Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

तेलंगाना के इस कैंडिडेट ने वोटर्स को दिया ऐसा ऑफर कि सब सोच में पड़ गए

1.05 K
शेयर्स

चुनाव में भांति भांति के प्रत्याशी उतरते हैं. भांति भांति के चुनावी प्रचार, नारे, पोस्टर वगैरह होते हैं. कुछ नेता तो ऐसे वादे कर बैठते हैं कि वोटर कनफ्यूज हो जाए. तेलंगाना में एक नेता ने वोटर्स को चप्पल बांटे हैं. और वादा किया है कि अगर मैं काम न करूं तो इन्हीं चप्पलों से मुझे पीट देना.

कौन है चप्पल वितरण उम्मीदवार

7 दिसंबर को तेलंगाना में वोटिंग है. सब पार्टियां अपनी ताकत झोंके हुए हैं. कांग्रेस से राहुल गांधी, सोनिया गांधी भी कैंपेनिंग कर चुके हैं. लेकिन ये लोग उतना कामयाब प्रचार नहीं कर रहे जितना अकुल हनुमंत कर रहे हैं. अकुल निर्दलीय प्रत्याशी हैं. निर्दलीय मतलब ऊपर कोई बॉस नहीं बैठा है जो फिजूल की चिक चिक करे या सलाह दे. अपने मन की कर रहे हैं. जगतियाल की कोरूतला सीट से लड़ रहे हैं.

इंडिया टुडे के पत्रकार आशीष ने ये वीडियो ट्वीट किया है. हनुमंत मेट्टूपल्ली में घर घर घूमते हुए लोगों से वादे कर रहे हैं. कि ये लो चप्पलें रखो. अगर मैं विकास कार्य नहीं कर पाया तो तुरंत इस्तीफा दे दूंगा. फिर चाहे इन्हीं चप्पलों से हमको पीट लेना. वो सबको अधिकार दे रहे हैं पीटने का. जनता के सामने, सरेआम.

हो सकता है कि बाकी नेता भी इनसे कुछ सीख लें और ऐसे जी ललचाऊ ऑफर पेश करें. हालांकि जनता काफी होशियार है आजकल. ऐसा फालतू के वादों से नहीं मानती. हां दारू वगैरह के चक्कर में जरूर कुछ लोग आ जाते हैं. चप्पल बांटने पर कितने लोग इमोशनल होंगे हमको नहीं पता. ऐसे वादे तो नेता पहले भी करते रहे हैं. कोई चौराहे पर सजा देने की बात कर चुका है तो कोई फांसी चढ़ाने को बोलता रहता है. वादे हैं वादों का क्या.


देखें वीडियो, ग्राउंड रिपोर्ट:

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Telangana candidate Akula Hanumanth distributes slippers, asks voters to hit if he fails

क्या चल रहा है?

केजरीवाल के पास वैलेंटाइन डे को याद करने की 3 बड़ी वजहें हैं

वैलेंटाइन डे के दिन केजरीवाल के साथ कुछ ना कुछ होता रहा है.

पुलवामा हमले के बाद क्या ऐक्शन ले रही है सरकार?

पीएम मोदी और गृहमंत्री ने क्या-क्या निर्देश दिए है?

18 साल पहले हुआ था पुलवामा हमले का पहला रियाज़

जैसे 42 जवान शहीद हुए, ठीक उसी तरह किया था हमला...

कौन है वो आतंकी, जिसकी वजह से CRPF के 42 जवान शहीद हो गए?

आत्मघाती हमले से ठीक पहले उसने वीडियो भी बनाया है.

उड़ी से बड़े पुलवामा अटैक पर पीएम मोदी का पहला बयान

सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले में करीब 42 जवान शहीद हो चुके हैं.

पुलवामा अटैक : वीके सिंह बोले- मेरा खून खौल रहा है, खून की हर बूंद का बदला लेंगे

हाल में हुए सबसे बड़े आतंकी हमले में 42 जवान शहीद.

'बाइक बोट' नाम की कंपनी पर लोगों के साथ धोखाधड़ी करने के इल्जाम

लोगों से ये कह कर पैसे लगवाए कि इस पैसे से किराए पर बाइक चलेगी और उन्हें पैसा मिलेगा...