Submit your post

Follow Us

NIA ने 'घी' का मतलब विस्फोटक निकाला, कोर्ट ने पूछा- किस आधार पर ये मतलब निकाला?

दिल्ली की एक अदालत ने टेरर फंडिंग के मामले में 4 लोगों को बरी कर दिया. कोर्ट ने चारों को ये कहते हुए बारी कर दिया ‘घी’ और ‘खिदमत’ का मतलब कुछ भी हो सकता है. जरूरी नहीं की इसका कनेक्शन आतंकवाद से हो.  इंडियन एक्स्प्रेस के मुताबिक NIA ने जिन चार लोगों को गिरफ्तार किया था उन पर आरोप था कि उन्होंने पलवल में बन रही एक मस्जिद में वो पैसा लगाया है जो आतंकियों ने दिया था.

NIA ने इस मामले में मोहम्मद सलमान, मोहम्मद सलीम, आरिफ गुलाम बशीर और मोहम्मद हुसैन मोलानी को गिरफ्तार किया था. NIA ने 26 सितंबर, 2018 को सलीम और सलमान को, 21 जनवरी, 2019 को मोलानी और 26 जून, 2019 को बशीर को गिरफ्तार किया था. NIA के मुताबिक फलह-ए-इंसानियत नाम के एक पाकिस्तानी आतंकी संगठन ने इन चारों को पैसा भेजा था. आरोप लगाया था कि यहां भारत विरोधी और आतंकवादी गतिविधियों के लिए पैसे भेजकर देश में अशांति पैदा करने वाले स्लीपर सेल बनाने की साजिश थी.

NIA का कहना है कि उन्हें इस बात का पता तब चला जब उन्होंने मोहम्मद सलमान के मोबाइल में आए कुछ मैसेज को पढ़ा. इन मैसेज में ‘घी’ और ‘खिदमत’ शब्दों को कोड की तरह इस्तेमाल किया गया था. इन मैसेजों में कहा गया था कि

“घी का इंतजाम हो गया है, बॉम्बे वाली पार्टी भी आएगी… उनके हाथों भिजवा देंगे”

वहीं दूसरे मैसेज में लिखा था कि

“आप खिदमत में थे ना इसलए आपको नहीं पता”.  

NIA ने इसका मतलब निकाला,  ‘घी’ का मतलब ‘विस्फोटक’ और ‘खिदमत’ से उनका मतलब है ‘टेरर फंडिंग करने वालों की मदद करना’.

दिल्ली की पटियाला कोर्ट में इस पूरे मामले की सुनवाई चल रही थी. कोर्ट ने NIA के घी और खिदमत से जुड़े दावों को खारिज कर दिया. गुरुवार, 21 अक्टूबर को कोर्ट ने चारों संदिग्धों को बारी कर दिया.  कोर्ट ने कहा,

“ये जाहिर सी बात है की सलमान घी और खिदमत शब्दों को कोड की तरह इस्तेमाल कर रहा था, लेकिन इनका ये मतलब विस्फोटक और टेरर फन्डिंग बिल्कुल नहीं है. इन शब्दों के कई मतलब हो सकते हैं”.  

साथ ही कोर्ट ने NIA से ये पूछा की आपने किस आधार पर ये मतलब निकाला और जिसने भी ये अर्थ निकले हैं क्या वो कोर्ट में इसे साबित कर सकता है. इस पर NIA ने कोर्ट को बताया कि

“ उन्होंने दो गवाहों के आधार पर वे इन नतीजे तक पहुंचे हैं. इन गवाहों का कहना था कि उन्होंने सलमान को फोन पर बात करते हुए सुना है”.

NIA ने आगे कहा कि गवाहों ने सलमान को फोन पर ये कहते हुए सुना कि

“मुझे ये काम एक खास काम के लिए मिला है, सही वक्त आने पर पैसा देने वाला इन पैसों को इस्तेमाल करने के लिए अपना प्लान बताएगा, ऐसे जानकारों को ढूंढो और उन्हें सलमान से मिलवाओ जो हर तरह का काम कर सके”.   

NIA ने कहा कि फोन पर मिले मैसेज के अलावा गवाहों के बयानों में भी तीन शब्दों ने उन्हें इस दिशा में सोचने को मजबूर किया. वे शब्द थे “खास काम”, “अलग प्लान” और “किसी भी तरह का काम”. इन शब्दों का इशारा आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने की ओर है. हालांकि कोर्ट में वो आदमी पेश नहीं हो पाया जिसने घी और खिदमत का मतलब निकाला था.


दी लल्लनटॉप शो: मुकेश अंबानी को धमकाने के पीछे सचिन वाजे की क्या साजिश थी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

बीबीसी का आरोप, टीम के साथ नरसिंहानंद के समर्थकों ने गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की.

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

मुख्य आरोपी के साथ उसके दोस्तों को पुलिस ने पकड़ लिया है.

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

पार्टी के इस कदम से आहत हरक सिंह रावत मीडिया के सामने भावुक हो गए.

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

Bull Run कांड में सेबी का फैसला, एक ही परिवार के 6 लोगों पर लगा बैन.

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

कांग्रेस की पहली लिस्ट में 50 महिला उम्मीदवार शामिल हैं

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

तस्वीर गौर से देखेंगे तो समझ आ जाएगा, हम तो बता ही देंगे.

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

बीते 24 घंटों के भीतर यूपी के दो कैबिनेट मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है.

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस ने असल में क्या कहा है?

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

कोरोना के केस बढ़ने के बीच DDMA की नई गाइडलाइंस जारी.

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP की तारीफ़ का सच.