Submit your post

Follow Us

पीएम मोदी ने एचडी देवेगौड़ा के साथ क्या किया कि वे उनकी तारीफ करते नहीं थक रहे!

एचड़ी देवेगौड़ा. देश के पूर्व प्रधानमंत्री, जिन्होंने मौजूदा पीएम नरेंद्र मोदी की जमकर तारीफ कर दी है. एचडी देवेगौड़ा का कहना है कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के व्यक्तित्व से काफी प्रभावित हुए हैं. जनता दल (सेक्युलर) के राष्ट्रीय अध्यक्ष देवेगौड़ा ने कुछ घटनाओं का जिक्र करते हुए कहा है कि नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के प्रति उनका सम्मान कई गुना बढ़ा है. इनमें वो वाकया भी शामिल है, जब प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने उनकी लोकसभा से इस्तीफा देने की इच्छा ठुकरा दी थी.

क्या बोले देवेगौड़ा?

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक 2014 के आम चुनावों का जिक्र करते हुए एचडी देवेगौड़ा ने कहा,

“मैंने उनसे (नरेंद्र मोदी) कहा था कि अगर आप 276 सीटें जीतते हैं तो मैं इस्तीफा दे दूंगा. आप दूसरों के साथ गठबंधन करके शासन कर सकते हैं. लेकिन अगर आप अपने दम पर 276 सीटें जीतते हैं, तो मैं (लोकसभा से) इस्तीफा दे दूंगा.”

एचडी देवेगौड़ा का ये यकीन गलत साबित हुआ कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी बहुमत वाली सरकार नहीं बना पाएगी. अब वे खुद कह रहे हैं कि बीजेपी अपने दम पर सत्ता में आई, जिसके बाद उन्हें अपने किए वादे को पूरा करने की इच्छा हुई थी, लेकिन मोदी ने उनसे आग्रह किया था कि वे ऐसा ना करें. JD(S) प्रमुख ने याद करते हुए कहा कि जीत के बाद पीएम बने मोदी ने उन्हें व्यक्तिगत रूप से शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए न्योता भी दिया था.

जब मोदी ने किया देवेगौड़ा का स्वागत

देवेगौड़ा ने बताया कि शपथ समारोह खत्म होने के बाद उन्होंने PM मोदी से मिलने का समय मांगा था. इसके लिए उन्होंने सहमत दे दी थी. पूर्व प्रधानमंत्री ने बताया कि जब उनकी कार संसद के परिसर में पहुंची तो प्रधानमंत्री मोदी खुद उनका स्वागत करने के लिए वहां खड़े थे. इस बारे में देवेगौड़ा ने कहा,

“मुझे तब घुटने में दर्द था, जो अभी भी है. वे जिस भी तरह के व्यक्ति हों, उस दिन जब मेरी कार वहां पहुंची, मोदी खुद आए, मेरा हाथ पकड़कर मुझे अंदर ले गए. उनका ये व्यवहार उस व्यक्ति के लिए था, जिसने उनका (मोदी) इतना विरोध किया था.” 

पूर्व पीएम देवेगौड़ा मोदी से काफी प्रभावित हैं.
                                            पूर्व पीएम देवेगौड़ा मोदी से काफी प्रभावित हैं.

पीएम मोदी ने खुद में किया बदलाव

एचडी देवेगौड़ा का ये भी कहना है कि बतौर राजनेता पीएम मोदी ने खुद में बदलाव किया है. उन्होंने कहा,

“मैंने उनसे कहा कि मैं अपनी बात पर कायम हूं. कृपया मेरा इस्तीफा स्वीकार करें. उन्होंने मुझसे कहा कि मैं चुनाव के दौरान बोली जाने वाली चीजों को इतनी गंभीरता से क्यों ले रहा हूं. उन्होंने ये भी कहा कि जब भी (कोई विपरीत) स्थिति उत्पन्न होगी, तो उन्हें मेरे साथ मामलों पर चर्चा करने की आवश्यकता होगी.”

देवेगौड़ा ने कहा कि इस वाकये के बाद उनके मन में मोदी के लिए सम्मान काफी बढ़ गया. गोधरा की घटना के बाद उन्होंने गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री का विरोध किया था और उस समय उन्होंने संसद में मोदी के खिलाफ भाषण भी दिए थे. लेकिन अब वे कह रहे हैं बतौर पीएम नरेंद्र मोदी से मिलने के बाद उनका नजरिया बदल दिया है. देवेगौड़ा ने कहा,

“मैंने उनके व्यक्तित्व में बदलाव देखा. वे गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में जो थे और प्रधानमंत्री बनने के बाद वे क्या हैं, उसमें काफी अंतर है.”

देवेगौड़ा ने ये भी कहा कि जब भी उन्होंने मोदी से मिलने की इच्छा व्यक्त की, वे मिलने के लिए तुरंत तैयार हो गए. अब तक वे मोदी से 6-7 बार मिल चुके हैं.


 वीडियो: क्या है ‘ज़ीरो बजट फ़ार्मिंग’ जिसको PM से लेकर वित्त मंत्री तक प्रमोट कर रहे हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.