Submit your post

Follow Us

कोरोना संक्रमण के बीच स्विगी ने बहुत बुरी खबर दी है

स्विगी. घर पर खाना डिलिवर करने वाली एक कंपनी. इसने अपने 1100 कर्मचारियों की छंटनी करने का फैसला लिया है. यानी 1100 लोग नौकरी से निकाले जाएंगे. 18 मई को कर्मचारियों को एक ईमेल भेजकर इस बारे में बताया गया. कहा गया है कि कंपनी जिन भी शहरों में काम करती है, उन सबमें थोड़े-थोड़े कर्मचारियों को बाहर किया जाएगा.

दो दिन पहले ही जोमैटो ने भी 600 के करीब कर्मचारियों को निकालने की जानकारी दी थी.

कंपनी ने क्या कहा

श्रीहर्ष मजेटी. यह स्विगी के सह-संस्थापक और चीफ एग्जीक्यूटिव हैं. उनकी ओर से भेजे गए मेल में कहा गया है,

खाना डिलिवरी करने का बिजनेस बुरी तरह प्रभावित हुआ है. आने वाले कुछ समय के लिए यह असर जारी रहेगा. लेकिन उम्मीद है कि फिर धीरे-धीरे काम रफ्तार पकड़ेगा. हमारी किस्मत अच्छी थी कि कोरोना वायरस के आने से पहले ही हमें फंड मिला था. इस वजह से अभी तक हमारे पास पर्याप्त क्षमता थी.

उन्होंने आगे कहा,

आज स्विगी के लिए सबसे दुखद दिनों में से एक है. हमें छंटनी करनी होगी. बदकिस्मती से अगले कुछ दिनों में हमें हमारे 1100 कर्मचारियों से अलग होना पड़ेगा.

निकाले जाने वालों को ये सुविधा देगी कंपनी

कंपनी की ओर से कहा गया है कि जिन भी कर्मचारियों पर असर पड़ेगा, उन्हें तीन महीने तक सैलरी मिलती रहेगी. इसके साथ ही कर्मचारियों ने जितने साल स्विगी के साथ काम किया. उसके अनुपात में हर साल के हिसाब से एक महीने की सैलरी और दी जाएगी. यानी अगर किसी कर्मचारी ने दो साल काम किया, तो दो महीने की तनख्वाह और मिलेगी. यह सैलरी नोटिस पीरियड के समय से अलग होगी.

कंपनी ने प्रभावित होने वाले कर्मचारियों के परिवारों के लिए मेडिकल इंश्योरेंस को 31 दिसंबर, 2020 तक बढ़ा दिया है.

स्विगी का मुख्यालय बेंगलुरु में है.
स्विगी का मुख्यालय बेंगलुरु में है.

स्विगी का क्लाउड किचन बिजनेस बुरा फंसा

कंपनी के सीईओ श्रीहर्ष मजेटी ने बताया कि कंपनी उन बिजनेस को भी बंद करेगी, जिनको लेकर अगले 18 महीनों तक शंका है. कोरोना वायरस के चलते स्विगी के क्लाउड किचन बिजनेस पर सबसे बुरा असर पड़ा है. कंपनी क्लाउड किचन के तहत ‘होमली’ और ‘द बाउल कंपनी’ ब्रैंड नेम से रेस्टॉरेंट चलाती है.

‘लाइव मिंट’ की खबर के अनुसार, स्विगी ने अप्रैल में 500 कर्मचारियों की छंटनी की थी. ये कर्मचारी कॉन्टैक्ट पर थे और क्लाउड किचन में काम करते थे.

भारत में कोरोना वायरस के मामलों का स्टेटस


Video: लॉकडाउन के दौरान ज़ोमैटो अपने 600 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल रहा है!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

ग्रेटर नोएडा: इस कंपनी के छह कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए गए, तो काम रोक देना पड़ा

अब तीन हज़ार कर्मचारियों की जांच होगी.

लॉकडाउन 4ः स्कूलों में तो छुुट्टी है, पर कॉलेज और कोचिंग सेंटर में पढ़ने वालों का क्या होगा?

सरकार ने मामले को लेकर गाइडलाइन जारी है.

लॉकडाउन बढ़ाने के बाद रेड जोन और आरोग्य सेतु ऐप पर सरकार ने क्या कहा?

लॉकडाउन 31 मई तक जारी रहेगा.

क्या है 'अम्फान', जो अगले 12 घंटे में ओडिशा में भयंकर तबाही मचा सकता है

पश्चिम बंगाल और सिक्किम में भी बड़ी आफत आने वाली है.

लॉकडाउन में मिली छूट, क्या अब प्रैक्टिस पर लौटेगी टीम इंडिया?

टीम इंडिया की मैदान पर वापसी से जुड़ी अपडेट

ग्वालियर: तीनमंजिला इमारत में आग लगी, अब तक सात लोगों की मौत

कुछ लोगों के फंसे होने की आशंका है.

लॉकडाउन 4.0 : दफ्तर जाने वाले लोगों के लिए क्या नियम हैं? किन बातों का रखना होगा ध्यान

क्या ऑफिस के लिए भी अलग से पास बनवाना पड़ेगा?

स्टेडियम तो खुल गए हैं, क्या अब IPL हो पाएगा?

जानें BCCI की प्लानिंग.

इस शख्स ने चुपके से चार लोगों का लोन चुका दिया, अपना नाम तक नहीं बताया

10 लाख रुपए बड़ी रकम होती है.

कोरोना से बचना ही नहीं, दूसरों को बचाना भी है जरूरी, डॉक्टर ने बताया कैसे

इन चार बातों का ध्यान रखेंगे तो आपके आसपास के लोग सुरक्षित रहेंगे.