Submit your post

Follow Us

सलमान और अक्षय के साथ काम कर चुके इस लड़के की मौत के बाद लोगों को लगा गलत हुआ है

131
शेयर्स

अभी-अभी अक्षय कुमार की ‘हाउसफुल 4’ और सिद्धार्थ मल्होत्रा की ‘मरजावां’ रिलीज़ हुई है. इन दोनों ही फिल्मों में दो नाम कॉमन थे. रितेश देशमुख और निमिश पिलंकर. रितेश तो एक्टर थे उनके बारे में आपको पता होगा लेकिन निमिश एक साउंड एडिटर थे. ‘थे’ इसलिए क्योंकि अब नहीं हैं. गुज़र गए. इस बात की जानकारी जर्नलिस्ट और फिल्ममेकर खालिद मोहम्मद ने अपने ट्विटर हैंडल पर दी. उन्होंने बताया कि निमिश का ब्लड प्रेशर अचानक से बढ़ गया, जिसकी वजह से उन्हें ब्रेन हैमरेज हो गया. और उनकी जान चली गई. वो सिर्फ 29 साल के थे.

साउंड एडिटर माने किसी फिल्म से जुड़ा वो शख्स, जो फिल्म पूरी फिल्म में साउंड और विज़ुअल का बैलेंस बनाए रखता है. फिल्म के गानों से लेकर डायलॉग्स और बैकग्राउंड स्कोर फिल्म में कब, कहां और कैसे इस्तेमाल किए जाएं कि फिल्म देखने में खलल न आए, ये काम साउंड एडिटर्स का ही होता है. हमने कई फिल्मों में देखा है कि फिल्म में लिप सिंक की दिक्कत होती है. यानी फिल्म में एक्टर ने डायलॉग बोल दिया. लेकिन उसके होठ और हमें सुनाई देने वाली आवाज़ एक साथ नहीं होती है. अगर इस तरह की दिक्कत आपको किसी फिल्म में आती है, तो उसके ज़िम्मेदार साउंड एडिटर ही होते हैं. हमने ये इग्ज़ांपल इसलिए दिया क्योंकि ये फिल्मों में साउंड एडिटर के काम को समझने का सबसे आसान तरीका है.

निमिश के करियर की बात करें, तो उन्होंने ‘हाउसफुल 4’ और ‘मरजावां’ के अलावा हाल ही में आई नील नितिन मुकेश की ‘बायपास रोड’ में भी काम किया था. वो सलमान खान की ‘रेस 3’ का भी हिस्सा थे. वो अक्षय की इसी साल रिलीज़ हुई फिल्म ‘केसरी’ से भी जुड़े हुए थे. निमिश की मौत पर दुख जताते हुए अक्षय कुमार ने एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने लिखा कि उन्हें ये खबर सुनकर धक्का लगा है. और उन्हें निमिश के परिवार के लिए काफी बुरा लग रहा है. वो ट्वीट आप नीचे देख लीजिए:

Akshay Kumar

ये तो हो गईं रेगुलर बातें. लेकिन निमिश की मौत के बाद एक अलग तरह की बहस छिड़ गई है. अगर कोई फिल्म बनती है, तो उसका सारा क्रेडिट एक्टर, डायरेक्टर, प्रोड्यूसर और म्यूज़िक डायरेक्टर आपस में मिलकर बांट लेते हैं. फिल्म से जुड़ी टेक्निकल क्रू को तो नज़रअंदाज़ ही कर दिया जाता है. फिल्म के क्रेडिट प्लेट में उनका ज़िक्र भर कर दिया जाता है, जिसके स्क्रीन पर आने तक जनता थिएटर्स से बाहर निकल चुकी होती है. एक समस्या तो क्रेडिट की है.

Vipin Sharma

दूसरी दिक्कत है काम और पैसे के बीच का अंतर. सोशल मीडिया पर लोग लगातार लिख रहे हैं कि टेक्निकल क्रू बस चुपचाप अपना काम करती है. लेकिन उसका ड्यू उसे कभी नहीं मिलता. उनसे बिना किसी टाइम लिमिट के जीतोड़ मेहनत करवाई जाती है लेकिन उन्हें उनके काम के मुताबिक पैसा नहीं मिलता. और जो मिलता है वो भी काम होने के बाद आराम से मिल पाता है. काम छिन जाने के डर से इस बारे में क्रू ज़्यादा बोलती भी नहीं और चुपचाप अपना काम करती रहती है.

ऐसे में लोगों का मानना है कि इस तरह की वर्किंग कंडिशन में काम करना बहुत मुश्किल है. हो सकता है निमिश की मौत की वजह ब्लड प्रेशर रही हो लेकिन ब्लड प्रेशर के पीछे की वजह भारी स्ट्रेस हो सकता है. हालांकि ये सिर्फ लोगों का कहना है और हमारा काम लोगों की आवाज़ आप तक पहुंचाना है. बाकी डिसीज़न आपका है.


वीडियो देखें: धूम 4 फिल्म में अभिषेक बच्चन और उदय चोपड़ा भी नहीं होंगे!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

BHU : मुस्लिम संस्कृत शिक्षक ने कहीं और पढ़ाने के लिए आवेदन किया है

एक पत्थर पर लिखी बात संविधान से ज्यादा ज़रूरी?

एक तरफ अमित शाह रैली में बोले नक्सलवाद ख़त्म किया, उधर नक्सलियों ने हमला कर दिया

नक्सलियों ने अमित शाह को गलत साबित कर दिया. चार जवान शहीद हो गए.

कांग्रेस ने अलग से प्रेस कॉन्फ्रेंस क्यों की?

और क्या बोले अहमद पटेल?

महाराष्ट्र में रातों रात बदला गेम, देवेंद्र फडणवीस सीएम और एनसीपी के अजित पवार डिप्टी सीएम बने

शिवसेना ने इसे अंधेरे में डाका डालना बताया.

किसका डर है कि अयोध्या मसले में सुन्नी वक्फ बोर्ड रिव्यू पिटीशन नहीं फ़ाइल कर रहा?

चेयरमैन के ऊपर दो-दो केस!

डूबते टेलीकॉम को बचाने के लिए सरकार 42 हज़ार करोड़ की लाइफलाइन लेकर आई है

तो क्या वोडाफोन आईडिया और एयरटेल बंद नहीं होने वाले हैं?

मालेगांव बम ब्लास्ट की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर देश की रक्षा करने जा रही हैं

रक्षा मंत्रालय की कमेटी में शामिल होंगी.

IIT गुवाहाटी के छात्र एक प्रोफेसर के लिए क्यों लड़ रहे हैं?

प्रोफेसर बीके राय लंबे समय से करप्शन के खिलाफ जंग छेड़े हुए हैं.

आर्टिकल 370 हटने के बाद कश्मीर में पत्थरबाजी कम हुई या बढ़ी?

राज्यसभा में सरकार ने आंकड़े बताए हैं.

फोन कंपनियां ये किस बात के लिए हम लोगों से पैसा लेने जा रही हैं?

कॉल और डाटा का पैसा बढ़ने वाला है, पढ़ लो!