Submit your post

Follow Us

NEET-JEE के एग्जाम टालने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने अब क्या आदेश दिया

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को हुई सुनवाई में छह राज्यों के मंत्रियों की याचिका खारिज कर दी. इस याचिका में मंत्रियों ने NEET और JEE परीक्षा टालने की गुहार लगाई थी.

क्या है मामला

परीक्षाएं कराने के आदेश पर पुनर्विचार के लिये छह गैर-भाजपा शासित राज्यों के मंत्रियों ने याचिका दायर की थी. इन राज्यों का कहना था कि अदालत छात्रों के ‘जीने के अधिकार’ को सुरक्षित करने में विफल रही. साथ ही उसने कोविड-19 महामारी के दौरान परीक्षाओं के आयोजन में आने वाली परेशानियों को नजरअंदाज किया है.

राष्ट्रीय परीक्षा एजेन्सी (एनटीए), जो दोनों परीक्षाओं का आयोजन करती है, जेईई मुख्य परीक्षा 1 से 6 सितंबर तक आयोजित कर रही है. नीट की परीक्षाओं का आयोजन 13 सितंबर को होगा.

न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति बीआर गवई और न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी की तीन सदस्यीय पीठ ने चेंबर में पुनर्विचार याचिका पर विचार किया. आम तौर पर पुनर्विचार याचिकाओं पर पीठ के सदस्य चेंबर में ही ‘सर्कुलेशन’ के जरिए विचार करते हैं. इसमें इस बात का फैसला लिया जाता है कि क्या मामला विचार करने लायक है या नहीं.

शीर्ष अदालत का 17 अगस्त का परीक्षा करने का फैसला एक राजनीतिक मुद्दा बन गया, जब छह गैर-भाजपा शासित राज्यों के मंत्रियों ने इस पर पुनर्विचार याचिका दायर कर दी.

लॉकडाउन की वजह से अप्रैल-मई में होने वाली NEET-JEE की परीक्षा को आगे बढ़ा दिया गया था. (प्रतीकात्मक तस्वीर- PTI)
सुप्रीम कोर्ट ने NEET-JEE की परीक्षा को आगे बढ़ाने वाली पुनर्विचार याचिका को भी खारिज कर दिया है.(प्रतीकात्मक तस्वीर- PTI)

इन राज्यों के मंत्री पहुंचे थे कोर्ट

याचिका दायर करने वालों में पश्चिम बंगाल के मलय घटक, झारखंड के रामेश्वर ओरांव, राजस्थान के रघु शर्मा, छत्तीसगढ़ के अमरजीत भगत, पंजाब के बीएस सिद्धू और महाराष्ट्र के उदय रवीन्द्र सावंत शामिल हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पबजी बैन, सोशल मीडिया ने कहा- ‘उनका’ वीडियो डिसलाइक करने का नतीजा है

118 ऐप्स बैन कर दिए गए हैं.

चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए पॉज़िटिव न्यूज़ आई है

बड़े दिनों के बाद.

सेरो सर्वे की मानें, तो ठीक होने के बाद दोबारा हो सकता है कोरोना!

208 में से 97 लोगों में नहीं मिली एंटीबॉडी.

अवमानना वाले मामले में सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को क्या सज़ा दी है?

प्रशांत भूषण के दो ट्वीट का मुद्दा था.

अनलॉक-4 की गाइडलाइंस जारी, मेट्रो चलेगी, जानिए स्कूल खोलने को लेकर क्या कहा गया है

धार्मिक और राजनीतिक कार्यक्रमों को लेकर क्या छूट मिली है?

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

तय समय पर परीक्षा कराने के लिए 150 शिक्षाविदों ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी.

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

बीजेपी नेताओं के खिलाफ़ याचिका ख़ारिज करते हुए अदालत ने और क्या कहा, ये भी पढ़िए.

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.