Submit your post

Follow Us

टिकटॉक चुटकियों में इस तरह अपने ऐप की रेटिंग सुधार लेगा, धरी रह जाएगी विरोधियों की मेहनत!

टिकटॉक. प्ले स्टोर पर इस ऐप को कम रेटिंग दी जा रही है. अभी गूगल ऐप स्टोर में टिकटॉक की रेटिंग 1.2 स्टार तक आ गई है. इसे लगातार एक स्टार दिया जा रहा है. कुछ महीनों पहले तक यह रेटिंग 4.9 थी. किसी भी ऐप को रेटिंग 5 स्टार में से दी जाती है. जितनी ज्यादा रेटिंग होती है, ऐप को उतना ही अच्छा माना जाता है. सबलोग मिलकर टिकटॉक की रेटिंग घटाने में लगे हैं. लेकिन टिकटॉक एक चुटकी में ऐप की रेटिंग गिराने वालों की मेहनत बेकार कर सकता है. लेकिन कैसे?

पहले पूरा मामला समझ लीजिए

दरअसल, टिकटॉक को लेकर पिछले कुछ दिनों में कई तरह की शिकायतें आ रही हैं. इसके कंटेंट पर सवाल उठ रहे हैं. एक टिकटॉक स्टार का वीडियो सामने आया था, जिसमें वह महिलाओं पर एसिड फेंकने को बढ़ावा देता दिख रहा है. इसी तरह कुछ दूसरे वीडियो में रेप को प्रमोट करने की शिकायत आई. इसके अलावा यूट्यूब और टिकटॉक यूजर्स की लड़ाई भी चल ही रही है. इसमें दोनों के यूजर अपने-अपने प्लेटफॉर्म को बेहतर बताने का दम भर रहे हैं और दूसरे को बेकार कह रहे हैं.

इसके बाद से ही टिकटॉक की रेटिंग को कम करने का सिलसिला चल पड़ा. लोगों ने प्ले स्टोर और ऐप स्टोर में जाकर टिकटॉक को रिव्यू में कोसा. साथ ही रेटिंग में भी एक स्टार देने लगे. टिकटॉक की रेटिंग को गिराने में भारतीय यूजर्स का बड़ा हाथ है.

टिकटॉक की रेटिंग 1.2 पर पहुंच गई है.
टिकटॉक की रेटिंग 1.2 पर पहुंच गई है.

टिकटॉक इसे बेअसर कैसे कर सकता है?

हमने ये जानने की कोशिश की कि अब टिकटॉक रेटिंग को सुधारने के लिए कौन-सी चाल चल सकता है. ‘दी लल्लनटॉप’ के रीडर हैं योगेश केडिया. उन्होंने इस ओर हमारा ध्यान दिलाया.

गूगल प्ले स्टोर से कोई भी चीज खरीदने या रेंट पर लेने पर आप रिव्यू लिख सकते हैं. यह एक तरीका होता है, आप लोगों को बताते हैं कि आपका अनुभव कैसा रहा. रिव्यू लिखने के लिए गूगल किसी को पैसे नहीं देता. साथ ही गूगल ये उम्मीद करता है कि रिव्यू ईमानदारी से लिखा गया हो और बायस्ड न हो.

रेटिंग कैसे कैलकुलेट की जाती है?

गूगल का कहना है कि ऐप्लिकेशन के लिए प्ले स्टोर रेटिंग या फिर रेटिंग बार ग्राफ, यूज़र की तरफ से दिए गए मौजूदा क्वालिटी रिव्यूज़ पर डिपेंड करता है. ये रेटिंग कभी भी यूज़र के जीवनभर में दिए गए रिव्यू के एवरेज से नहीं निकाला जाता है. रेटिंग उस ऐप्लिकेश के यूजर्स के नंबर्स पर भी डिपेंड करता है. अगर ऐप्लिकेशन के यूज़र कम होंगे और उनमें से कुछ ने ही रेटिंग दी हो और वो भी कम हो, तो ऐप की रेटिंग कम ही होगी.

समय के साथ ऐप्लिकेशन में काफी बदलाव किए जाते हैं और कई फीचर बदले भी जाते हैं, तो ये रेटिंग सिस्टम यूजर्स को ऐप्लिकेशन की मौजूदा जानकारी और उसके बारे में लोग क्या राय रखते हैं, ये समझाने में मदद करता है. मतलब, अगर कल को टिकटॉक नया वर्जन लेकर आ गया, नए फीचर जोड़ दिए, तो उसकी रेटिंग बदल जाएगी.


टिकटॉक की रेटिंग गिराने का मोर्चा किसने खोला दिया है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

प्लेन और ट्रेन से जाने के लिए टिकट और किराए के नियम सरकार ने बताए हैं

जानिए, रेलवे के ऑफलाइन टिकट कहां से मिल सकते हैं.

क्या गुजरात में खराब वेंटीलेटर की वजह से 300 कोरोना मरीज़ों की मौत हो गई?

कांग्रेस ने विजय रूपाणी सरकार पर वेंटीलेटर घोटाले का आरोप लगाया है.

अब इस तारीख से देश के अंदर फ्लाइट्स से यात्रा कर सकेंगे

इससे पहले 200 नॉन एसी ट्रेन चलने की सूचना दी गई थी.

'अम्फान' आ चुका है, पश्चिम बंगाल में दो की मौत, कई घरों को नुकसान

ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में अपना असर दिखा रहा है.

प्रियंका गांधी ने जो गाड़ियां यूपी भेजी हैं, उनमें कितनी बसें हैं, कितने ऑटो?

छह सूचियों में कुल 1049 गाड़ियों की डिटेल्स भेजी गई है.

देशभर में 200 और ट्रेनें चलने की तारीख़ आ गई है

इस बार ख़ुद रेल मंत्री ने बताया है.

लॉकडाउन 4: दफ़्तरों के लिए क्या गाइडलाइंस हैं?

इस लॉकडाउन में तमाम तरह की छूट दी गई हैं.

प्रियंका गांधी वाड्रा की 1000 बसों में कुछ नंबर ऑटो और कार के कैसे निकल गए?

हालांकि संबित पात्रा ने भी जिस बस को स्कूटर बताया, वहां एक पेच है.

मज़दूरों की लाश की ऐसी बेक़द्री पर झारखंड के सीएम कसके गुस्साए हैं

घायल मज़दूरों के साथ अमानवीय व्यवहार करने का आरोप.

कोरोना की वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, जल्द ही आखिरी स्टेज का टेस्ट होने की उम्मीद

जुलाई के महीने को लेकर अहम बात भी कह डाली है.