Submit your post

Follow Us

संघ के ऑफिस में बम फेंकना चाहता था RSS वर्कर, पुलिस पिकेट में जा गिरा

केरल का कन्नूर ज़िला. यहां थालासेरी नाम का एक इलाका है. इस इलाके से गुजरने वाली नायनर रोड पर पुलिस पिकेट के पास 16 जनवरी की सुबह बम विस्फोट हुआ था. 21 जनवरी की शाम पुलिस ने बम फेंकने के आरोप में प्रबेश नाम के एक आदमी को गिरफ्तार किया. गिरफ्तारी तमिलनाडु के कोयंबटूर से हुई. प्रबेश RSS कार्यकर्ता है.

अब इस केस में नई बात पता चली है. ये कि प्रबेश असल में पुलिस पिकेट पर नहीं बल्कि उसके सामने बने RSS के ऑफिस में बम फेंकना चाह रहा था. कथिरुर के सब इंस्पेक्टर एम निजीश का कहना है,

‘उसने 16 जनवरी की सुबह-सुबह बम फेंका था. गिरफ्तारी के बाद उसने बताया कि वो असल में RSS के ऑफिस में बम फेंकना चाह रहा था. राजनीतिक नजरिए से देखा जाए तो कन्नूर काफी संवेदनशील ज़िला है. किसी भी राजनीतिक पार्टी के ऑफिस में किसी भी तरह के अटैक को विपक्षियों की हरकत के तौर पर देखा जाता है. उस इलाके में हमारा एक पुलिस पिकेट है. पिछले कुछ महीनों से. हमें लगता है कि प्रबेश उस इलाके में बम फेंककर अशांति के हालात बनाकर पुलिस को हटाना चाहता था. हमें स्थिति के बारे में वहां लगे सीसीटीवी फुटेज से पता चला. घटना के तुरंत बाद ही उसकी पहचान हो गई थी. घटना के बाद वो कोयंबटूर जाकर छिप गया था. हमारी टीम ने उसे वहां से पकड़ लिया.’

पुलिस ने जानकारी दी कि प्रबेश के खिलाफ पहले से ही कुछ आपराधिक मामले दर्ज हैं. एक और बात जिस RSS ऑफिस में प्रबेश बम फेंकना चाह रहा था, उसका नाम कथिरुर मनोज स्मृति केंद्रम है. ऑफिस का नाम RSS के वरिष्ठ कार्यकर्ता कथिरुर मनोज के नाम पर रखा गया था. कथित तौर पर जिन्हें CPI(M) कार्यकर्ताओं ने साल 2014 में मार दिया था. मनोज पर CPI(M) के वरिष्ठ नेता पी जयराजन की हत्या की कोशिश करने का आरोप लगा था.


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.