Submit your post

Follow Us

मुख्यमंत्री की कुर्सी जाने के बाद चंद्रबाबू नायडू की असली फजीहत अब हुई है

टीडीपी यानी तेलगू देशम पार्टी. पार्टी के अध्यक्ष हैं चंद्र बाबू नायडू. आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री. कभी बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी के दोस्त हुआ करते थे. 2019 का चुनाव आया तो दोस्ती सियासी दुश्मनी में बदल गई. मोदी और बीजेपी का साथ छोड़ दिया. अलग हो गए. चुनाव लड़ा तो बुरी तरह हारे. केंद्र में भी और राज्य में भी. लेकिन अभी असली फजीहत बाकी थी. और वो फजीहत हुई 20 जून को.

चंद्रबाबू नायडू के पास राज्यसभा में कुल छह सांसद थे. पांच थे आंध्रप्रदेश और एक तेलंगाना से. लेकिन 20 जून को अचानक आंध्रप्रदेश के तीन और तेलंगाना के इकलौते सांसद ने पार्टी ही छोड़ दी. संसद की सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया और बीजेपी में शामिल हो गए. आंध्र प्रदेश के सांसद टीजी वेंकटेश, वाइएस चौधरी और सीएम रमेश के साथ ही तेलंगाना के सांसद जीएम राव ने उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू को इस्तीफा सौंप दिया. और बीजेपी के नए-नए कार्यकारी अध्यक्ष बने जेपी नड्डा के सामने बीजेपी की सदस्यता ले ली. हम आपको एक-एक करके उन नेताओं के बारे में बताते हैं.

टीजी वेंकटेश

tg

टीजी वेंकटेश की गिनती आंध्र प्रदेश के रायलसीमा के सबसे अमीर आदमियों में से होती है. एक फेमस बिज़नेसमैन हैं. दो बार विधायक रह चुके हैं. एक बार टीडीपी से और एक बार कांग्रेस से. 2009 में जब राज्य में किरण कुमार रेड्डी की सरकार बनी तो मंत्री भी बने. लेकिन जब तेलंगाना के गठन की बात चलने लगी तो कांग्रेस का साथ छोड़ दिया. 2014 में फिर से पुरानी पार्टी टीडीपी में आ गए. 2016 में पार्टी ने उन्हें राज्यसभा भेज दिया.

वाइएस चौधरी

ys chaoudhary
पूरा नाम  है यालामानचिली सत्यनारायण चौधरी. सुजाना चौधरी के नाम से भी जाना जाता है. 2010 में राजनीति में उतरे थे. टीडीपी से 2010 में ही राज्यसभा में गए थे. 2016 में पार्टी ने दोबारा राज्यसभा में भेजा. जब टीडीपी, एनडीए के साथ थी तो टीडीपी कोटे से विज्ञान, तकनीकी और भू विज्ञान राज्य मंत्री रहे. टीडीपी ने बीजेपी से नाता तोड़ा तो मंत्रीपद चला गया. 2016 में मॉरीशस बैंक से लोन लेने और उसे वापस न करने के मामले में भी सुर्खियों में आए थे.

जीएम राव

जीएम राव.

पूरा नाम गरिकापति मोहन राव. 2014 में आंध्रप्रदेश से राज्यसभा सांसद चुने गए. जब राज्य का बंटवारा हुआ तो इनकी सीट तेलंगाना के हिस्से आई. टीडीपी में वो महासचिव भी थे. सितंबर 2014 से केमिकल और फर्टिलाइजर, मेंबर ऑफ पार्लियामेंट लोकल एरिया डेवलेपमेंट स्कीम के साथ-साथ और कमेटी के सदस्य रहे हैं.

सीएम रमेश

cm ramesh
पूरा नाम चिंताकुंता मुनुस्वामी रमेश. टीडीपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता. दिल्ली में पार्टी की बात रखने वाले थे. आंध्र प्रदेश के बड़े कारोबारी. इतने बड़े कि 1999 में रित्विक प्रोेजक्ट प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी बनाई. इन्फ्रास्ट्रक्चर यानी कि सड़क और पुल बनाने वाली कंपनी.  14 साल के अंदर कंपनी का कारोबार 1000 करोड़ रुपये का हो गया. अप्रैल, 2012 में राज्यसभा सांसद बने. संसद की कई समितियों में भी रहे.

अब TDP के लिए बढ़ी दिक्कत-

1982 में तेलगु सिनेमा के सुपर स्टार एनटी रामाराव के नेतृव में बनी तेलगुदेशम पार्टी इतिहास की सबसे कमजोर स्थिति में हैं. लोकसभा में महज उसके 3 सांसद हैं. इससे पहले 1989 में पार्टी को इतनी बुरी स्थिति झेलनी पड़ी थी.

उस चुनाव में तेलगुदेशम पार्टी के महज 2 सांसद लोकसभा पहुंच पाए थे. चंद्रबाबू नायडू के पास राज्यसभा में कुल 6 सांसद थे. 5 थे आंध्रप्रदेश और 1 तेलंगाना से. अब 4 बीजेपी में आने से 2 ही बचे. पर बीजेपी में आए इन 4 में से 2 पर जांच चल रही है.

तेलगूदेशम के पिछले चुनाव की स्थिति के बारे में भी जान लीजिए.

-1956-2014 तक आंध्र प्रदेश में लोकसभा की 42 सीट थी. पर तेलंगाना बनने के बाद आंध्र प्रदेश के पास 25 लोकसभा सीट बची. बाकी की 17 सीट तेलंगाना को मिली.

-2014 में हुए लोकसभा चुनाव हुआ. TDP को 17 सीट और 2019 के लोकसभा चुनाव में सिर्फ 3 सीट मिली.

-आंध्र प्रदेश में राज्यसभा की 11 सीट हैं, जिसमें से TDP के दो राज्यसभा सांसद हैं.

-एक कानाकामेडाला रवींद्र कुमार. इनका कार्यकाल 2018-2024 तक है. दूसरी थोटा सीथारामा लक्ष्मी हैं. इनका कार्यकाल 2014 से 2020 तक है. जिनका कार्यकाल अगले साल खत्म हो जाएगा.

-आंध्र प्रदेश में विधानसभा की 175 सीट हैं. 2014 में विधानसभा चुनाव में टीडीपी 117 सीट जीती थी. 2019 के विधानसभा चुनाव में YSR कांग्रेस चीफ जगनमोहन रेड्डी ने TDP को बुरी तरह से हराया है. जिससे TDP को 23 सीटें मिलीं. और TDP अपना कोई नेता राज्यसभा चुनाव में भेज पाएगी, ये थोड़ा मुश्किल है.


वीडियो देखें : संसद में शपथ लेने जा रहे ओवैसी के आगे जय श्री राम के नारे लगे, तो उन्होंने भी जवाब दे दिया 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या औरतों के ऑर्गैज़म पर तेजस्वी सूर्या का पुराना ट्वीट अरब देशों से हमारे संबंध ख़राब कर देगा?

अरब महिलाओं को लेकर पांच साल पहले ट्वीट किया था.

महाराष्ट्र के पालघर जिले में दो साधुओं सहित तीन की पीट-पीटकर हत्या, 110 आरोपी अरेस्ट

पालघर मॉब लिंचिग का वीडियो वायरल होने के बाद हुई कार्रवाई.

ऑनलाइन शॉपिंग: 20 अप्रैल की बाद वाली छूट से बाहर हो गईं ये चीजें

ई-कॉमर्स साइट्स ने तो तैयारी भी कर ली थी.

जो रैपिड टेस्ट किट छत्तीसगढ़ ने सस्ते में मंगाई, उसी किट के लिए अन्य राज्य दोगुनी कीमत क्यों दे रहे हैं?

रैपिड टेस्ट किट की कीमत पर सवाल उठ रहे हैं.

3 मई के बाद से ट्रेन और फ्लाइट शुरू होने की कितनी उम्मीद है?

जनता कर्फ्यू से ही धीरे-धीरे पब्लिक ट्रांसपोर्ट बंद होने लगे थे.

गुजरात को मिली पहली प्लाज्मा डोनर, कोरोना से ठीक हुई स्मृति ठक्कर ने डोनेट किया प्लाज्मा

एक व्यक्ति के प्लाज़्मा से कम से कम दो और अधिकतम पांच लोगों का इलाज किया जा सकता है.

इंदौर में फिर मेडिकल टीम पर हमला, पुलिस बोली गलतफहमी में हुआ अटैक

बीच-बचाव करने आए व्यक्ति को लगा चाकू.

लॉकडाउन के बीच मज़दूरों का क्या होगा, सीएम उद्धव ठाकरे ने फैसला कर दिया है

एक लाख तीस हज़ार गन्ना मज़दूरों का सवाल है.

पाकिस्तान में तबलीग़ी जमात के फैसलाबाद चीफ की कोरोना से मौत

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के सात हज़ार से ज़्यादा केस आ चुके हैं.

लॉकडाउन के बीच इस कंपनी ने 600 लोगों को नौकरी से निकाल दिया?

स्थानीय विधायक ने मामले की शिकायत कर्नाटक सरकार और केंद्र सरकार से की है.