Submit your post

Follow Us

लड़कियों पर ग़लती से नहीं थूका जा रहा है पान गुटखा, इसके पीछे एक डरावनी वजह है

196
शेयर्स

गुज़रे शनिवार 24 अगस्त को पेशे से रीसर्च ऐनालिस्ट संजना राव घर जाने की तैयारी में थीं. मुंबई लोकल ट्रेन पकड़ने के लिए स्टेशन पर थीं. रात के 10 बजे थे. साथ में एक दोस्त भी थी. रोज़ की तरह ट्रेन प्लेटफ़ॉर्म पर लगती इससे पहले ही बगल से गुज़रती ट्रेन से एक हरकत हुई. प्लेटफ़ॉर्म पर खड़ीं संजना पर किसी ने गुटखा थूक दिया. गुटखे की पीक से संजना के कपड़े पूरी तरह ख़राब हो गए.

इस ख़बर पर बात करें इससे पहले आइए कुछ और समझ लेते हैं.

हम सब अपनी सेहत को लेकर बहुत चौकस रहते हैं. कुछ लोग अपने खान पान पर भी पैनी निगाह रखते हैं. सेहत बनाए रखने के लिए इतना तो बनता ही है. हमारे पास कम्प्यूटर होता है. उसका एक हिस्सा होता है हार्डवेयर और दूसरा हिस्सा होता है सॉफ्टवेयर. तो असल में हमारे शरीर का हार्डवेयर भी एक सॉफ्टवेयर से चलता है. हमारा दिमाग़. इसी में सारी प्रोग्रामिंग हो रखी होती है.

कई रिपोर्ट्स में ऐसा दावा किया जाता रहा है कि भारत में हर पांचवें इंसान के सॉफ्टवेयर में यानि दिमाग़ में कुछ न कुछ समस्या है. इसका मतलब हममें से लगभग हर पांचवां इंसान दिमाग़ी तौर पर स्वस्थ नहीं है.

आप इस फैक्ट पर सवाल उठाएं इससे पहले ये जान लीजिए कि फ्रस्ट्रेशन यानि मानसिक कुंठा या इसके शुरुआती लक्षण भी दिमाग़ी तौर पर हमें अनफिट बनाते हैं. ये बेहद डरावना है. कि आपसे मिल रहा हर पांचवां इंसान दिमाग़ के कहीं किसी कोने में बीमारी पाल रहा है.

# अब बात को समझिए

उस रात संजना के साथ जो हुआ वो पहली बार नहीं हुआ था. लेकिन इससे पहले संजना को ये लगता था कि ज़रूर किसी ने ग़लती से किया होगा. हो भी जाता है. बसों ट्रेनों में अक्सर ऐसा होता है कि इंसान देखकर नहीं थूकते.

लेकिन उस रात ऐसा नहीं था. संजना के ऊपर गुज़रती ट्रेन से लटके कुछ लोगों ने गुटखा थूका. संजना को तभी लगा कि ये जानबूझकर किया गया है. संजना ने जब अपने साथ हुई घटना बताई तो एक और लड़की ने अपने फ़ेसबुक प्रोफ़ाइल से बाक़ायदा वीडियो बनाकर ये बात समझाई कि कैसे गुटखा थूकने की ये घटनाएं एक पैटर्न में हो रही हैं. सोच समझकर हो रही हैं. रूनाली पाटिल ने बताया कि ऐसा उनके साथ भी पहली बार नहीं हुआ है. ये लगातार होता आया है कि प्लेटफ़ॉर्म पर खड़े रहने के दौरान ही किसी ने उनपर पान या गुटखा थूक दिया हो.

इन्होंने बताया कि कैसे प्लेटफ़ॉर्म पर खड़े खड़े भी लोग इनके ऊपर कई बार पान और गुटखा थूक चुके हैं
इन्होंने बताया कि कैसे प्लेटफ़ॉर्म पर खड़े खड़े भी लोग इनके ऊपर कई बार पान और गुटखा थूक चुके हैं

# इससे मेंटल हेल्थ का क्या लेना-देना?

है. फ्रस्ट्रेशन. कुंठा. ये सब हमारी दिमाग़ी सेहत से जुड़ा हुआ है. तक़रीबन हम सबने चलती ट्रेन पर पत्थर फेंकने वालों को देखा है. अमूमन बच्चे या अभी-अभी जवान लड़के होते हैं. ज़रा सोचिए कि एक हज़ारों लोगों से भरी ट्रेन पर पत्थर फेंकने से इन बच्चों को क्या मिलता होगा. क्या ये एक खेल है?

नहीं. ये अगर खेल है तो वैसा ही है जैसे मेक्सिको में बच्चे मुर्गे की गर्दन उखाड़ने का खेल खेलते हैं. ज़रा सोचिए कितनी कम उम्र में बच्चे दिमाग़ी तौर पर अस्वस्थ हो जाते हैं.

प्लेटफ़ॉर्म पर खड़ीं औरतों लड़कियों पर थूकना भी दिमाग़ी तौर पर बीमार होने की निशानी है. चलती बस में लड़की की पीठ पर हस्तमैथुन करके सीमेन डिस्चार्ज करने की भी ख़बरें आती रही हैं. जब दिमाग़ में भरा कचरा कीचड़ बलबलाने लगता है तो दिमाग़ी बीमारी के लक्षण ऐसे ही बाहर आते हैं.

स्वच्छ भारत अभियान ज़रूरी है. बड़े-बड़े झाड़ू लेकर नेता और हीरो हिरोइन लोग कैमरे के आगे गलियां चौबारे बुहारते नज़र आते हैं. लेकिन स्वच्छ मस्तिष्क अभियान के लिए क्या किया जाए. बाहर का कचरा तो साफ़ हो जाएगा, हो रहा है. ज़ेहन में सड़ रहा कीचड़ कैसे साफ़ होगा? ये हमको आपको ही सोचना होगा.


वीडियो देखें:

अटल के मंत्री जसवंत सिंह को परवेज मुशर्रफ ने कैसे धोखा दिया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

पाकिस्तान से प्याज़ खरीदने की तैयारी में भारत, किसान बोले- ये ठीक नहीं

प्याज़ की कीमतें लगातार बढ़ रही हैं.

इमरान खान: इक्कीसवीं सदी के वो कोलंबस, जिन्होंने 11 नए देश खोज डाले हैं

पहले आती थी हर बात पर हंसी...

बैन के बावजूद होर्डिंग लगाया, स्कूटी चला रही लड़की पर गिरा, संभलने से पहले ट्रक ने कुचल दिया

नेता के बेटे की शादी का होर्डिंग था.

अरे बाप रे! बुड्ढा बनकर देश से भाग रहे इस बंदे ने तो बहुत बड़े-बड़े कांड किए हैं

फर्जीवाड़े की 'थोक की दुकान' है ये!

बच्चा बोल रहा था, 'मेरे चाचा को छोड़ दो', यूपी पुलिस ने गाड़ी का कागज़ न मिलने पर लात-घूंसों से पीट दिया

फिर कार्रवाई क्या हुई?

खुश तो बहुत होंगे अमिताभ, KBC में उस डॉक्टर से मिले जिसने 35 साल पहले जान बचाई थी

इंतेहा हो गई....

चंकी पांडे ने साजिद खान के बारे में ये बात बोलकर पूरे मीटू मूवमेंट की आत्मा मार दी

आमिर खान के आंखों की नींद क्या गायब हुई, इंडस्ट्री की आंखों का तो पानी ही चला गया.

गज़ब! इन श्रद्धालुओं ने कुछ अच्छा करने के लिए गणपति विसर्जन की रैली तक रोक दी

'श्रद्धा' के साथ 'सबूरी' भी जुड़ जाए तो ये होता है.

4,6,8,10,12... दिल्ली में ऑड-ईवन दोबारा

जान लीजिए कब से लागू हो रहा है?

चुनाव जीतने के लिए हेटस्पीच फैला रहे थे नेतन्याहू, फेसबुक ने सस्पेंड किया अकाउंट

इज़राइल में 6 महीने के अंदर दोबारा चुनाव हो रहे हैं.