Submit your post

Follow Us

'टोरबाज़' ट्रेलर: संजय दत्त वो एक्स आर्मी ऑफिसर जो बंदूक का जवाब बल्ले से देता है!

एक रिफ्यूजी कैंप, कुछ बच्चे और एक क्रिकेट कोच.

संजय दत्त की नई फिल्म आ रही है, जिसका नाम है ‘टोरबाज़’. 21 नवंबर को इसका ट्रेलर आ गया. फिल्म में संजय दत्त के अलावा नरगिस फाखरी और राहुल देव भी हैं. हमारे देश में क्रिकेट को एक रिलिजन की तरह प्यार किया जाता है. ये कहानी भी इसी खेल के इर्द- गिर्द घूमती है. पहली नजर में क्रिकेट मैच की कहानी लगने वाली ये फिल्म, उससे ज्यादा गहरी है. ट्रेलर से तो ऐसा ही लग रहा है. फिल्म में किसने क्या रोल किया है, किसने फिल्म बनाई है और ट्रेलर के इंट्रेस्टिंग पहलू क्या हैं, सब बताएंगे आपको इस स्टोरी में.

 

क्रिकेट के बैक्ड्राप पर बनी 'टोरबाज़' आतंकवाद जैसे मुद्दे पर बात करती है
क्रिकेट के बैक्ड्राप पर बनी ‘टोरबाज़’ आतंकवाद जैसे मुद्दे पर बात करती है.

क्या है ट्रेलर में?

ट्रेलर के शुरुआत में संजय दत्त बताते हैं कि वो रिफ्यूजी कैंप में बच्चों के लिए क्रिकेट कैंप खोलना चाहते हैं. अब ये रिफ्यूजी कैंप कहां है? तो इसका जवाब है अफगानिस्तान. फिल्म में संजय दत्त एक एक्स आर्मी डॉक्टर का किरदार निभा रहे हैं, जिसने अपनी पत्नी और बेटे को आतंकी हमले में खो दिया. अपने दर्द को अपना मोटिवेशन बना अब वो इन बच्चों की ज़िंदगी में खुशी भरना चाहता है. क्रिकेट के जरिए. पर सुनने में आसान लगने वाला ये काम, वास्तव में मुश्किल बन जाता है.

और इसका कारण बनते हैं राहुल देव, जो एक आतंकी संगठन के लीडर बने हैं. ये आतंकी चाहता है कि बच्चों को एक ही मिशन पर लगे रहना चाहिए. सुसाइड बॉम्बर बनने के मिशन पर.

 

संजय दत्त का किरदार रेफ्यूजी बच्चों को क्रिकेट के जरिए नई दिशा देना चाहता है
संजय दत्त का किरदार रिफ्यूजी बच्चों को क्रिकेट के जरिए नई दिशा देना चाहता है.

ये आतंकी वहां की अमेरिकन आर्मी से बदल लेना चाहता है. बच्चों को सुसाइड बॉम्बर बना, अपने मकसद के लिए शहीद करना चाहता है. वहीं दत्त का किरदार बच्चों से घुलता-मिलता है, उन्हें क्रिकेट खेलने के लिए मनाता है. उसे वहां के लोकल लोगों से भी मदद मिलती है, पर सबसे बड़ी अटकल है वहां सक्रिय टेररिस्ट ग्रुप्स.

ट्रेलर के एक हिस्से में दत्त को बच्चों की फौज के साथ दिखाया गया है, हाथों में बल्ले लिए. वहीं राहुल देव को आतंकियों के साथ , हाथों में बंदूकें लिए. इन दो इरादों में जीत किसकी होती है, ये देखना मजेदार होगा.

 

संजय दत्त एक एक्स आर्मी ऑफिसर बने हैं जिसने आतंकी हमले में अपनी फैमिली खो दी
संजय दत्त एक एक्स आर्मी ऑफिसर बने हैं जिसने आतंकी हमले में अपनी फैमिली खो दी

ट्रेलर में कुछ डाडलॉग वाकई ग्रिपिंग है. जैसे एक सीन में संजय दत्त कहते हैं,

“रिफ्यूजी कैंप में रहने वाले बच्चे टेररिस्ट नहीं होते, बल्कि वो टेररिज़म का पहला शिकार होते हैं.”

कौन-कौन है मूवी में

1. संजय दत्त

 

फिल्म में वे एक्शन करते हुए भी नजर आएंगे
फिल्म में वे एक्शन करते हुए भी नजर आएंगे

इस किरदार के जितने चैलेंजेस बाहर हैं, उतने ही मन के अंदर. ट्रेलर देखकर एक बात साफ है. अपनी भारी आवाज और पर्सनैलिटी के साथ, वो इस किरदार की स्किन में काफी कंर्फटेबल नजर आ रहे हैं.

2. राहुल देव

 

राहुल देव का एक ही मकसद है - अमेरिकन फोर्स से बदला.
राहुल देव का एक ही मकसद है – अमेरिकन फोर्स से बदला.

आपने इन्हें ‘मेरी जंग: वन मैन आर्मी’ में देखा है. वहां इन्होंने निगेटिव किरदार निभाया था, और तब से कई फिल्मों में ऐसे ही किरदार कर चुके हैं. इस फिल्म में भी ये एक ऐसा ही किरदार निभा रहे हैं. फिल्म के ट्रेलर में अपने किरदार की बातें डायलॉग से ज्यादा अपनी आंखों से कही है.

3. नर्गिस फाखरी

नरगिस फाखरी एक अफ़ग़ानी महिला बनी हैं.
नरगिस फाखरी एक अफ़ग़ानी महिला बनी हैं.

‘रॉकस्टार’ फेम नरगिस फाखरी भी इस फिल्म का हिस्सा हैं. वो एक अफ़गान महिला बनी हैं जो वहां के बच्चों की ज़िंदगी बेहतर बनाना चाहती है. हालांकि, ट्रेलर में उन्हें ज्यादा स्पेस नहीं मिला पर ये देखने लायक होगा कि वो फिल्म में अपने किरदार को कैसे पेश करती हैं.

किसने बनाई है

अपनी पहली फिल्म ‘जल (2013)’ के लिए नेशनल अवॉर्ड जीतने वाले डायरेक्टर गिरीश मलिक. इससे पहले इन्हें आपने ‘क्रांतिवीर’, ‘शोला और शबनम’ जैसी फिल्मों में ऐक्टिंग करते हुए भी देखा है. राइटिंग की बात करें तो, इन्होंने भारती जाखड़ के साथ मिलकर फिल्म को लिखा भी है.

कब आएगी फिल्म

नेटफलिक्स ने इस साल जुलाई में कुछ फिल्मों की घोषणा की थी. उन्हीं में से एक ‘टोरबाज़’ थी. हालांकि, तब फिल्म की रिलीज डेट को लेकर कुछ नहीं कहा गया था. पर अब ये बात भी साफ हो गई है. ‘टोरबाज़’ को आप 11 दिसंबर से नेटफ्लिक्स पर देख सकते हैं.

आप ‘टोरबाज़’ का ट्रेलर यहां देख सकते है –


वीडियो: सारा अली खान ने बचपन का किस्सा सुनाया है जब सड़क पर ही डांस करने लगी थीं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ड्रग्स केस: कॉमेडियन भारती सिंह को तीन घंटे की पूछताछ के बाद NCB ने गिरफ्तार किया

मुंबई स्थित घर से एजेंसी ने गांजा बरामद किया था.

मुकेश भाई की रिलायंस के दिए 19 किलो सोने से सजा कामख्या मंदिर देख लो

गुवाहाटी के इस मंदिर की गिनती देश के सबसे पुराने शक्त पीठों में होती है.

नाम से नफरत थी, शिवसेना के नेता ने दे डाला 'कराची स्वीट्स' को अल्टिमेटम

दुकानदार ने साइन बोर्ड पर छिपा दिया 'कराची' शब्द

एक और प्राइवेट बैंक का बंटाधार? RBI को लगानी पड़ी पैसे निकालने की लिमिट

PMC और यस बैंक की तरह ही अब इस बैंक पर भी लगा मोरेटोरियम.

तबलीगी जमात पर सरकार के किस जवाब से सुप्रीम कोर्ट खफा हो गया

तुषार मेहता से सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा?

नीतीश की कैबिनेट में किसे कौन सा मंत्रालय मिला, लिस्ट आ गई है

उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी को कौन से अतिरिक्त मंत्रालय मिले?

बच्चे की चाह में छह साल की बच्ची का कलेजा निकालकर खा गए

तंत्र-मंत्र के चक्कर में बच्ची की हत्या कर उसका शरीर गांव के बाहर फेंक दिया.

गुजरात : धोखाधड़ी का केस होने के बाद BJP नेता ने की आत्महत्या की कोशिश

सूरत के बीजेपी जिला उपाध्यक्ष पीवीएस शर्मा का मामला.

हाथरस कांड की कवरेज में अरेस्ट हुए पत्रकार की ज़मानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा?

आर्टिकल 32 क्या है, जिसके मामलों को हतोत्साहित करने की बात कोर्ट ने कही.

गुजरात : सूरत BJP के उप जिलाध्यक्ष के यहां इनकम टैक्स का छापा, फ़्रॉड और धोखाधड़ी का केस दर्ज

अधिकारियों के खिलाफ़ ट्वीट, आयकर विभाग का छापा और मुक़दमा.