Submit your post

Follow Us

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना. PMUY. गरीब परिवारों को सस्ते में LPG कनेक्शन दिलाने वाली, पीएम मोदी की महत्वाकांक्षी योजना. शुरुआती सफलता के बाद सिलिंडरों के इस्तेमाल में तेजी से गिरावट आ रही है. मतलब लोगों ने कनेक्शन तो ले लिया, लेकिन रीफिल कम करवा रहे हैं. इसका सीधा मतलब है कि परिवारों में गैस सिलिंडरों का इस्तेमाल कम हो रहा है. एक आम परिवार अगर खाना बनाने के लिए केवल गैस-चूल्हे पर निर्भर है तो एक सिलिंडर वहां डेढ़ से दो महीने चलता है. यानी साल में औसत छह सिलिंडर एक परिवार को लगेंगे.

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय की लेटेस्ट स्टडी से पता चलता है कि मई, 2016 से मई, 2018 के बीच जिन परिवारों ने उज्ज्वला योजना के तहत रजिस्टर किया था, उन्होंने अक्टूबर, 2018 से सितंबर, 2019 के बीच औसत 3.08 सिलिंडर भरवाए.

दिसंबर में कंट्रोलर एंड ऑडिटर जनरल ऑफ इंडिया (CAG) की रिपोर्ट आई थी. उज्ज्वला योजना को लेकर. इस रिपोर्ट के मुताबिक, फाइनेंशियल ईयर 2017-18 में जिन 1.93 करोड़ लोगों को कनेक्शन दिया गया था, उनमें से एक उपभोक्ता साल में औसतन 3.66 LPG ही रीफिल कराता है. 31 दिसंबर, 2018 तक 3.18 करोड़ उज्ज्वला योजना लाभार्थियों के इसी तरह के एनालिसिस से पता चला कि सिलेंडर की खपत सालाना 3.21 थी.

फाइनेंशियल ईयर 2018-19 के दौरान घरेलू सिलिंडर भरवाने का राष्ट्रीय औसत 6.25 रहा. 12 से ज्यादा राज्यों में यह औसत राष्ट्रीय औसत के आधे से भी कम है. सिलेंडर भरवाने की संख्या में कमी से ऑयल मार्केटिंग कंपनियों का घाटा बढ़ने की संभावना भी बढ़ गई है.


CAG की रिपोर्ट विस्तार से यहां पढ़ सकते हैं: उज्ज्वला योजना में बंपर फ्रॉड : साढ़े तीन लाख मौकों पर एक दिन में 2 से 20 बार गैस भरवाई गई


राज्य सालाना सिलेंडर की औसत दोबारा भराई
आंध्र प्रदेश 3.34
असम 2.82
बिहार 3.31
गोवा 3.94
गुजरात 3.96
जम्मू और कश्मीर 2.37
केरल 3.49
मध्य प्रदेश 2.35
तमिलनाडु 3.33
महाराष्ट्र 3.03
कर्नाटक 3.53
ओडिशा 2.65
पंजाब 4.22
राजस्थान 2.98
उत्तर प्रदेश 3.28
पश्चिम बंगाल 3.01
हरियाणा 5.22
दिल्ली 8.36
तेलंगाना 2.85

डेटा: पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय


असम, मध्य प्रदेश, ओडिशा, तेलंगाना और राजस्थान उन राज्यों में से हैं, जहां अक्टूबर, 2018 से सितंबर, 2019 के बीच सिलिंडर की औसत खपत 3.08 सिलिंडर के औसत से कम है.

सरकार का कहना है कि उसने गरीब परिवारों की महिलाओं को डिपाजिट-फ्री LPG कनेक्शन बांटे हैं, लक्ष्य की तारीख से सात महीने पहले ही 7 सितंबर, 2019 को 8 करोड़ का टारगेट पूरा किया जा चुका है. मंत्रालय के मुताबिक़, उज्ज्वला योजना के बाद से राष्ट्रीय LPG कवरेज में 96.5 फीसद की बढ़ोतरी हुई है.


वीडियो- ज़मीनी हकीकत : घरों में सिलेंडर पहुंचाकर भी कैसे फेल हुई पीएम मोदी की उज्ज्वला योजना?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

इटली से हनीमून मनाकर लौटी महिला के ख़िलाफ़ पुलिस ने FIR क्यों की?

फरवरी में शादी के बाद महिला अपने पति के साथ कई देशों की यात्रा से लौटी है.

कोरोना वायरस पर पीएम मोदी ने पड़ोसी देशों से बात की, पर इमरान खान नहीं आए

SAARC देशों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में अपना प्रतिनिधि भेजा.

पुलिस के सामने खुद को दिल्ली दंगे का पीड़ित बता रहा था, CCTV ने पोल खोल दी

पुलिस ने फुटेज दिखाकर पूछताछ की तो अपनी बातों से पलट गया.

चंद्रशेखर आजाद ने राजनीतिक पार्टी का ऐलान किया, नाम है आजाद समाज पार्टी

BSP के संस्थापक कांशीराम के जन्मदिवस के मौके पर की घोषणा.

कोरोना वायरस के चलते बिहार में BPSC की परीक्षाएं टलीं

बिहार के कई जिलों में धारा 144 लागू.

AC कोच में तकिया और बेडशीट रेलवे देगा, कंबल घर से ले जाना पड़ेगा

कोरोना वायरस की वजह से रेलवे ने किया फैसला.

वित्त मंत्री ने SBI के अधिकारियों की क्लास लगाई, ऑडियो वायरल हुआ, अब बवाल हो गया है

AIBOC ने निर्मला सीतारमण को ऐसा न करने की हिदायत दी और फिर बयान वापस ले लिया.

इस शहर की ट्रैफिक पुलिस जो कर रही है उससे जनता की लाइफ बदल गई

जो हज़ारों का चालान काटकर नहीं हुआ, वो इस कदम से हो गया.

कोरोना वायरस की वजह से मौत पर डेडबॉडी को जलाना या दफनाना चाहिए?

दिल्ली में महिला की मौत पर कोरोना के डर से अंतिम संस्कार में दिक्कत आई.

पूर्व रॉ चीफ ने बताया, फारूक अब्दुल्ला की रिहाई अचानक कैसे हुई?

रॉ के प्रमुख रह चुके ए. एस. दुलत ने पूर्व सीएम की रिहाई को लेकर बड़ा दावा किया है.