Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

स्टीफन हॉकिंग नहीं रहे, ये वक्त उनकी चेतावनी याद करने का है

17.63 K
शेयर्स

14 मार्च, 2018 को स्टीफन हॉकिंग नहीं रहे. हमारे वक्त के सबसे बड़े वैज्ञानिक.

वो नहीं रहे, लेकिन उनकी कही बातें हमारे बीच हमेशा रहेंगी. उन्होंने कुछ कहा था, जो आदमजात के लिए एक चेतावनी जैसी है. नवंबर 2017 में उनके कहने पर हमने जो लिखा था, वो पढ़िए:


एक गेंद लीजिए. उसके चारों ओर गोल घुमाकर कपड़ा बांध दीजिए. फिर उसको पेट्रोल में डुबो दीजिए. वैसे ही जैसे बाटी को घी में डुबोते हैं. अब उस गेंद में आग लगा दीजिए. गेंद के ऊपर-नीचे, हर कोने में आग लग जाएगी. वो जो होगा, उसे कहेंगे आग का गोला. 600 साल के अंदर धरती ऐसी ही आग का गोला बन जाएगी. कुछ ऐसा ही कहा है दुनिया के सबसे बड़े वैज्ञानिक माने जाने वाले स्टीफन हॉकिंग ने.

खुद देख लीजिए, कितनी जल्दी बीत जाते हैं 600 साल
आपको शायद 600 साल दूर लगेंगे. मगर बता दें कि वक्त बहुत जल्दी बीतता है. वो भंसाली की फिल्म है न पद्मावती. उसमें रणवीर सिंह अलाउद्दीन खिलजी बने हैं. पता है, अलाउद्दीन कब पैदा हुआ था? 1296 में. 720 साल पहले. बहुत वक्त बीत गया क्या उस बात को? साल 1492. वो साल, जब क्रिस्टोफर कोलंबस ने अमेरिका को खोजा था. बहुत वक्त बीत गया क्या? अच्छा चलो, वो सब छोड़ो. दिल्ली का लोदी गार्डन जानते हैं? उसको बनवाया था इब्राहिम लोदी ने. साल था 1517. कहने को 500 साल हो गए. मगर इतिहास में देखो, तो क्या बहुत वक्त हो गया क्या उस बात को? विज्ञान मानता है कि इंसान की औसत उम्र 79 साल है. ऐसे जोड़ो, तो हमारी आठ पीढ़ियां. वक्त का क्या है. वो तो ऐसे ही चीते की तरह कूदता हुआ निकल जाता है.

स्टीफन हॉकिंग एक बेहद छोटा अंतरिक्षयान बनाने में जुटे हैं. ये कुछ इंच बड़ा होगा और प्रकाश की गति के बराबर तेजी से चलेगा.
स्टीफन हॉकिंग एक बेहद छोटा अंतरिक्षयान बनाने में जुटे हैं. ये कुछ इंच बड़ा होगा और प्रकाश की गति की तेजी से चलेगा.

स्टीफन हॉकिंग ने हम सबका, हमारी दुनिया का भविष्य देख लिया है
आज की तारीख में दुनिया के सबसे बड़े वैज्ञानिक कौन? स्टीफन हॉकिंग. नजूमी मालूम है? जो भविष्य देखता है. हॉकिंग साहब विज्ञान के नजूमी हैं. पहले क्या हुआ, आगे क्या होगा, ये सब बताते रहते हैं. क्या दिमाग है उनका. शरीर नहीं चलता. मगर दिमाग दौड़ता है. हमसे और आपसे कहीं ज्यादा दौड़ता है. ग्रहों, तारों और आसमानी चीजों पर दिन-रात काम करते हैं. उनके होने का ये फायदा है कि हमको मालूम चल जाता है. कि आज से 100 साल बाद और उसके भी बाद, ये दुनिया कैसी दिखेगी. कैसे रहेगी. थोड़ा संतोष रहता है. सोचते हैं, चलो. अपन लोग सही टाइम पर निकल लेंगे. उतना भोगने के लिए कौन बचा रहेगा? अब एक बार फिर स्टीफन हॉकिंग ने वॉर्निंग दी है. आप पूछेंगे कि ऐसा क्यों होगा? ऐसा होगा धरती की बदलती हालत के कारण. आबादी बहुत बढ़ती जा रही है. जंगल कट रहे हैं. इंसान अपनी जरूरतों के लिए धकाधक ईंधन इस्तेमाल कर रहा है. इस सबसे हमारी धरती तपती जा रही है. क्लाइमेट चेंज बड़ी तेजी से इसका हुलिया बिगाड़ रहा है. ऐसे ही बिगड़ते-बिगड़ते शायद एक दिन वो भी दिन आएगा, जब हॉकिंग की भविष्यवाणी सही साबित हो जाएगी.

हॉकिंग का ये प्रॉजेक्ट कामयाब रहता है, तो 20 साल के अंदर हम इंसान अपने रहने के लिए एक दूसरी दुनिया खोज लेंगे.
हॉकिंग का ये प्रॉजेक्ट कामयाब रहता है, तो 20 साल के अंदर हम इंसान अपने रहने के लिए एक दूसरी दुनिया खोज लेंगे.

600 साल के भीतर-भीतर खत्म हो जाएगी इंसान की जात!
हॉकिंग ने बताया है. जब धरती आग का गोला बन जाएगी, तब इंसान क्या, इंसान की जात ही खत्म हो जाएगी. वैसे ही जैसे डायनासॉर लुप्त हो गए. हॉकिंग कई साल से चेता रहे हैं. कवि लिखते हैं अपनी कविताओं में. नई दुनिया बसाएंगे. हॉकिंग कह रहे हैं, इसे सच करो. इंसानों को अपने लिए नई दुनिया बसानी होगी. कहीं किसी और ग्रह पर. अगर ऐसा नहीं किया, तो कोई नहीं बचेगा. धरती के सहारे बैठे रहे, तो सब मारे जाएंगे. कारण ये कि धरती खुद ही झुलस जाएगी. जीने के लायक ही नहीं रहेगी. हॉकिंग ने ये सब देख लिया है. विज्ञान के चश्मे से. सो कह रहे हैं, ऐसी जगह चलो जहां पहले कोई न गया हो. मतलब, चांद के पार चलो. मंगल पर. या कहीं और. कोई ऐसा ग्रह खोजो, जो धरती जैसा हो. जहां रहा जा सके.

वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि हमारे पड़ोसी आकाशगंगा में हमें धरती जैसा कोई ग्रह मिल सकता है. हॉकिंग की चेतावनी है कि अगर इंसानों को अपनी हस्ती बचानी है, तो उन्हें किसी और ग्रह पर जाकर बसना होगा.
वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि हमारे पड़ोसी आकाशगंगा में हमें धरती जैसा कोई ग्रह मिल सकता है. हॉकिंग की चेतावनी है कि अगर इंसानों को अपनी हस्ती बचानी है, तो उन्हें किसी और ग्रह पर जाकर बसना होगा.

तभी तो हॉकिंग कह रहे हैं, चांद के पार चलो
हॉकिंग एक छोटा सा अंतरिक्षयान भी बना रहे हैं. जो इतना तेज होगा, इतना तेज कि कुछ ही सालों में हमारी आकाशगंगा के अड़ोस-पड़ोस की टोह ले आएगा. इतना तेज कि एक घंटे से भी कम टाइम में मंगल पहुंच जाएगा. इसका नाम है नैनौक्राफ्ट. इसको ब्रह्मांड में ताका-झांकी के लिए भेजा जाएगा. धरती जैसा कोई ग्रह खोजने. जो बसने के मुफीद हो. जहां पानी हो. ऑक्सीजन हो. जीवन के निशान हों. हम ‘मिल्की-वे’ आकाशगंगा में रहते हैं. हमारे पड़ोस में है अल्फा सेंटोरी. सबसे नजदीकी स्टार सिस्टम. हमारे और उसके बीच करीब 40,000,000,000,000 किलोमीटर की दूरी है. यानी, 40 खरब किलोमीटर दूर. बस 20 साल के अंदर हॉकिंग का ये नैनोक्राफ्ट अल्फा सेंटुरी पहुंच जाएगा. वैज्ञानिकों को लगता है, वहां पक्का कोई ग्रह होगा. जीवन वाला. हमारी तरह. ऐसा हो गया, तो एक पूरी पीढ़ी मरने से पहले अल्फा सेंटूरी की तस्वीरें देख लेंगी. हो सकता है वो ऐलियन वाली पहेली भी सुलझ जाए.


ये भी पढ़ें: 

नोटबंदी की बरसी पर NIA के हाथ लगा करोड़ों का खजाना!

कमल हसनः वो ‘हिंदुस्तानी’ जिससे हॉलीवुड के बड़े डायरेक्टर ने भी प्रेरणा ली

आदमी 3 साल नहीं झेल सकता, स्टीफन 50 साल से झेल रहे हैं ये बीमारी

‘दूसरी धरती’ खोजने के लिए कितना टाइम बचा है?

फेसबुक पर सबसे महत्वपूर्ण स्टेटस पोस्ट हुआ है, ज़रूर पढ़ें

एक नई दुनिया मिली है, जाना चाहेंगे?

क्यों इस लड़की को अगला अल्बर्ट आइंस्टीन कहा जा रहा है!

ब्लू मार्बल : कहानी ‘दुनिया’ की सबसे मशहूर तस्वीर की

दिवाली की रात वाली इस फ़ोटो का सच नासा ने जारी किया है


हिमाचल चुनाव: गुड़िया कांड के बाद क्या बंदिशें लगीं लड़कियों पर

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Stephen hawking warns, earth will turn into a fireball soon

क्या चल रहा है?

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में तिरंगा लहराने वाले छात्रों को क्यों जारी हुआ नोटिस?

बाइक रैली करने वालों को कुलसचिव बता रहे हैं असामाजिक तत्व.

क्यूं हंसिका की प्राइवेट फोटोज़ लीक और वायरल होने वाली खबर सुनकर आपको भी डरना चाहिए?

'मेरा फोन और ट्विटर हैक हो गया. प्लीज़ किसी रैंडम मैसेज को रिस्पांड न करें.'

जम्मू कश्मीर के शहीद वानी को क्यों मिला अशोक चक्र

कभी खुद चरमपंथी थे. मगर फौज में आए. अशोक चक्र मिला.

वसीम जाफर रणजी में बैटिंग के सभी रिकॉर्ड ध्वस्त कर देंगे!

वसीम भाई ने 10 ईयर चैलेंज को सीरियसली ले लिया है

हार्दिक पंड्या को जीवन में इससे बड़ी खुशखबरी नहीं मिली होगी

इसे कहते हैं बहुत बड़ी राहत!

कुंभ में खाने में ज़हर मिलाने की साजिश के आरोप में ATS ने 9 लोगों को पकड़ा

महाराष्ट्र एटीएस ने अलग-अलग ठिकानों से पकड़े संदिग्ध.

नॉन वेज खाने से महिलाओं पर क्या असर पड़ता है?

डॉक्टरों ने कहा कि उन्हें ऐसे रिजल्ट की उम्मीद नहीं थी...

गाय की चर्बी का इस्तेमाल नोट में, हिंदुओं की भावनाएं आहत हुईं ऑस्ट्रेलिया में

मुसलमान भी बहुत नाराज होंगे इस खबर से क्योंकि इसमें सुअर की चर्बी भी शामिल है.