Submit your post

Follow Us

जम्मू-कश्मीर के हालात बताए, फिर राज्यपाल बोले- 370 के विरोधियों को लोग जूते मारेंगे

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने 28 अगस्त की शाम प्रेस कॉन्फ्रेंस की. आर्टिकल 370 में हुए बदलाव के बाद कश्मीर के हालातों पर बात की. उनके मुताबिक कश्मीर में स्थिति सामान्य है. वहां सबकुछ सही चल रहा है.

सत्यपाल मलिक ने कहा-

जो फैसले लिए गए हैं, वो जम्मू कश्मीर और लद्दाख के लोगों की बेहतरी के लिए हैं. उनकी तरक्की का रास्ता खोलने के लिए हैं. पूरे देश की तुलना में यहां के लोग पीछे छूट रहे थे, दिक्कतें आ रही थीं. इसलिए ये फैसला लिया गया.

हमारा ये उद्देश्य है कि हम लोगों की भलाई के लिए काम करें. 6 महीने के अंदर जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में इतना कुछ होगा, कि कश्मीर के बाहर के लोग कहेंगे कि हम उनके जैसा होना चाहते हैं.

केंद्र सरकार के सारे मंत्रालयों में बैठकें चल रही हैं. क्या-क्या काम हम वहां कर सकते हैं. लोग विजिट कर रहे हैं. रोज कम से कम एक डेलिगेशन मुझसे मिलता है. इन्वेस्टमेंट समिट हो रही है. बहुत कुछ हो रहा है.

फैसला लेते वक्त हमारा फोकस ये था कि कानून व्यवस्था में दिक्कत न हो. एक भी जान न जाए. बहुत शोर मचाया जा रहा है कि इंटरनेट और टेलीफोन नहीं है, तो दिक्कत हो रही है. दिक्कतें पहले भी होती थीं जब टेलीफोन था ही नहीं. 10-20 दिन इन दिक्कतों को आप भुगत लें. हमारे लिए हर कश्मीरी भाई की जान अहम है. हम एक भी जान का नुकसान नहीं चाहते. एक भी नागरिक की जान नहीं गई, केवल कुछ लोग जिन्होंने हिंसा की वो घायल हुए. हम कुपवाड़ा और हंदवाड़ा में मोबाइल फोन सेवा चालू करने जा रहे हैं. जल्द ही दूसरे ज़िलों में भी फोन कनेक्टिविटी चालू कर दी जाएगी.

50 हजार नौकरियों का ऐलान

हम आज ऐलान करते हैं कि जम्मू-कश्मीर प्रशासन में 50 हजार नौकरियां देंगे. युवाओं से अपील करते हैं कि वो उत्साह के साथ इसमें शामिल हों. अगले 2-3 महीनों में हम ये पद भर देंगे.

मलिक बोले – फोन और इंटरनेट मीडियम ज्यादातर आतंकवादियों और पाकिस्तानियों के काम आता है. मोबलाइज़ करने के काम आता है. ये ऐसा हथियार था, जिसे हमारे खिलाफ इस्तेमाल किया जा रहा था. इसलिए हमने इसे बंद कर दिया. जल्द ही ये सारी सेवाएं फिर से शुरू कर दी जाएंगी.

राहुल गांधी पर भी सत्यपाल मलिक ने बात कही. उन्होंने कहा,

‘राहुल गांधी पर मैं इसलिए नहीं बोलना चाहता क्योंकि वो देश के प्रतिष्ठित परिवार के लड़के हैं. मगर उन्होंने पॉलिटिकल जुवेनाइल की तरह बर्ताव किया. उसी का नतीजा है कि आज यूएनओ में पाकिस्तान की चिट्ठी में उनका बयान दर्ज हुआ. ऐसा नहीं करना चाहिए था. उनको उस दिन बोलना था जब पार्लियामेंट के फ्लोर पर उनकी पार्टी का लीडर कश्मीर के सवाल को यूएन से जोड़कर कह रहा था. वो अगर लीडर था तो उसको बैठाता, डांटता और फिर खुद खड़ा होकर कहता कि हमारा कश्मीर पर ये स्टैंड है. आज तक उन्होंने स्टैंड क्लीयर नहीं किया. मैं बता रहा हूं आपको. मुझे नहीं बताना चाहिए ये कि जिस वक्त देश में चुनाव आएगा, उनके विरोधी को कुछ कहने की जरूरत नहीं है, वो सिर्फ ये कह देंगे कि ये 370 के हिमायती हैं. लोग जूतों से मारेंगे उनको.’


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

दिल्ली की जेल में सजा काट रहे सिख दंगे के दोषी नेता की कोरोना से मौत हो गई

विधायक रह चुके इस नेता की कोरोना रिपोर्ट 26 जून को पॉज़िटिव आई थी.

श्रीलंका का ये क्रिकेटर हत्या के आरोप में गिरफ्तार

44 टेस्ट, 76 वनडे और 26 टी20 खेल चुका है.

लेह में दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने चीन का नाम लिए बिना क्या-क्या कहा?

जवानों पर, बॉर्डर के विकास पर, दुनिया की सोच पर बहुत कुछ बोला है.

ICMR ने एक महीने में कोरोना की वैक्सीन लॉन्च करने का झूठा दावा किया है!

क्या वैक्सीन के ट्रायल में घपला हो रहा है?

भारत-चीन के तनाव के बीच पीएम मोदी ने लद्दाख़ पहुंचकर किससे बात की?

पहले राजनाथ सिंह जाने वाले थे, नहीं गए.

मलेरिया वाली जिस दवा को कोरोना में जान बचाने के लिए इस्तेमाल कर रहे, वो उल्टा काम कर रही है?

हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्विन पर चौंकाने वाली रिसर्च!

इस साल के आख़िर तक मिलने लगेगी कोरोना की 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन!

भारत बायोटेक के अधिकारी ने क्या बताया?

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?