Submit your post

Follow Us

'बड़े-बड़े लोगों के फोन आ रहे' कह सनसनी फैलाने वाले अदार पूनावाला ने अब U-टर्न ले लिया है

सीरम इंस्टीट्यूट के CEO अदार पूनावाला ने हाल ही में बताया था कि उन पर भारत में वैक्सीन की डिमांड को पूरा करने का काफी दबाव बनाया जा रहा है. ‘दी टाइम्स’ को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि उन पर ये प्रेशर इतना बढ़ गया था कि उन्होंने पत्नी और बच्चों समेत भारत छोड़ दिया और लंदन चले गए. अब उनका कहना है कि उनकी बातों का गलत मतलब निकाला गया था.

अदार पूनावाला ने एक लंबा-चौड़ा बयान जारी किया. जिसमें लिखा कि वो ज़्यादा से ज़्यादा कोविड वैक्सीन बनाने की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने लिखा,

”मैं यहां कुछ चीज़ें स्पष्ट करना चाहता हूं क्योंकि मेरी कही गई बातों को गलत तरीके से लिया जा रहा है.”

”सबसे पहले, वैक्सीन को बनाना एक स्पेशलाइस्ड प्रोसेस है, ये ऐसी चीज़ नहीं जिसे रातों-रात बना दिया जाए. हमें ये भी समझना होगा कि भारत की जनसंख्या बहुत बड़ी है और वयस्कों के लिए वैक्सीन बनाना आसान बात नहीं. दूसरे बड़े देश और एडवांस कंपनियां भी इसी परेशानी से जूझ रही हैं.”

”दूसरी बात, हम बीते साल अप्रैल से भारत सरकार के साथ काम कर रहे हैं. हमें हर तरह का सपोर्ट मिला है. फिर चाहे वो साइंटफिकली हो या फाइनेंशली.”

”हमें आज तक में टोटल 26 करोड़ डोज़ का ऑर्डर मिला था जिसमें से हमने 15 करोड़ की सप्लाई दी है. हमें इसका सौ प्रतिशत एडवांस 1732.50 करोड़ रुपये सरकार की तरफ से मिल गए हैं. बाकी के 11 करोड़ डोज़ अगले कुछ महीनों में भेजे जाएंगे.”

”आखिर में, हम समझते हैं कि सब चाहते हैं इस परिस्थिति में वैक्सीन जल्द से जल्द उपलब्ध हो. हम भी यही चाहते हैं. और हम इसे पूरा करने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं. ”

लोग पूनावाला के इस बयान से संतुष्ट नहीं दिख रहे हैं. उन्होंने भर-भर के कमेंट करना शुरू कर दिया है. किसी ने लिखा है कि भारत की आबादी इतनी ज़्यादा है तो वैक्सीन का ऑर्डर सिर्फ 26 करोड़ ही क्यों दिया गया है? किसी ने लिखा प्रधानमंत्री मोदी ने ही पूनावाला को ये लिखकर दिया है.

क्या कहा था अदार पूनावाला ने,

दी टाइम्स को दिए इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि उनके पास भारत के सबसे ताकतवर लोगों के फोन आ रहे हैं. जो उनसे कोविशील्ड यानी उस वैक्सीन की डिमांड कर रहे हैं. कोविशील्ड को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्रेजेनेका ने मिलकर तैयार किया है. सीरम इंस्टीट्यूट भारत में इस वैक्सीन का प्रोडक्शन कर रहा है.

‘दी टाइम्स’ से बात करते हुए कहा था,

“मैं यहां (लंदन में) लंबे वक्त तक रहूंगा, क्योंकि मैं वापस नहीं जाना चाहता. उस स्थिति में नहीं लौटना चाहता. सब कुछ मेरे कंधों पर आ गिरा है और मैं ये अकेले नहीं कर सकता हूं. मैं उस स्थिति में नहीं जाना चाहता जब आप अपना काम कर रहे हैं और किसी X, Y या Z को सप्लाई नहीं दे पा रहे, लोकिन आप अंदाजा नहीं लगा सकते कि वे अब क्या करने वाले हैं.”

इस इंटरव्यू में उन्होंने ये भी कहा था कि वो कुंभ और चुनाव के बारे में कुछ नहीं कहेंगे.

अदार पूनावाला ने इंटरव्यू में इस पर भी इशारा किया था कि उनका लंदन शिफ्ट होना इस बात से भी जुड़ा है कि उनका बिज़नेस प्लान अब भारत के बाहर भी वैक्सीन का निर्माण करना है. जब उनसे पूछा गया कि क्या भारत के बाहर जहां प्रोडक्शन होगा, उनमें ब्रिटेन भी शामिल है? उन्होंने कहा कि अगले कुछ दिनों में एक घोषणा होने वाली है.

पूनावाला ने कहा कि उनकी कंपनी हर संभव मदद जुटाने की कोशिश कर रही है. वैक्सीन से मुनाफा कमाने को लेकर किए गए सवाल पर उन्होंने कहा कि ये आरोप पूरी तरह गलत है. कोविशील्ड अभी भी इस ग्रह पर सबसे सस्ती वैक्सीन है, दाम बढ़ने के बाद भी.


वीडियो: सीरम इंस्टीट्यूट के CEO अदार पूनावाला ने भारत छोड़ लंदन जाने की असल वजह बताई

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से भी मदद की बात कही गई है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

ऑक्सीजन सप्लाई से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा था.

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

भारत सरकार की ओर से इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

दिल्ली हाई कोर्ट ने ऑक्सीजन की किल्लत पर केंद्र सरकार को बुरी तरह लताड़ दिया है

दिल्ली हाई कोर्ट ने ऑक्सीजन की किल्लत पर केंद्र सरकार को बुरी तरह लताड़ दिया है

बुधवार रात 8 बजे हुई सुनवाई में कोर्ट ने केंद्र को जमकर खरी-खोटी सुनाई.