Submit your post

Follow Us

क्या प्रज्ञा के गौरी लंकेश मर्डर केस कनेक्शन पर SIT की इस बात और कोर्ट में पेश की गई रिपोर्ट में फर्क है?

172
शेयर्स

9 मई को गौरी लंकेश मर्डर केस की जांच रिपोर्ट के आधार पर आई इंडियन एक्सप्रेस की एक ख़बर ने काफ़ी हल्ला मचाया. इस रिपोर्ट में कहा गया था कि एस.आई.टी का दावा है कि नरेंद्र दाभोलकर, गोविंद पानसरे, एम एम कलबुर्गी और गौरी लंकेश हत्याकांड एक सुनियोजित सीरीज का हिस्सा थे. जांच में पता चला है कि गौरी लंकेश हत्याकांड दोषियों ने एक ट्रेनिंग कैम्प में हिस्सा लिया था. जहां एक ‘बाबाजी’ और चार ‘गुरूजी’ बम बनाना सिखाते थे. इस मामले पर हमारी स्टोरी के लिए यहां क्लिक करें.

भोपाल से चुनाव लड़ रही प्रज्ञा ठाकुर की मुश्किलें बढ़ एकाएक बढ़ गईं. क्योंकि इन्हीं बम ट्रेनरों में से एक शख्स ‘संदीप दांगे’ और दूसरा ‘रामजी कलसांगरा’ प्रज्ञा ठाकुर के साथ ही मालेगांव बम धमाकों का आरोपी था. इससे प्रज्ञा ठाकुर, मालेगांव धमाके और बम ट्रेनिंग कैम्पों में कनेक्शन दिखाई दे रहा था.

2017 में पत्रकार गौरी लंकेश को उनके घर के बाहर गोली मार दी गई थी
2017 में पत्रकार गौरी लंकेश को उनके घर के बाहर गोली मार दी गई थी

# अब SIT कुछ और कह रही है:

एक दिन बाद इंडियन एक्सप्रेस  में ही एक दूसरी स्टोरी छपी है. इसके अनुसार ‘अब SIT ने प्रज्ञा ठाकुर और गौरी लंकेश के हत्यारों के बीच किसी तरह के कनेक्शन की बात से इंकार कर दिया है’. SIT ने अब कहा है कि उन्होंने बेंगलुरु की स्पेशल कोर्ट में ऐसे सबूत पेश नहीं किए हैं जिससे ये साबित हो कि प्रज्ञा ठाकुर, मालेगांव और लंकेश के हत्यारों में किसी तरह का कोई लिंक है.

# लेकिन SIT की रिपोर्ट अलग कहानी कह रही है:

इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी इस रिपोर्ट में SIT की चार्जशीट और उनके स्टेटमेंट पर सवाल उठाया है. अख़बार कहता है कि जैसा SIT बता रही है वैसा इनकी रिपोर्ट में है नहीं. स्पेशल कोर्ट में दाख़िल की हुई अपनी सप्लीमेंट्री रिपोर्ट में SIT कई जगह गच्चा खा जाती है. इंडियन एक्सप्रेस की ये रिपोर्ट बताती है कि मालेगांव बम धमाकों में प्रज्ञा ठाकुर के दो सह-आरोपी हैं ‘संदीप दांगे’ और ‘रामजी कलसांगरा’. और यही वो दोनों ‘बाबाजी’ थे. जिन्हें लंकेश के हत्यारों ने ट्रेनिंग कैम्प के ‘बाबाजी’ और ‘बाबा सर’ कहा था.

# कौन हैं गौरी लंकेश के हत्यारे?

गौरी लंकेश की हत्या के तीन आरोपी हैं. पहला है श्रीकांत पंगारकर, जो एक समय महाराष्ट्र से शिव सेना काउंसलर हुआ करता था. दूसरा है शरद कालस्कर, जो नरेंद्र दाभोलकर हत्याकांड में भी दोषी है. तीसरा है वासुदेव सूर्यवंशी, जो एक मैकेनिक है. और उसने कई बम धमाकों के लिए गाड़ियां चोरी करके मुहैया कराई थीं.


वीडियो देखें:

लालू यादव से लेकर कई क्रिकेटर भी जमशेदपुर की इस चना चूर दुकान के दीवाने हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सरकार Facebook से यूजर्स की जानकारी मांग रही है

2 साल में तीन गुनी हुई इमरजेंसी रिक्वेस्ट्स की संख्या.

पुनर्विचार की सभी याचिकाएं खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने रफ़ाल को हरी झंडी दी

राहुल गांधी ने पीएम मोदी को रफ़ाल डील में भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए खूब घेरा था.

महाराष्ट्र में नहीं बनी शिवसेना-एनसीपी की सरकार, अब लगेगा राष्ट्रपति शासन

एनसीपी को सरकार बनाने के लिए आज शाम साढ़े आठ बजे तक का समय मिला था.

करतारपुर कॉरिडोर: PM मोदी ने इमरान को शुक्रिया कहा, लेकिन इमरान का जवाब पीएम मोदी को पसंद नहीं आएगा

वहां पर भी कॉरिडोर से ज़्यादा 'विवादित मुद्दे' पर ही बोलता नज़र आया पाकिस्तान.

सुप्रीम कोर्ट का फैसला: विवादित ज़मीन रामलला को, मुस्लिम पक्ष को कहीं और मिलेगी ज़मीन

जानिए, कोर्ट ने अपने फैसले में और क्या-क्या कहा है...

नेहरु से इतना प्यार? मोदी अब बिना कांग्रेस के नेहरू का ख्याल रखेंगे

एक भी कांग्रेस का नेता नहीं. एक भी नहीं.

शरद पवार बोले- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने से बचाना है, तो बस एक ही तरीका है

शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की मिस्ट्री पर क्या कहा?

मोदी को क्लीन चिट न देने वाले चुनाव अधिकारी को फंसाने का तरीका खोज रही सरकार!

11 कंपनियों से सरकार ने कहा, कोई भी सबूत निकालकर लाओ

दफ़्तर में घुसकर महिला तहसीलदार पर पेट्रोल छिड़का, फिर आग लगाकर ज़िंदा जला दिया

इस सबके पीछे एक ज़मीन विवाद की वजह बताई जा रही है. जिसने आग लगाई, वो ख़ुद भी झुलसा.

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प, गाड़ियां फूंकी

पुलिस और वकील इस झड़प की अलग-अलग कहानी बता रहे हैं.