Submit your post

Follow Us

'मैं धारक को मूर्ख बनाने का वचन देता हूं'

2.08 K
शेयर्स

नोटबंदी हुए 100 से कुछ ज़्यादा दिन हो गए हैं. हालांकि प्रधानमंत्री ने 50 दिन मांगे थे. लेकिन हालात हैं कि सामान्य होने का नाम नहीं ले रहे हैं. न लोगों के लिए, न रिजर्व बैंक और सरकार के लिए. नोटबंदी के फैसले और उसे लागू करने के तरीके पर लगातार सवाल उठाए गए. नोटबंदी का एजेंडा जिस तरह कालेधन से ई-पेमेंट पर आया, उससे लोगों को ये भी लगा कि उन्हें मूर्ख बनाने की कोशिश हुई. अब एक मीडिया रिपोर्ट आई है जिसके मुताबिक इस बात की संभावना है कि रिजर्व बैंक ने रघुराम राजन के गवर्नर रहते उर्जित पटेल के दस्तखत वाले नोट छाप दिए हों.

हर नोट एक कागज़ का टुकड़ा बस होता है. इसकी कीमत उस गारंटी से होती है जो केंद्र सरकार देती है. ‘ मैं धारक को…’ वाली लाइन के नीचे रिजर्व बैंक गवर्नर का दस्तखत इस बात की तस्दीक करता है. एक गवर्नर के कार्यकाल में छपने वाले नोटों पर उसके दस्तखत होते हैं.

गवर्नर पद के लिए उर्जित का नाम 21 अगस्त को सामने आया था. उन्होंने गवर्नर पद का चार्ज 4 सितंबर को लिया. लेकिन ‘हिंदुस्तान टाइम्स’  के हवाले से खबर है कि रिज़र्व बैंक के दो प्रेस में 2000 के नोट छापने के ‘प्रारंभिक कदम’ 22 अगस्त 2016 को ही उठाए लिए गए थे. इस तरह कम से कम कुछ नोटों पर रघुराम राजन के दस्तखत होने चाहिए थे.

रघुराम राजन. (फोटोःरॉयटर्स)
रघुराम राजन. (फोटोःरॉयटर्स)

एक बात ये भी है कि रिजर्व बैंक को 2000 के नए नोटों को छापने की अनुमति केंद्र सरकार ने 7 जून 2016 को ही दे दी थी. इसके बाद नई सीरीज़ छापने की तैयारी शुरू कर दी थी. आमतौर पर नए नोट छापने का आदेश मिलते ही प्रेस में छपाई शुरू हो जाती है. ये सब खुद रिजर्व बैंक ने दिसंबर में एक संसद समीति को बताया था.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट में एक बात और सामने आई है. 500 के नए नोटों की छपाई 23 नवंबर को ही शुरू हुई. साफ है कि नोटबंदी की घोषणा के वक्त सरकार (और रिज़र्व बैंक का भी) ध्यान केवल 2000 के नोट छापने पर था. इस से बाज़ार में चिल्लर की जो कमी हुई, उस पर पर्याप्त लिखा जा चुका है.

currency-death-story_647_111516013911

इस बात से दो महत्वपू्र्ण सवाल खड़े होते हैंः

पहला ये कि क्या नोटों पर पटेल के दस्तखत होने से किसी नियम की अनदेखी हुई?

दूसरा ये कि रघुराम राजन का जाना तय होने के बाद बड़े लंबे समय तक इस बात पर संशय था कि उनकी जगह कौन लेगा. राजन के रिटायर होने की तारीख के बहुत नज़दीक आने पर ही उर्जित का नाम सामने आया. यदि मीडिया रिपोर्ट में जताई संभावना वाकई में सच है तो क्या सरकार ने गवर्नर पद की अपनी पसंद जानबूझ कर लोगों से छुपाई? ऐसा क्यों हुआ?

रिज़र्व बैंक एक महत्वपूर्ण संस्था है जिसके काम करने के तरीके पर पिछले दिनों कई प्रश्न उठे हैं. खासकर इस बात पर कि कहीं बैंक सरकार के प्रभाव में तो काम नहीं कर रहा, जिसका डर जताया जा रहा है. 


ये भी पढ़ेंः

2000 रुपये के नकली नोट दबा के आ रहे हैं इंडिया में, पहचानना सीख लें

बैंक की कतार में पैदा हुए इस बच्चे का बीजेपी के खिलाफ यूं इस्तेमाल कर रही सपा

नोटबंदी के फैसले को लागू करने से ‘अपमानित’ हो गए RBI के एम्प्लॉइज

‘RBI गवर्नर से पूछा गया, आपको पद से क्यों न हटाया जाए और मुकदमा चले?’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

इंडिया के लिए गोल्ड जीतने वाले वो खिलाड़ी जिनकी कोई बात नहीं कर रहा

ये खिलाड़ी भी पीवी सिंधु की तरह मोदी से मिलना चाहते हैं, आशीर्वाद लेना चाहते हैं.

जम्मू-कश्मीर के हालात बताए, फिर राज्यपाल बोले- 370 के विरोधियों को लोग जूते मारेंगे

राहुल गांधी पर भी जमके बोले सत्यपाल. 50 हजार नौकरियों की घोषणा.

मोदी के इस काम को बॉलीवुड कर रहा है सपोर्ट

मोदी ने लाल किले से ऐसा क्या कहा था कि बॉलीवुड वाले तुरंत उनके पीछे-पीछे भागने लगे.

मेलानिया, ट्रूडो और ट्रंप की इस तस्वीर में ऐसा क्या आपत्तिजनक था कि पूरा सोशल मीडिया पगला गया?

#MelaniaLovesTrudeau ट्रेंड करने लगा था, अब सच्चाई जान लीजिए.

जीत पीवी सिंधु को मिली लेकिन PM से मुलाकात करने कोरिया की महिला क्यों गईं?

पीवी सिंधु के साथ दिख रही ये महिला आखिर है कौन?

कैसे एक राष्ट्रपति की पत्नी पर किया गया कमेंट, दुनिया को बर्बाद कर सकता है

एमेजॉन के जंगल की आग को लेकर ब्राज़ील के प्रेजिडेंट सीरियस क्यूं नहीं हैं?

विंग कमांडर एस धामी, जो भारतीय वायुसेना में पहल करने का रिकॉर्ड बनाने वाली हैं

भारतीय वायुसेना में हेलिकॉप्टर यूनिट की फ्लाइट कमांडर हैं. भारत के सबसे बड़े एयरफोर्स स्टेशन पर तैनात हैं.

आप पीवी सिंधु को जानते हैं तो मानसी जोशी को क्यों नहीं?

सिंधु के पहले मानसी ने गोल्ड जीता, मगर उनके बारे में बात क्यों नहीं हुई?

टाटा-बाय कर रहे राहुल गांधी को अचानक लड़के ने चूम लिया, वीडियो वायरल!

अब राहुल जरूर पीएम मोदी का दर्द समझे होंगे.

पाकिस्तान वाले इंडियन प्रोडक्ट्स का बहिष्कार करने लगे, पर एक जगह चूक गए

सोशल मीडिया पर दोनों देशों के बीच की खटास हैशटैग में बदल गई है.