Submit your post

Follow Us

वाराणसी की स्वास्थ्य व्यवस्था का सच, मां को बेटे का शव ई-रिक्शा में ले जाना पड़ा

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने सरकारों, आम लोगों और स्वास्थ्य व्यवस्था को लाचार सा बना दिया है. देशभर से रोजाना ऐसी तस्वीरें सामने आ रही हैं, जो हमें और ज्यादा झकझोर जाती हैं. उत्तर प्रदेश के वाराणसी से ऐसी ही एक तस्वीर सामने आई है. इसमें ई-रिक्शा पर एक महिला अपने बेटे के शव के साथ दिख रही है. वो सीट पर बैठी है और बेटे का शव उसके पैरों के पास पड़ा हुआ है. सोशल मीडिया पर इस तस्वीर ने हंगामा मचाया हुआ है. कई ट्विटर यूजर्स और पत्रकारों ने इसे शेयर किया है.

मौत के बाद एंबुलेंस तक नहीं मिली

आजतक के रिपोर्टर बृजेश कुमार ने जो जानकारी दी है, उससे यूपी सरकार की स्वास्थ्य व्यवस्था पर एक बार फिर बड़ा सवाल खड़ा होता है. उन्होंने बताया कि मृतक युवक का नाम विनीत सिंह था. जौनपुर का रहने वाला था. मुंबई में काम करता था. हाल ही में घर के एक शादी समारोह में शामिल होने के लिए आया था. तभी से उसकी तबीयत खराब चल रही थी. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, विनीत को किडनी की समस्या थी. तबीयत बिगड़ने पर उसकी मां उसे इलाज के लिए वाराणसी ले आई थीं. लेकिन यहां इलाज छोड़िए किसी अस्पताल ने बीमार युवक को एडमिट तक नहीं किया.

रिपोर्ट के मुताबिक, इलाज नहीं मिला तो युवक की हालत गंभीर हो गई. आखिरकार सोमवार (19 अप्रैल) को उसने दम तोड़ दिया. उस पर व्यवस्था की मार ये कि पीड़ित मां को बेटे का शव ले जाने के लिए एंबुलेंस भी नहीं मिली.

सामान्य इलाज भी नहीं

लल्लनटॉप से बातचीत में बृजेश कुमार ने बताया कि वाराणसी लाने के बाद विनीत की मां चंद्र कला उसे सोमवार (19 अप्रैल को) काशी हिंदू विश्वविद्यालय के सर सुंदरलाल चिकित्सालय ले गई थीं. लेकिन वहां विनीत को एडमिट नहीं किया गया. बृजेश के मुताबिक, चंद्र कला पहले भी बेटे को इस अस्पताल में लेकर गई थीं. तब भी उसे भर्ती नहीं किया गया था. बेटे की मौत के बाद मां को उसका शव भी ई-रिक्शा पर ले जाना पड़ा. सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर उसी समय की है.

बृजेश के मुताबिक, कोरोना संकट के कारण वाराणसी की स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है. अस्पतालों में कोरोना संक्रमितों की भारी भीड़ है, जिसके चलते अन्य बीमारियों से ग्रसित लोगों को उपचार नहीं मिल पा रहा. यहां तक की सामान्य इलाज की सुविधा भी एक तरह से खत्म हो गई है. विनीत सिंह को इलाज और मौत के बाद एंबुलेंस भी ना मिलना इसकी मिसाल है.

आंकड़ों से हाल बयान

कोविड-19 की दूसरी लहर के कारण वाराणसी की स्वास्थ्य व्यवस्था के लिए पैदा हुए संकट का अंदाजा लगाया जा सकता है. यहां अब तक कोरोना संक्रमण के 46 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. इनमें से तकरीबन 22 हजार केस इसी महीने दर्ज किए गए हैं. बीते 24 घंटों की बात करें तो इस दौरान वाराणसी में 2668 लोग कोरोना संक्रमण से ग्रसित पाए गए हैं. वहीं, 10 लोगों की मौत हुई है. इससे मृतकों की कुल संख्या 525 हो गई है. कोरोना वायरस की दूसरी लहर के कारण संकट में आई वाराणसी की स्वास्थ्य व्यवस्था, इसलिए भी चर्चा में है क्योंकि ये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है. वे 2014 से यहां के सांसद हैं. इस वाकये के सामने आने के बाद कई लोगों ने योगी सरकार के साथ पीएम मोदी की भी आलोचना की है.


वीडियो: कोरोना से मरने वालों की संख्या इतनी ज़्यादा कि कब्र के ऊपर चिता जलाने की आ गई नौबत

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

मृतक व्यक्ति पर नाबालिग से बलात्कार का आरोप था.

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5G के रोल आउट को लेकर दिक्कतें चालू.

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

बीमा कंपनी गाड़ी चोरी या दुर्घटनाग्रस्त होने का बहाना बनाए तो ये आदेश दिखा देना.

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

दबी जुबान में क्या कह रही है पुलिस?

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

जानेंगे बैंक FD में क्यों घट रही है लोगों की दिलचस्पी.

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

तौकीर रजा कांग्रेस पर आरोप लगा चुके हैं कि उसने मुसलमानों पर आतंकी का टैग लगाया.

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

जानिए UPA के समय हुई इस डील ने कैसे देश को शर्मसार किया.

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

बीबीसी का आरोप, टीम के साथ नरसिंहानंद के समर्थकों ने गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की.

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

मुख्य आरोपी के साथ उसके दोस्तों को पुलिस ने पकड़ लिया है.

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

पार्टी के इस कदम से आहत हरक सिंह रावत मीडिया के सामने भावुक हो गए.