Submit your post

Follow Us

हाथरस कांड की कवरेज में अरेस्ट हुए पत्रकार की ज़मानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा?

केरल के पत्रकार सिद्दीक़ कप्पन. यूपी के हाथरस कांड में पीड़िता के घरवालों से मिलने जा रहे थे. 5 अक्टूबर को यूपी पुलिस ने उन्हें और अन्य तीन लोगों को हिरासत में ले लिया. UAPA का चार्ज. आज यानी 16 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट में ज़मानत याचिका पर सुनवाई होनी थी. सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की तारीख़ टाल दी. और यूपी सरकार को नोटिस जारी कर दिया.

सिद्दीक़ कप्पन को ज़मानत देने के लिए केरल यूनियन फ़ॉर वर्किंग जर्नलिस्ट्स ने याचिका दायर की थी. यूनियन की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल कोर्ट में पेश हुए. इसके पहले 12 नवंबर को इसी याचिका पर सुनवाई करते हुए CJI एसए बोबड़े, एएस बोपन्ना और वी रामासुब्रमण्यम की बेंच ने यूनियन से आदेश दिया था कि पहले वो इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दायर करें. 16 नवंबर को सुनवाई के समय कोर्ट ने पूछा कि आदेश के मुताबिक़, आप इलाहाबाद हाईकोर्ट क्यों नहीं गए?

इस पर कपिल सिब्बल ने कहा कि कप्पन को वकीलों से मिलने नहीं दिया जा रहा है. हमें मामले को समझने के लिए उनसे मुलाक़ात करनी होगी.

इस पर एसए बोबड़े ने कहा कि कोर्ट संविधान के अनुच्छेद 32 के तहत आने वाली याचिकाओं को हतोत्साहित करना चाहती है. इस पर कपिल सिब्बल ने कहा कि कोर्ट ने पहले भी अनुच्छेद 32 के तहत मामलों की सुनवाई की है. कोर्ट ने कहा कि उसे आर्टिकल 32 के तहत अपने अधिकार पता हैं.

इस पर कपिल सिब्बल ने कहा,

“ये एक अपवाद से भरा मामला है. ये मामला एक पत्रकार से जुड़ा हुआ है, जो जेल में है.”

12 नवंबर की सुनवाई में कोर्ट ने आदेश दिया था कि याचिका में कुछ बदलाव किए जाएं. 16 नवंबर की सुनवाई में कोर्ट ने पूछा कि क्या याचिका में बदलाव किए गए हैं? कपिल सिब्बल ने जवाब दिया, ‘हम कप्पन से मिल भी नहीं सके हैं. हम कैसे परिवर्तन कर सकते हैं?”

अपनी जिरह में कपिल सिब्बल ने कहा,

“FIR में कप्पन का नाम तक नहीं है. उनके द्वारा किए गए अपराध का कहीं कोई ज़िक्र नहीं है. वो 5 अक्टूबर से जेल में हैं. मजिस्ट्रेट कहते हैं कि मिलना है तो जेल जाइए. और जेल प्रशासन कहता है कि मजिस्ट्रेट से मिलिए.”

जिरह के बाद बेंच ने यूपी सरकार को नोटिस जारी किया और केस की सुनवाई को 20 नवंबर तक  के लिए मुल्तवी कर दिया. 

आर्टिकल 32 का मामला

आर्टिकल 32 क्या है? ये सुप्रीम कोर्ट का अधिकार है, जिसके तहत कोर्ट मूलभूत अधिकारों के हनन के मामले में दख़ल दे सकता है. अपने बयान में बेंच ने कहा है कि आर्टिकल 32 की बहुत सारी याचिकाएं इस समय कोर्ट के सामने लम्बित पड़ी हैं. इसलिए वे इस तरह की याचिकाओं को डिस्करेज करना चाहते हैं. 

पाठक इसका ये मतलब निकाल सकते हैं कि अगर कम याचिकाएं आयेंगी, तो पुरानी याचिकाओं का निबटारा किया जा सकेगा. 


हाथरस केस में पीड़ित परिवार से पुलिस की कही बातें, कई सवाल खड़े करती हैं

 https://www.thelallantop.com/videos/hathras-case-tanushree-pandey-of-india-today-posted-shocking-videos-of-cremation/

 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

पंजाब में ग्राम पंचायतों ने कहा- परिवार से कोई एक दिल्ली आंदोलन में शामिल हो नहीं तो जुर्माना दे

पंजाब में ग्राम पंचायतों ने कहा- परिवार से कोई एक दिल्ली आंदोलन में शामिल हो नहीं तो जुर्माना दे

आंदोलन को तेज करने के लिए पंजाब में बनी रणनीति.

कौन हैं वो 5 TMC नेता, जिनको अमित शाह ने विशेष विमान से बुलाया और BJP ज्वॉइन करा दी

कौन हैं वो 5 TMC नेता, जिनको अमित शाह ने विशेष विमान से बुलाया और BJP ज्वॉइन करा दी

इनमें जगमोहन डालमिया की बिटिया भी शामिल हैं.

'मन की बात' में 26 जनवरी की घटना पर एक लाइन में क्या बोले पीएम मोदी?

'मन की बात' में 26 जनवरी की घटना पर एक लाइन में क्या बोले पीएम मोदी?

कोविड वैक्सीनेशन पर भी बात की.

गाजीपुर बॉर्डर पर दिल्ली पुलिस की ओर से लगाई गई 12 लेयर की बैरिकेडिंग

गाजीपुर बॉर्डर पर दिल्ली पुलिस की ओर से लगाई गई 12 लेयर की बैरिकेडिंग

किसानों की बढ़ती संख्या को देखते हुए उठाया कदम, NH-24 बंद.

पुलिस के बूट तले दबे 'पंजाबी जॉर्ज फ्लॉयड' रंजीत सिंह की वायरल तस्वीर के बारे में जान लीजिए

पुलिस के बूट तले दबे 'पंजाबी जॉर्ज फ्लॉयड' रंजीत सिंह की वायरल तस्वीर के बारे में जान लीजिए

तस्वीर और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है.

सबसे कम उम्र में Asian Cricket Council के प्रेसिडेंट बने जय शाह

सबसे कम उम्र में Asian Cricket Council के प्रेसिडेंट बने जय शाह

ACC ने ट्वीट कर दी जानकारी.

आज हारने वाली टीम बाहर, लेकिन जीतने वाली भी फाइनल में नहीं पहुंचेगी

आज हारने वाली टीम बाहर, लेकिन जीतने वाली भी फाइनल में नहीं पहुंचेगी

BBL का नॉकआउट मुकाबला.

सिंघु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर 31 जनवरी तक इंटरनेट बंद

सिंघु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर 31 जनवरी तक इंटरनेट बंद

30 जनवरी का किसान आंदोलन से जुड़ा अपडेट जान लीजिए.

इंग्लैंड का ये कौन सा खिलाड़ी है, जिसने ऑस्ट्रेलिया में तहलका मचा दिया?

इंग्लैंड का ये कौन सा खिलाड़ी है, जिसने ऑस्ट्रेलिया में तहलका मचा दिया?

इयन मॉर्गन की तो इस पर निगाहें टिक गई होंगी!

सभी पार्टियों की मीटिंग बैठी तो किसानों के मुद्दे पर क्या बोले पीएम मोदी?

सभी पार्टियों की मीटिंग बैठी तो किसानों के मुद्दे पर क्या बोले पीएम मोदी?

बजट सत्र शुरू होने के बाद बुलाई गई थी सर्वदलीय बैठक