Submit your post

Follow Us

फिर टाटा की हुई एयर इंडिया, जानें कितने हजार करोड़ की बोली लगाई

एयर इंडिया एक बार फिर टाटा की हो गई है. इसका ऐलान फाइनेंस मिनिस्ट्री के डिपार्टमेंट ऑफ इनवेस्टमेंट एंड पब्लिक एसेट मैनेजमेंट (DIPAM) ने किया. एयर इंडिया को अपना बनाने के लिए टाटा ग्रुप ने सबसे अधिक 18 हजार करोड़ रुपए की बोली लगाई. वहीं, स्पाइसजेट के चेयरमैन के कंसॉर्टियम ने 15100 करोड़ रुपए की बोली लगाई थी. सो बाजी जीती टाटा सन्स ने.

इस बिड को जीतने के बाद टाटा के हाथ एयर इंडिया और एयर इंडिया एक्सप्रेस की कमान आएगी. साथ ही कार्गो और ग्राउंड हैंडलिंग कंपनी AISATS की आधी हिस्सेदारी भी मिलेगी. DIPAM के सेक्रेटरी ने कहा कि दिसंबर तक डील क्लोज कर ली जाएगी.

Air India का मालिकाना हक मिलने के बाद नए मालिक को इससे जुड़े नाम और लोगो को 5 साल तक संभाल कर रखना होगा. Tata Sons चाहे तो 5 साल बाद Air India के नाम और लोगो को ट्रांसफर कर सकती है, लेकिन इसमें एक शर्त रखी गई है कि ये नाम और लोगो किसी भारतीय इकाई या व्यक्ति को ही दिया जा सकेगा. कोई भी विदेशी व्यक्ति या इकाई इसे हासिल नहीं कर सकेगी

इससे पहले भी खबर आई थी कि एयर इंडिया एक बार फिर टाटा की हो गई है. लेकिन उस समय सरकार ने इस खबर का खंडन किया था.

सरकार ने 15 सितंबर तक एयर इंडिया की नीलामी के लिए बोली मांगी थी. बोली लगाने वालों में दो बड़ी कंपनियों के नाम आए. टाटा सन्स और स्पाइसजेट. सरकार ने एयर इंडिया में सौ प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिए टेंडर मंगाया था.

स्पाइसजेट के चेयरमैन अजय सिंह ने टाटा ग्रुप को बधाई दी है. वहीं, रतन ने टाटा अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया है-

“टाटा ग्रुप की ओर से नीलामी जीतना शानदार खबर है. बेशक यह एयर इंडिया के पुनर्निर्माण के लिए काफी प्रयास करेगा. उम्मीद है कि ये एविएशन इंडस्ट्री में टाटा के लिए बड़ा मौका लाएगी. जेआरडी टाटा की लीडरशिप में एयर इंडिया एक समय पुरी दुनिया में प्रतिष्टित थी. टाटा के पास ये शानदार मौका है कि वो इसकी पुरानी इमेज और ख्याति को वापस लाए. जेआरडी टाटा अगर आज हमारे बीच होते, तो बहुत खुशी होती.

हम आज सरकार को भी धन्यवाद देना चाहते हैं कि उसने सिलेक्टेड इंडस्ट्री को प्राइवेट सेक्टर के लिए खोला है.

वेलमक बैक एयर इंडिया.”

वहीं, स्पाइसजेट के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर अजय सिंह ने टाटा ग्रुप को बधाई देते हुए कहा,

“एयर इंडिया के लिए बोली जीतने पर मैं टाटा ग्रुप को बधाई देता हूं. उनकी सफलता की कामना करता हूं. एयर इंडिया पर बोली लगाने के लिए शॉर्टलिस्ट किया जाना मेरे लिए सम्मान और सौभाग्य की बात थी. मुझे विश्वास है कि टाटा समूह एयर इंडिया के गौरव को बहाल करेगा और पूरे भारत को गौरवान्वित करेगा. मैं एयर इंडिया के सफल विनिवेश पर भी सरकार को बधाई देना चाहता हूं. उन्होंने एक पारदर्शी और लचीली प्रक्रिया अपनाई और भारत के विनिवेश कार्यक्रम को नई गति दी. मैं जीवन भर एयर इंडिया का प्रशंसक रहा हूं. महाराजा के लिए दुनिया की अग्रणी एयरलाइन के रूप में अपनी पहचान को फिर से हासिल करने का समय आ गया है.”

Air India की शुरुआत 1932 में टाटा ग्रुप ने ही की थी. जे. आर. डी. टाटा (JRD Tata) ने Tata Airlines के नाम से इसे शुरू किया था. द्वितीय विश्व युद्ध के बाद भारत से सामान्य हवाई सेवा की शुरुआत हुई और तब Air India को सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी बना दिया गया. वर्ष 1947 में देश की आज़ादी के बाद एक राष्ट्रीय एयरलाइंस की जरूरत महसूस हुई और भारत सरकार ने Air India में 49% हिस्सेदारी अधिग्रहण कर ली.

90 के दशक में देश में आर्थिक उदारीकरण की नीतियां लागू हुईं. कई प्राइवेट कंपनियां एयरलाइंस के बिजनेस में आईं. मुकाबला बढ़ा. एयर इंडिया घाटे में जाने लगी. 1997- 98 में एयर इंडिया को करीब 180 करोड़ का घाटा हुआ. हालांकि इंडियन एयरलाइंस मुनाफा दे रही थी. वाजपेयी सरकार के दौरान एयर इंडिया की हालत थोड़ी बेहतर हुई. 2002-03 में एयर इंडिया का मुनाफा करीब 133 करोड़ रुपये था.

मनमोहन सिंह की सरकार के शुरुआती सालों तक एयर इंडिया फायदे में थी. लेकिन प्रफुल्ल पटेल नागरिक उड्डयन मंत्री बने और फिर एयर इंडिया ऐसी गिरी कि कभी उठ ही नहीं पाई. 2002-03 में 133 करोड़ मुनाफा देने वाली एयरलाइन 2006-07 में साढ़े चार सौ करोड़ के घाटे पर थी. इंडियन एयरलाइंस भी घाटे में आ गई.

एयर इंडिया की बर्बादी के लिए प्रफुल्ल पटेल की नीतियों पर भी सवाल उठाए जाते हैं. कहा जाता है कि उन्होंने बिना हिसाब लगाए जरूरत से ज्यादा विमान खरीद लिए थे. इसके अलावा कई प्रॉफिट मेकिंग रूट्स से एयर इंडिया की उड़ानें बंद कर दी थीं.

2007 में एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस का मर्जर कर दिया गया. इसने एयर इंडिया की रही सही उम्मीद भी खत्म कर दी. उसके बाद एयर इंडिया कभी मुनाफा नहीं कमा पाई. अब एयर इंडिया को चलाने में सरकार को रोजाना करीब 20 करोड़ का घाटा आता है.


दी लल्लनटॉप शो: 1953 में नेहरू ने टाटा कंपनी से एयर इंडिया क्यों लिया था?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा?