Submit your post

Follow Us

लानत! सोनू सूद का मैनेजर बताकर मज़दूरों से घर भेजने के पैसे मांग लिए

सोनू सूद. लॉकडाउन में फंसे लोगों को उनके घर पहुंचा रहे हैं. सोनू सूद ने एक टोल फ्री नंबर भी जारी किया है. नंबर है- 18001213711. प्रवासी मजदूर इस नंबर पर फोन करके सोनू की मदद ले सकते हैं. सबसे बड़ी बात ये है कि वो लोगों को फ्री में उनके घर पहुंचा रहे हैं.

इस बीच कुछ लोग सोनू सूद के नाम पर लोगों से पैसे मांग रहे हैं. घर पहुंचाने के लिए. एक्टर ने फेसबुक और ट्विटर पर खुद बताया है. उन्होंने ट्वीट किया,

दोस्तों, कुछ लोग आपकी ज़रूरत का फ़ायदा उठाने के लिए आपसे सम्पर्क करेंगे, जो भी सेवा हम श्रमिकों के लिए कर रहें हैं वो बिल्कुल निःशुल्क है. आपसे अगर कोई भी व्यक्ति मेरा नाम लेकर पैसे मांगे तो मना कर दीजिए और तुरंत हमें या करीबी पुलिस अफसर को रिपोर्ट कीजिए.

सोनू सूद ने वॉट्सऐप चैट का जो स्क्रीनशॉट शेयर किया है. उसमें एक व्यक्ति खुद को सोनू का मैनेजर बता रहा है. एक व्यक्ति जो वासी से जौनपुर जाना चाहता है उससे 10 हजार रुपए मांग रहा है. चार लोग और दो बच्चों के. घर जाने की बात करने वाला व्यक्ति कहता है कि पैसे की प्रॉब्लम है. उसके बाद खुद को मैनेजर बताने वाला कहता है कि बस से चला जा. सबका मिलाकर 5000 लगेंगे. कहता है कि वासी से कल बस जाने वाली है, जाना है तो बना देना.

सोनू सूद ने ये स्क्रीनशॉट शेयर कर लोगों को आगाह किया है. घर भेजने के नाम पर पैसे मांगने वाले की रिपोर्ट करने को कहा है. उनका कहना है कि वो श्रमिकों के लिए जो सेवा कर रहे हैं वो बिल्कुल फ्री है.

सोनू सूद प्रवासी मज़दूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए बसों के अलावा फ्लाइट का टिकट तक करवा रहे हैं. वो लगातार इस कोशिश में हैं कि ज़्यादा से ज़्यादा मज़दूरों को उनके घर पहुंचाया जा सके. हर तरफ उनके काम की तारीफ हो रही है.


वीडियो देखें: सोनू सूद ने प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए अपना व्हाट्सएप नंबर दे दिया है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'निसर्ग' चक्रवात क्या है और ये कितना ख़तरनाक है?

'निसर्ग' नाम का मतलब भी बता रहे हैं.

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले मनोज तिवारी ‘आउट’

दिल्ली में हार के बाद बीजेपी का पहला बड़ा फैसला.

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.