Submit your post

Follow Us

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प, गाड़ियां फूंकी

5
शेयर्स

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में 2 नवंबर के दिन वकीलों और पुलिस के बीच जोरदार झड़प हो गई. इस झड़प में कुछ वकील घायल हुए हैं. जिन्हें सेंट स्टीफंस अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उनका इलाज चल रहा है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक वकील को पुलिस की गोली भी लगी है.

क्या है पूरा मामला, कैसे शुरू हुई हिंसा?

पूरा मामला पार्किंग से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है. मीडिया रिपोट के मुताबिक दोपहर करीब 3 बजे तीस हजारी कोर्ट के पास एक वकील की गाड़ी की टक्कर पुलिस की गाड़ी से हो गई. जिसके बाद वकील ने इस बात का विरोध किया. बस इसी के बाद पुलिस और वकील के बीच कहासुनी हो गई. बहस बढ़ती चली गई.

तीस हजारी बार एसोसिएशन के जय बिस्वाल ने बताया कि गाड़ी की टक्कर के बाद जब वकील ने विरोध किया, तब पुलिसवालों ने उसकी बात नहीं सुनी. उसे पकड़कर अंदर की तरफ ले गए और उसकी पिटाई की.

उसके बाद घटनास्थल पर लोकल पुलिस पहुंची, लेकिन उन्हें अंदर नहीं जाने दिया गया. हाई कोर्ट को इस बात की जानकारी दी गई. वहां से 6 जजों की एक टीम तीस हजारी कोर्ट पहुंची, लेकिन उन्हें भी अंदर नहीं जाने दिया गया. फिर पुलिस ने फायरिंग शुरू कर दी.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस फायरिंग में एक वकील घायल हुआ है. इसके अलावा पूरी झड़प में चार से ज्यादा वकीलों के घायल होने की खबर है. ये संख्या बढ़ भी सकती है. सबका इलाज सेंट स्टीफंस अस्पताल में चल रहा है. वहीं घटनास्थल पर एक गाड़ी को भी आग के हवाले किया गया है. इसकी तस्वीरें भी सामने आ चुकी हैं. साथ ही इस पूरी घटना को कवर करने के लिए कई सारे पत्रकार भी वहां मौजूद थे. इनमें से एक पत्रकार को भी चोट लगी है.

बार काउंसिल ऑफ दिल्ली के अध्यक्ष केसी मित्तल का कहना है,

‘तीस हजारी कोर्ट में पुलिस ने वकीलों पर हमला किया, हम इस पूरे मामले की कड़ी निंदा करते हैं. एक वकील की हालत बहुत गंभीर है. एक युवा वकील को जेल में पीटा गया. इन सभी पुलिसवालों को बर्खास्त किया जाना चाहिए. हम दिल्ली के वकीलों के साथ खड़े हैं.’

बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष मनन कुमार मिश्रा ने कहा,

‘दिल्ली पुलिस ने बहुत क्रूर कार्रवाई की. केवल थोड़े से पार्किंग के मसले को लेकर पुलिस ने निर्दोष वकीलों के ऊपर फायरिंग कर डाली. बार काउंसिल इसे बर्दाश्त नहीं करेगा. हमने सीनियर पुलिस अधिकारियों से और सरकार से मांग की है कि जल्द से जल्द दोषी पुलिसवालों को गिरफ्तार किया जाए और उन्हें सस्पेंड किया जाए.’

क्या कहती है पुलिस?

हालांकि इस मामले में पुलिस की तरफ से कोई भी आधिकारिक बयान नहीं आया है. लेकिन रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस गोलियां चलाने की बात से इनकार कर रही है.

वहीं इस वक्त तीस हजारी कोर्ट में तनाव का माहौल बना हुआ है. गाड़ियों में आग लगाई गई थी, इसलिए मौके पर दमकल की 10 गाड़ियां मौजूद हैं. कड़कड़डूमा कोर्ट में भी वकीलों ने इस घटना का विरोध शुरू कर दिया है.


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

ऐसा क्या कांड किया रशिया ने कि उसकी सारी टीमों पर ओलिंपिक्स और वर्ल्ड कप में बैन लग गया?

चार साल तक ओलिंपिक्स और वर्ल्ड कप नहीं खेल पाएगा पुतिन का देश.

पंत ने कैच छोड़ा, फैंस ने धोनी के नारे लगाए और कोहली भड़क गए

कोहली बाउंड्री पर फील्डिंग कर रहे थे, दर्शकों की तरफ मुड़े, और...

छात्राओं को घटिया मैसेज भेजता, लपेटा गया तो कहा, 'मज़ाक कर रहा था'

कहता, 'चिकेन खिलाओ वरना फ़ेल कर दूंगा.'

कमाई के मामले में 'पति पत्नी और वो' ने 'पानीपत' का कचूमर निकाल दिया है

'पानीपत' के लिए आगे का रास्ता अग्निपथ और लथपथ ही है.

दिल तोड़ देने वाले सेमीफाइनल के बाद, धोनी ग्राउंड में नहीं सैनिकों को समर्पित सीरियल में दिखेंगे!

महेंद्र सिह धोनी से जुड़ी किसी खबर का इंतज़ार करते-करते उनके फैंस को 5 महीने से ज़्यादा होने को आए थे.

अगर टीम इंडिया की हार से दुखी हैं तो विराट का ये कैच देखकर मुस्कुरा देंगे

टीम इंडिया की हार का गम मनाने वाले एक बार ये देख लें.

पापा चाहते थे बेटा IAS बने, बेटा बड़ा होकर 'बादशाह' बन गया

जिस आदमी को पहले रैप के लिए 200 रुपए मिले थे, आज उसके पास 1.5 करोड़ रुपए के जूतों का कलेक्शन है.

विराट के विकेट के बाद जश्न मनाने से केसरिक विलियम्स ने किया इन्कार, पूरी टीम से कहा ऐसा!

विराट को आउट करके भी नोटबुक सेलिब्रेशन वाले गेंदबाज़ चुप रहे.

IND vs WI: धोनी न टीम में, न मैच में, फिर भी फैंस उनके लिए ये कर गुजरे

फैंस का ये प्यार देख लें धोनी तो पक्का बल्ला उठाके चले आएं.

दूसरे टी20 से पहले कोहली के नोटबुक सेलिब्रेशन पर पोलार्ड ने क्या कह दिया?

विराट इसे सुनके जरूर खुश होंगे.