Submit your post

Follow Us

रणजी ट्रॉफी: महाराष्ट्र के साथ 79 सालों में पहली बार हुआ ऐसा

रणजी ट्रॉफी का साल 2019-20 का सीज़न चल रहा है. इसके एलिट ग्रुप के मुकाबले खेले जा रहे हैं. 3 जनवरी को ग्रुप सी के मुकाबले में महाराष्ट्र और सर्विसेज़ के मैच में वो हो गया जो पिछले 79 सालों में कभी नहीं हुआ. सर्विसेज़ की टीम ने बड़ा उलटफेर करते हुए महाराष्ट्र को महज़ 44 रनों पर ऑल-आउट कर दिया. जो कि इतिहास में महाराष्ट्र की टीम का दूसरा सबसे कम स्कोर है.

इससे पहले 1941/42 के सीज़न में महाराष्ट्र की टीम रणजी ट्रॉफी मैच में 39 के स्कोर पर ऑल-आउट हुई थी. नवानगर के खिलाफ जामनगर में मैच खेला गया था. इसमें महाराष्ट्र की टीम ने ये स्कोर बनाया था. ये महाराष्ट्र की टीम का रणजी ट्रॉफी में सबसे कम स्कोर है.

तीन जनवरी यानी शुक्रवार को महाराष्ट्र की टीम टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी के लिए उतरी. लेकिन ये फैसला गलत साबित हुआ. पूरी टीम महज़ 30.2 ओवरों में ऑलआउट हो गई. उनकी टीम के 11 में से नौ बल्लेबाज़ दहाई के आंकड़े तक भी नहीं पहुंच सके. जबकि टीम के पांच बल्लेबाज़ तो खाता खोलने में भी नाकाम रहे.

सर्विसेज़ के गेंदबाज़ पूनम पूनिया ने इस पारी में पांच विकेट अपने नाम किए. वहीं सच्चिदान्नद पांडे ने तीन और देवेश पठानिया ने दो विकेट चटकाए.

महाराष्ट्र की टीम को 44 रनों पर ऑल-आउट करने के बाद सर्विसेज़ की टीम ने पहले दिन का खेल खत्म होने तक मुकाबले पर मजबूत पकड़ बना ली थी.

महाराष्ट्र के लिए ये रणजी सीज़न बिल्कुल भी खास नहीं गुज़र रहा है. उन्होंने इस सीज़न में तीन में से अपने दो मुकाबले पहले ही गंवा दिए हैं. जबकि एक मैच ड्रॉ पर खत्म हुआ था.

वहीं दूसरी तरफ सर्विसेज़ की टीम ने इस सीज़न में तीन मैचों में से एक मैच जीता है. जबकि एक हार और एक ड्रॉ खेला है.


भारत-श्रीलंका टी-20 सीरीज के लिए श्रीलंका टीम में हुई इस पूर्व कप्तान की वापसी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

तय समय पर परीक्षा कराने के लिए 150 शिक्षाविदों ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी.

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

बीजेपी नेताओं के खिलाफ़ याचिका ख़ारिज करते हुए अदालत ने और क्या कहा, ये भी पढ़िए.

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.

महाराष्ट्र: रायगढ़ में पांचमंज़िला इमारत ढही, 50 से ज़्यादा लोग दबे

एनडीआरएफ की तीन टीमें राहत के काम में जुटी हैं.

क्या 73 दिन में कोरोना वैक्सीन आ रही है? बनाने वाली कंपनी ने बताई सच्ची-सच्ची बात

कन्फ्यूजन है कि खुश होना है या अभी रुकना है?

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?