी है

दो दिन पहले जोमैटो ने भी ऐसा ही ऐलान किया था.

ममता बनर्जी ने लॉकडाउन के नियमों में बहुत बड़ा बदलाव किया है

केंद्र सरकार की नई बात मानने से मना कर दिया!