Submit your post

Follow Us

राउल विंसी के सर्टिफिकेट का क्या चक्कर है, जिसे स्वामी राहुल गांधी का बताना चाह रहे हैं

869
शेयर्स

अमेठी में राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ रहीं स्मृति ईरानी की डिग्री पर कांग्रेस की ओर से सवाल उठाने के बाद बीजेपी के सीनियर नेता सुब्रमण्यन स्वामी ने राहुल के एजुकेशनल क्वालिफिकेशन पर सवाल खड़े किए हैं. स्वामी नेहरू-गांधी परिवार की एकेडमिक क्वॉलिफिकेशन को बोगस बताते रहे हैं. स्वामी ने कहा था कि जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी समेत पूरे नेहरू-गांधी परिवार में कोई पास नहीं हुआ. 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान स्वामी ने कहा था कि  राहुल गांधी M.Phill पास नहीं कर सके. 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान भी वही आरोप फिर से दोहरा रहे हैं. इस बार एक डॉक्यूमेंट भी दिखा रहे हैं.

डॉक्यूमेंट में नाम लिखा है Raul Vinci यानी राउल विंसी. स्वामी ने बिना किसी का नाम लिए 12 अप्रैल को ट्वीट किया,

बुद्धू ने अपने हलफनामे में गलत जानकारी दी है कि उनके पास M. Phill की डिग्री है. वो प्री-थीसिस एक्ज़ाम में फेल हो गए थे, इसलिए थीसिस लिखने की इजाज़त नहीं दी गई थी. उनसे कहो कि अपनी थीसिस और एग्ज़ाम रिज़ल्ट का सबूत दें.

सुब्रमणियन स्वामी का दावा है कि राहुल गांधी ने अपने हलफनामे में गलत जानकारी दी है.
सुब्रमण्यन स्वामी का दावा है कि राहुल गांधी ने नामांकन के दौरान दायर हलफनामे में गलत जानकारी दी है.

स्वामी ने जो ट्वीट किया है उसके साथ एक सर्टिफिकेट की फोटोकॉपी लगी है, इस पर कैंब्रेज यूनिवर्सिटी की मुहर है. स्वामी का कहना है कि ये सर्टिफिकेट राउल विंसी के नाम पर जारी किया गया था.

‘बुद्धू के कैंब्रिज के सर्टिफिकेट के मुताबिक उसका नाम राउल विंसी है और उसने M. Phill की पढ़ाई की और नेशनल इकॉनमिक प्लानिंग एंड पॉलिसी के पेपर में फेल हो गया’

स्वामी का ट्वीट. इसके अलावा एक और ट्वीट किया था जिसमें कांग्रेस प्रवक्ता को खरी खोटी सुना रहे थे.
स्वामी का ट्वीट. इसके अलावा एक और ट्वीट किया था जिसमें कांग्रेस प्रवक्ता को खरी खोटी सुना रहे थे.

स्वामी इसे राहुल गांधी का सर्टिफिकेट बता रहे हैं. ‘सर्टिफिकेट’ में राउल विंसी के M. Phill का ब्यौरा है. सर्टिफिकेट के मुताबिक राउल विंसी ने साल 2004-05 के दौरान M. Phill की थी. राहुल के लोकसभा चुनाव (2014) के लिए दायर नामंकन पत्र के मुताबिक उन्होंने 1995 में कैंब्रिज के ट्रिनिटी हॉल से डेवलपमेंट स्टडीज़ में M. Phill की है.  ना कि 2004-05 में.

बाईं ओर दिख रही तस्वीर में राहुल की नामांकन(2014) के दौरान बताई गई एकेडमिक क्वालिफिकेशन है. दाईं ओर है स्वामी और उनके समर्थकों का जुटाया हुआ पेपर. दोनों में M. Phill करने के साल के बारे में लिखी जानकारी पर नज़र दौड़ाइए तो ज़रा.
बाईं ओर दिख रही तस्वीर में राहुल गांधी ने नामांकन (2014) के दौरान  दायर हलफनामे में अपनी एकेडमिक क्वालिफिकेशन बताई है. दाईं ओर है स्वामी और उनके समर्थकों का जुटाया हुआ पेपर. दोनों में M. Phill करने के साल के बारे में लिखी जानकारी पर नज़र डालें तो जानकारियां मैच नहीं करती हैं. 

राहुल गांधी की डिग्री को लेकर ‘दी टेलिग्राफ’ में अनिल सील का बयान मिला. डॉ. अनिल कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में सीनियर फेलो रहे हैं. बड़े इतिहासकार रहे हैं. नवंबर 2013 में लंदन की एक सभा को संबोधित किया था. उन्होंने बताया था कि राहुल गांधी और उनके पिता राजीव गांधी को वो ही कैंब्रिज लाए थे. डॉ. सील ने कहा था कि वो राहुल और राजीव को लाए ज़रूर थे, लेकिन कभी भी राजीव को डेवलपमेंट स्टडीज सब्जेक्ट नहीं पढ़ाया. क्योंकि वो इतिहासकार रहे  हैं इसी सब्जेक्ट को पढ़ाते रहे हैं.

कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से जुड़े लोगों का नाम ‘रेड बुक’ में रखा जाता है. इस रेड बुक में राहुल का नाम दर्ज था- “VINCI, Rahul T MPHIL95” यहां T का मतलब ट्रिनिटी  कॉलेज है.

राहुल गांधी ने सरनेम क्यों बदला
देश के पूर्व प्रधानमंत्री और राहुल गांधी के पिता राजीव गांधी की 1991 में हत्या के बाद उनके परिवार की सुरक्षा को लेकर कई तरह के उपाय किए गए. कैंब्रिज यूनिवर्सिटी ट्रिनिटी कॉलेज में पढ़ाई के दौरान राहुल गांधी का सरनेम सुरक्षा के उद्देश्य से बदला गया. रेड बुक में गुप्त कोड का अर्थ है कि राहुल विंसी ने 1995 में अपना M.Phill पूरा किया था. कैंब्रिज यूनिवर्सिटी की पूर्व वाइस चांसलर प्रोफेसर एलिसन रिचर्ड ने हाल ही में एक लेटर में पुष्टि की थी कि राहुल को 1995 में M.Phill इन डेवलपमेंट स्टडीज से सम्मानित किया गया था. उन्होंने लिखा,

‘ये बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण है कि उनकी डिग्री को लेकर विवाद हो रहा है. हम इस विवाद को तुरंत खत्म करना चाहते हैं.’

यानी राहुल गांधी की डिग्री को लेकर बीजेपी नेता स्वामी जो दावा कर रहे हैं उसमें सच्चाई नजर नहीं आती. क्योंकि खुद कैंब्रिज यूनिवर्सिटी की पूर्व वाइस चांसलर प्रोफेसर एलिसन रिचर्ड कह चुकी हैं कि 1995 में राहुल गांधी ने अलग नाम से M.Phill का कोर्स किया था.


वीडियो- धोनी और दूसरे क्रिकेटर्स के फेवरेट मेरठ वाले क्रिकेट बैट बनते देखिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

28 सितंबर को दिल्ली में इंडिया टुडे का 'माइंड रॉक्स', फिल्मी हस्तियां समेत कई दिग्गज होंगे शामिल

रजिस्ट्रेशन करने का तरीका समझ लें, सीधा अपने नेताओं से सवाल करने का मौका मिलने वाला है.

जिस परिवार पर 'गैंग्स ऑफ वासेपुर' बनी थी, उसमें असल में पंगा हो गया

'सरदार खान' के भांजों ने अपना अलग गैंग बना लिया है.

ईद 2020 की रिलीज़ पर अक्षय-सलमान में जो लफड़ा हो रखा था, उसमें एक और ट्विस्ट आ गया

सलमान ने गोल-मोल ट्वीट करके सबको उलझा दिया है.

क्रिकेटर हर्शेल गिब्स ने आलिया भट्ट को नहीं पहचाना, आलिया ने जवाब दे दिया

हर्शेल गिब्स यानी 6 गेंदों में 6 छक्के और आलिया यानी गली बॉय की सफ़ीना.

प्रेगनेंट औरत 20 किलोमीटर पैदल चलकर डॉक्टर के पास पहुंची, लेकिन घर ज़िंदा न आ सकी

बेशक बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, लेकिन मां को न भूल जाओ.

'पति झगड़ता ही नहीं, मुझे तलाक़ चाहिए': एक ऐसा डिवोर्स केस जिसने जज को कन्फ्यूज कर दिया

दोनों तरफ की दलीलें सुनकर सर पकड़ लेंगे.

सौरव दादा ने दिवंगत नेता को शुभकामनाएं दे डालीं, ट्रोलर्स बोले,'हमें भी यही वाला स्टफ चाहिए'

'दादा, 2003 के वर्ल्ड कप में फील्डिंग चुनने के बाद ये आपकी दूसरी बड़ी ग़लती है.'

बीकानेर: रेप किया, फिर बॉडी जलाकर नहर में फेंक दी

रेप करने वाला कथित तौर पर सरपंच का रिश्तेदार है, इसलिए पुलिस चुप है.

क्रिकेटर संदीप पाटिल फेसबुक यूज़ नहीं करते, फिर भी उनके साथ फेसबुक पर कांड हो गया

हमें ये खबर इसलिए जाननी चाहिए क्यूंकि बहुत संभावन है कि ऐसा फ्रॉड हमारे-आपके साथ भी हो सकता है.

पतंजलि के प्रवक्ता ने कहा, अरुण जेटली को दुःख भरा प्रणाम कर रहा था, मेरा फोन चोरी हो गया

अमित शाह से कहा, मेरा फोन इस जगह है. पकड़ सकते हैं तो पकड़ लें.