Submit your post

Follow Us

दिसंबर में भी नहीं बदले ऑटो सेक्टर के हालात, ये आंकड़े तो यही कह रहे हैं

एक साल से ऑटो सेक्टर में सुस्ती बनी हुई है. दिसंबर 2019 में भी गाड़ियों की बिक्री में कमी आई है. लगभग हर तरह के वाहनों की बिक्री घटी है. चाहे वो कार हो, दोपहिया वाहन या यात्री वाहन. कारों की बिक्री में 8.4 प्रतिशत की कमी आई है. ये आंकड़ा दिसंबर 2019 का है. इस महीने 1,42,126 यूनिट कारों की बिक्री हुई, जबकि दिसंबर 2018 में 1,55,159 कारों की बिक्री हुई थी. Society of Indian Automobile Manufacturers यानी (SIAM) के आंकड़ों के मुताबिक 2018 की तुलना में 2019 में यात्री वाहनों की बिक्री में भी 1.24 प्रतिशत की कमी आई है. 2018 में 2,38,753 यूनिट्स यात्री वाहन बिके जो कि 2019 में 2,35,786 यूनिट्स यात्री वाहन बिके थे.

हालांकि ऐसा नहीं है कि सिर्फ कारों और यात्री वाहनों की बिक्री ही घटी है. पिछले महीने मोटरसाइकिल की बिक्री भी घटी है. इसमें 12.01 प्रतिशत की कमी आई है. दिसंबर 2019 में 6,97,819 मोटरसाइकिल बिकीं. जबकि दिसंबर 2018 के दौरान 7,93,042 बाइक्स बिकीं थी. ये तो बाइक्स के आंकड़े हैं. दोपहिया वाहनों की कुल बिक्री दिसंबर में 16.6 प्रतिशत घट गई. दिसंबर में 10,50,038 दोपहिया वाहनों की बिक्री हुई. वहीं पिछले साल इसी दौरान 12,59,007 दोपहिया वाहन बिके थे.

एसआईएएम के अनुसार हर कैटेगरी में वाहनों की बिक्री दिसंबर में घटी है. इसमें 13.08 प्रतिशत की कमी आई है. दिसंबर 2019 में 14,05,776 गाड़ियां बिकीं. जबकि पिछले साल 16,17,398 गाड़ियों की बिक्री हुई थी. 2018 में यात्री वाहनों की बिक्री 33,94,790 रही. जबकि 2019 में 12.75 प्रतिशत कम होकर 29,62,052 इकाई हो गई. 2018 में 2,67,58,787 यूनिट्स के मुकाबले 2019 में इसी दौरान वाहनों की बिक्री 13.77 प्रतिशत घटकर 2,30,73,438 यूनिट रह गई.

ऑटो सेक्टर में वाहनों की बिक्री में गिरावट देखी गई है. हालांकि, मारुति सुजुकी इंडिया ने पिछले सप्ताह बताया था कि दिसंबर 2019 में यात्री वाहनों की बिक्री 1,24,375 यूनिट रही. जबकि एक साल पहले दिसंबर में यह आंकड़ा 1,21,479 था. यानी इसमें 2.4 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है. महिंद्रा एंड महिंद्रा की दिसंबर में घरेलू बिक्री में एक प्रतिशत बढ़कर 37,081 इकाई पर पहुंच गई, जो पिछले साल 36,690 इकाई थी.

गाड़ियों के बाज़ार से एक बहुत बड़ी संख्या में लोग जुड़े हुए हैं. प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से 3.2 करोड़. इसमें तकरीबन 8.3 लाख करोड़ का निवेश है. माने जितने पैसे में 830 बार चंद्रयान 2 बनाकर चांद पर भेजा जा सकता है. भारत ऑटोमोबाइल खपत के मामले में खुद बड़ा बाज़ार है, साथ में विदेशों में गाड़ियों का निर्यात करता है. ऑटो इंडस्ट्री भारत में मैनुफैक्चरिंग सेक्टर में 22-25 फीसदी की हिस्सेदारी रखती है. अब अगर इसे सर्दी होती है तो पूरी अर्थव्यवस्था छींक देती है.

अगर लोग गाड़ियां नहीं खरीद रहे तो इसका मतलब ये नहीं है कि भारत में सभी के पास गाड़ी है या लोग नई गाड़ी लेना नहीं चाहते. इसका मतलब ये है कि भारत में आम लोगों का बजट गड़बड़ा गया है.


अर्थात: आयुष्मान भारत योजना के बावजूद क्यों हेल्थ सेक्टर अगले दशक का सबसे बड़ा चैलेंज है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.