Submit your post

Follow Us

सलमान खान और आसाराम का केस लड़ने वाले वकील का निधन

राजस्थान हाईकोर्ट के सीनियर वकील महेश बोड़ा का 31 अक्टूबर को निधन हो गया. उन्होंने प्राइवेट हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली. वो लंबे समय से बीमार चल रहे थे. बोड़ा सलमान खान और आसाराम के वकील थे. काला हिरण शिकार मामले में सलमान के खिलाफ जोधपुर में केस चल रहा है. महेश बोड़ा ही उनका केस लड़ रहे थे. साथ ही आसाराम का केस भी बोड़ा ने लड़ा था.

बोड़ा ने साल 1979 में वकालत की डिग्री ली थी. 1981 से राजस्थान हाईकोर्ट में प्रैक्टिस शुरू कर दी थी. साल 2001 में राजस्थान हाईकोर्ट एडवोकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्वाचित हुए थे. उनकी अंतिम इच्छा थी कि उनके शरीर को दान किया जाए. इसलिए उनके परिवार वाले इस इच्छा को पूरा कर रहे हैं. बोड़ा के परिवार वाले जोधपुर के संपूर्णानंद मेडिकल कॉलेज को शव दान कर रहे हैं.

27 सितंबर को बोड़ा कोर्ट भी गए थे

सितंबर के महीने में काला हिरण मामले में सलमान की कोर्ट में पेशी थी. जहां वो उपस्थित नहीं हुए थे. तब  बोड़ा ने सलमान के लिए हाजिरी माफी की अर्जी पर सुनवाई के दौरान दलील पेश की थी. इस दौरान बोड़ा ने कुछ ऐसा कह दिया था कि जज भड़क गए थे.

बोड़ा ने जज से कहा था, ‘क्या वह सलमान खान का चेहरा देखने के लिए उन्हें बुलाना चाहते हैं?’. इस सवाल पर जज ने चौंकते हुए कहा, ‘क्या, मैं?’. फिर बात को संभालते हुए बोड़ा ने कहा, ‘नहीं मैं बाकी लोगों का कह रहा हूं, क्या वह सलमान खान का चेहरा देखना चाहते हैं?’

काला हिरण मामले में हुई आखिरी सुनवाई में बोड़ा ने दो अर्जियां डाली थीं. एक में कहा था कि ‘आज के दिन सलमान को हाजिरी माफी दी जाए, क्योंकि वो शूटिंग में बिजी हैं, इसलिए आ नहीं सकते हैं.’ (नोट- यहां आज के दिन से मतलब है 27 सितंबर. क्योंकि सुनवाई इसी दिन थी.)

दूसरी अर्जी में अपील की थी कि सलमान को हमेशा के लिए सुनवाई के दौरान पेशी से छूट दी जाए. कहा था कि अपील में सुनवाई के दौरान सलमान खान को हाजिर होना जरूरी नहीं है. जब सुनवाई पूरी हो जाएगी तब वो आ जाएंगे.


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लॉकडाउन 4: दफ़्तरों के लिए क्या गाइडलाइंस हैं?

इस लॉकडाउन में तमाम तरह की छूट दी गई हैं.

प्रियंका गांधी वाड्रा की 1000 बसों में कुछ नंबर ऑटो और कार के कैसे निकल गए?

हालांकि संबित पात्रा ने भी जिस बस को स्कूटर बताया, वहां एक पेच है.

मज़दूरों की लाश की ऐसी बेक़द्री पर झारखंड के सीएम कसके गुस्साए हैं

घायल मज़दूरों के साथ अमानवीय व्यवहार करने का आरोप.

कोरोना की वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, जल्द ही आखिरी स्टेज का टेस्ट होने की उम्मीद

जुलाई के महीने को लेकर अहम बात भी कह डाली है.

केजरीवाल ने लॉकडाउन 4 में बहुत सारी छूट दे दी हैं

ऑड-ईवन आ गया, लेकिन ट्रांसपोर्ट में नहीं.

लॉकडाउन 4: पर्सनल गाड़ी से शहर या राज्य के बाहर जाने के क्या नियम हैं?

केंद्र सरकार ने इस पर क्या कहा है?

कोरोना संक्रमण के बीच स्विगी ने बहुत बुरी खबर दी है

दो दिन पहले जोमैटो ने भी ऐसा ही ऐलान किया था.

ममता बनर्जी ने लॉकडाउन के नियमों में बहुत बड़ा बदलाव किया है

केंद्र सरकार की नई बात मानने से मना कर दिया!

लॉकडाउन 4.0: सरकार ने जारी की गाइडलाइंस, जानें क्या खुलेगा और क्या बंद रहेगा

31 मई तक के लिए लॉकडाउन बढ़ाया गया है.

घर जाने को लेकर राजकोट में 500 मज़दूरों का सब्र जवाब दे गया, सड़क पर उतरे

हंगामे के बीच पुलिस घायल, किसी तरह शांत हुआ मामला.