Submit your post

Follow Us

स्टोक्स या होल्डर के लंबे छक्के से बॉल स्टैंड्स में गई तो कौन लाएगा?

पूरी दुनिया कोरोना वायरस से फैली बीमारी कोविड-19 से जूझ रही है. लंबे इंतज़ार के बाद टेस्ट क्रिकेट की वापसी हो रही है. वेस्ट इंडीज़ की टीम इंग्लैंड को उसी के घर में टक्कर देने पहुंच गई है. 8 जुलाई से खिलाड़ी एक्शन में दिखने वाले हैं. हालांकि, अब क्रिकेट पहले की तरह नहीं रहा. कोरोना वायरस के चलते इस खेल में तमाम बदलाव किए गए हैं. क्रिकेटर्स, फैंस और इसे कवर करने वाले पत्रकार, सबके लिए काफी कुछ बदल गया है.

# बदला-बदला दिखेगा नज़ारा

सबसे पहला बदलाव तो फैंस को स्टेडियम से दूर करने का है. ये पूरी सीरीज और इसके अलावा भी क्रिकेट मैच बिना फैंस के खेले जाएंगे. इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) ने 74 पेज की बुकलेट बनाई है. इस बुकलेट में प्लेयर्स के लिए गाइडलाइंस हैं. क्या करना है, क्या नहीं करना है, सबकुछ.

इसके अलावा टॉस के वक्त सिर्फ दोनों कप्तान और मैच रेफरी क्रिस ब्रॉड ही मैदान में जाएंगे. टीवी कैमरों को वहां नहीं जाने दिया जाएगा और न ही टॉस के बाद होने वाला हैंडशेक होगा.

अंपायर्स रिचर्ड इलिंगवर्थ और रिचर्ड कैटरबोरो अपनी-अपनी बेल्स (गिल्ली) लेकर जाएंगे. साथ ही मैच में क्लीनिंग ब्रेक भी लिया जाएगा. इस ब्रेक में स्टंप्स को सैनिटाइज किया जाएगा.

प्लेयर्स ग्लव्स, शर्ट्स, पानी की बोतल, बैग या स्वेटर्स का आदान-प्रदान नहीं कर सकते. मैच के दौरान बॉल बॉयज (बाउंड्री के पास बैठकर बॉल कलेक्ट करने में मदद करने वाले बच्चे) भी नहीं होंगे. ग्राउंड स्टाफ फील्ड में प्लेयर्स से कम से कम 20 मीटर दूर रहेगा. फील्ड के बाहर दो गज़ की दूरी का पालन किया जाएगा.

# बॉल बाहर गई तो?

टीम शीट्स पेपर की जगह डिजिटल होगी और स्कोरर्स पेन या पेंसिल का आदान-प्रदान नहीं करेंगे. एक्रिडेशन वाले लोगों को एक चिप वाले कोविड ट्रैकर कार्ड के जरिए ट्रैक किया जाएगा. पहले ही बॉल पर थूक के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लग चुका है. फिर भी ऐसा करने पर दो चेतावनियों के बाद पांच रन की पेनल्टी लगाई जाएगी. ECB के इवेंट डायरेक्टर स्टीव एलवर्दी ने बॉल के स्टैंड्स पर जाने के विषय में डेली टेलीग्राफ से कहा था,

‘अगर बॉल छक्के के लिए स्टैंड्स में जाती है तो स्क्वॉड में शामिल प्लेयर्स ग्लव्स पहनकर इसे वापस मैदान में फेंक सकते हैं. किसी और को इसे छूने की इज़ाज़त नहीं होगी. यह टेस्ट मैच उन्हें काफी अलग लगेगा, लेकिन वे ऐसी जिंदगी पिछले कुछ वक्त से जी ही रहे हैं.’

डेली टेलीग्राफ के मुताबिक, स्टेडियम में एक इनर और एक आउट जोन होगा. साथ ही मैदान पर ‘स्पेशल आइसोलेशन यूनिट्स’ भी होंगी. ICC पहले ही कोविड सब्सिट्यूट लाने की इज़ाज़त दे चुका है. अगर मैच के दौरान किसी प्लेयर में कोविड-19 के लक्षण दिखते हैं तो उसकी जगह दूसरे प्लेयर को उतारा जा सकता है, हालांकि गेम चलता रहेगा. मैच के लिए प्लेयर्स को एजीस बाउल स्थित हिल्टन होटल में रोका गया है. यहां के कमरों को बिना हैंडल छुए, एक ऐप के जरिए खोला जा सकता है. इस होटल में रूम सर्विस और लिफ्ट की सेवाएं बंद हैं.

इस मैच को कवर कर रहे पत्रकारों को दो बार थर्मल स्कैनर से गुजरना होगा. साथ ही उन्हें पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (PPE) किट भी दी जाएगी.


कोरोना संक्रमण के बाद पहली इंटरनेशनल क्रिकेट सीरीज़ में ही विवाद हो गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

PM Cares के पैसों से बने वेंटिलेटर पर सवाल उठे तो बनाने वाले ने राहुल गांधी को घेर लिया

कहा कि राहुल गांधी के सामने डेमो दिखा सकता हूं.

क्या गलवान में पीछे हटकर चीन 1962 वाली चाल दोहरा रहा है?

58 साल पहले भी ऐसा ही हुआ था. पहले चीन गलवान में पीछे हटा और कुछ दिन बाद भारत पर हमला कर दिया.

सरकार ने वो आदेश दिया है कि कंपनियां मास्क और सैनिटाइज़र के दाम में मनचाहा बदलाव कर सकती हैं

राज्यों ने शिकायत नहीं की, तो सरकार ने आदेश निकाल दिया

बुरी खबर! 'मेरे जीवनसाथी', 'काला सोना' जैसी फ़िल्में बनाने वाले प्रड्यूसर हरीश शाह नहीं रहे

कैंसर से जारी जंग आखिरकार हार गए.

दिल्ली की जेल में सजा काट रहे सिख दंगे के दोषी नेता की कोरोना से मौत हो गई

विधायक रह चुके इस नेता की कोरोना रिपोर्ट 26 जून को पॉज़िटिव आई थी.

श्रीलंका का ये क्रिकेटर हत्या के आरोप में गिरफ्तार

44 टेस्ट, 76 वनडे और 26 टी20 खेल चुका है.

लेह में दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने चीन का नाम लिए बिना क्या-क्या कहा?

जवानों पर, बॉर्डर के विकास पर, दुनिया की सोच पर बहुत कुछ बोला है.

ICMR ने एक महीने में कोरोना की वैक्सीन लॉन्च करने का झूठा दावा किया है!

क्या वैक्सीन के ट्रायल में घपला हो रहा है?

भारत-चीन के तनाव के बीच पीएम मोदी ने लद्दाख़ पहुंचकर किससे बात की?

पहले राजनाथ सिंह जाने वाले थे, नहीं गए.

मलेरिया वाली जिस दवा को कोरोना में जान बचाने के लिए इस्तेमाल कर रहे, वो उल्टा काम कर रही है?

हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्विन पर चौंकाने वाली रिसर्च!