Submit your post

Follow Us

26/11 अटैक के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को पाकिस्तान ने चुपके से जेल से बाहर निकाल लिया?

आतंकी हाफिज सईद. पाकिस्तान में पनपे आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का संस्थापक और मुंबई के 26/11 अटैक का मास्टरमाइंड. संयुक्त राष्ट्र ने हाफिज सईद को ग्लोबल आतंकवादी घोषित करके कड़े प्रतिबंध लगा रखे हैं. पाकिस्तान ने हाफिज को जुलाई-2019 में गिरफ्तार दिखाया था. इसके बाद फरवरी-2020 में उसे टेरर फंडिंग केस में दस साल, छह महीने की सजा हुई थी. इसके बाद हाफिज को टेरर फंडिंग के दो और केसों में दोषी पाया गया था. पाकिस्तान की एंटी टेरिरिज्म कोर्ट ने अभी इसी नवंबर में उसे दस साल की सजा सुनाई. लेकिन अब ख़बर है कि वो जेल में है ही नहीं.

हिंदुस्तान टाइम्स वेबसाइट ने इंटेलिजेंस से मिली जानकारी के आधार पर दावा किया है कि हाफिज सईद को पाकिस्तान में चुपके से जेल से निकाल लिया गया है. दुनिया की नज़र में वो अब भी जेल में है, लेकिन असल में वो पाकिस्तान में अपने घर पर है.

पाकिस्तान दे रहा धोखा?

पाकिस्तान की इमरान खान सरकार पर 2019 से ही दबाव है कि वो हाफिज सईद जैसे आतंकियों पर एक्शन ले. ऐसा न करने पर फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स की ब्लैक लिस्ट में डाले जाने का खतरा मंडरा रहा था. इससे पाकिस्तान पर इंटरनेशनल लेवल पर और भी कड़े आर्थिक प्रतिबंध लग सकते हैं. इसी के बाद हाफिज को जेल में डाला गया था. लेकिन खुफिया सूत्रों के हवाले से अखबार ने लिखा है कि अब आतंकी हाफिज को लाहौर की कोट लखपत जेल से कथित तौर पर बाहर निकाल लिया गया है. हाफिज अब अपने घर पर ही ‘प्रोटेक्टिव कस्टडी’ में है. उसे लोगों से मिलने-जुलने तक की छूट है.

अखबार के मुताबिक, इंटेलिजेंस के अधिकारी तो यहां तक दावा करते हैं कि अक्टूबर में लश्कर का चीफ ऑपरेशन कमांडर जकी-उर-रहमान लखवी भी हाफिज सईद से मिलने उसके घर गया था. ये मुलाकात भी कथित तौर पर फंड जुटाने की रणनीति को लेकर ही थी.

वहीं भारतीय अधिकारियों का कहना है कि अभी हमें इस बारे में कोई आधिकारिक जानकारी नहीं है कि हाफिज के घर को ही जेल का दर्जा देने का कोई आधिकारिक ऑर्डर है भी या नहीं. इस पूरे मामले को लेकर पाकिस्तान के रवैये पर सवाल उठ रहे हैं.

हाफिज और जमात-उद-दावा

हाफिज सईद जमात-उद-दावा का भी चीफ है. ये लश्कर का ही मुखौटा संगठन है. जमात-उद-दावा सामाजिक सेवा के काम करने का दावा करता है. सईद का ये संगठन 300 से ज्यादा मदरसे और स्कूल चलाता है. जमात-उद-दावा के कई अस्पताल, एक प्रकाशन हाउस और एम्बुलेंस सेवा हैं. इसके पास करीब 50,000 स्वयंसेवक और सैकड़ों की संख्या में वेतनभोगी कर्मचारी हैं. जमात-उद-दावा अपनी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए फलाह-ए-इंसानियत नाम के संगठन के जरिए फंड इकट्ठा करता है. पूरे पाकिस्तान में हाफिज सईद के इन संगठनों का जबरदस्त नेटवर्क है. जमात और लश्कर को संयुक्त राष्ट्र ने 2008 में प्रतिबंधित कर दिया था. अमेरिका जून 2014 में जमात को आतंकी संगठन घोषित कर चुका है.


26/11 के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को पाकिस्तानी अदालत ने 10 साल की सजा सुनाई है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

किसान आंदोलन में क्या-क्या हो रहा, सबसे दमदार तस्वीरों में यहां देखिए

दिल्ली कूच के लिए कुछ भी करने को तैयार दिख रहे किसान

कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल का निधन, एक महीने तक कोविड-19 से लंबी जंग लड़ी

पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दुख जताया.

कंगना-रंगोली पर सेडिशन केस की सुनवाई करते बॉम्बे हाईकोर्ट ने बहुत ज़रूरी बात कही है

"क्या हम अपने नागरिकों के साथ ऐसा व्यवहार करेंगे?”

दिल्ली दंगा : चार्जशीट में फ़ोटो लगाकर पुलिस ने कहा, 'ये दंगे को लेकर सीक्रेट मीटिंग हुई है'

इसके अलावा वाट्सऐप चैट को लेकर दिल्ली पुलिस ने क्या दावा किया?

दंगे की चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने कहा, 'पटना में बैठकर उमर ख़ालिद ने दिल्ली में दंगा भड़काया'

दिल्ली पुलिस ने किस सीक्रेट ऑफ़िस की बात की है?

डॉक्टर कर रहे थे दिमाग की सर्जरी और मरीज टीवी पर देख रहा था 'बिग बॉस'!

चौंक गए ना आप? चलिए बताते हैं कि आखिर ये मामला क्या है.

ड्रग्स केस: कॉमेडियन भारती सिंह को तीन घंटे की पूछताछ के बाद NCB ने गिरफ्तार किया

मुंबई स्थित घर से एजेंसी ने गांजा बरामद किया था.

मुकेश भाई की रिलायंस के दिए 19 किलो सोने से सजा कामख्या मंदिर देख लो

गुवाहाटी के इस मंदिर की गिनती देश के सबसे पुराने शक्त पीठों में होती है.

नाम से नफरत थी, शिवसेना के नेता ने दे डाला 'कराची स्वीट्स' को अल्टिमेटम

दुकानदार ने साइन बोर्ड पर छिपा दिया 'कराची' शब्द

एक और प्राइवेट बैंक का बंटाधार? RBI को लगानी पड़ी पैसे निकालने की लिमिट

PMC और यस बैंक की तरह ही अब इस बैंक पर भी लगा मोरेटोरियम.